करोना वायरस डायरी- शैल अग्रवाल

जीवन चलाने के लिए जीवन को ही दांव पर लगा दिया गया।
———————————-
विज्ञान के दम पर विकास की कीमत वैसे तो मानव वायु और जल जैसे जीवनदायिनी एवं अमृतमयी प्राकृतिक संसाधनों के दूषित होने के रूप में चुका ही रहा था किंतु यही विज्ञान उसे कोरोना नामक महामारी भी भेंट स्वरूप देगा इसकी तो उसने स्वप्न में भी कल्पना नहीं की होगी। अब जब मानव प्रयोगशाला का यह जानलेवा उपहार उस पर थोपा जा ही चुका है तो निसंदेह उसे प्रकृति के सरंक्षण और उसके करीब रहने का महत्व समझ आ गया होगा। लेकिन वर्तमान में इससे अधिक महत्वपूर्ण विषय है कोरोना महामारी पर मानव जाति की विजय। आज की वस्तुस्थिति तो यह है कि लगभग सम्पूर्ण विश्व ही कोविड 19 के समक्ष घुटने टेके खड़ा है। ना इसका कोई सफल इलाज मिल पाया है और ना ही कोई वैक्सीन। दावे तो कई देशों की ओर से आए लेकिन ठोस नतीजों का अभी भी इंतजार है, उम्मीद अभी भी बरकरार है। अपेक्षा है कि विश्व के किसी न किसी देश के वैज्ञानिकों शीघ्र ही दुनिया को इस महामारी पर अपनी विजय की सूचना देंगे।
वैसे तो इसके इलाज के लिए कई प्रयोग हुए। हाईड्रोक्लोरोक्विन अकेले या फिर स्वाइन फ्लू मलेरिया और एड्स तीनों बीमारियों में इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं का कॉम्बिनेशन, प्लाज्मा थेरेपी जैसे अनेक असफल प्रयोग हुए। कोरोना के शुरुआत में इससे बचाव ही इसका एकमात्र इलाज बताया गया और विश्व के हर देश ने अपने यहाँ लॉक डाउन कर लिया। लेकिन जीवन रूकने नहीं चलने का नाम है तो लॉक डाउन में विश्व कब तक रहता। वैसे भी लॉक डाउन से कोरोना की रफ्तार कम ही हुई थी, थमी नहीं थी और लॉक डाउन के अपने नुकसान थे जो गिरती अर्थव्यवस्था, बेरोजगारी, असंगठित क्षेत्र के कर्मचारियों के आय के स्रोत बन्द हो जाने जैसे तमाम व्यवहारिक समस्याओं के रूप में सामने आने लगे। अब सरकारों के पास लॉक डाउन खोलने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा। जीवन चलाने के लिए जीवन को ही दांव पर लगा दिया गया। क्योंकि डब्ल्यू एच ओ ने आशंका जाहिर की है कि शायद कोरोना का इलाज या उसकी वैक्सीन कभी नहीं आ पाए इसलिए हमें कोरोना के साथ जीना सीखना होगा। साथ ही डब्ल्यू एच ओ ने भारत जैसे विशाल जनसंख्या वाले देशों को हर्ड इम्युनिटी यानी सामूहिक रोगप्रतिरोधक क्षमता के सिद्धांत को अपनाने की सलाह दी। जिसका आधार यह है कि भारत जैसे देश की अधिकतर जनसंख्या युवा है जिसकी रोगप्रतिरोधक क्षमता अच्छी होती है। इसलिए जब बड़ी आबादी में कोरोना से संक्रमण होगा तो उसमें वायरस के प्रति रोगप्रतिरोधक क्षमता का विकास होगा।
दरअसल इससे पहले 1918 में भी स्पेनिश फ्लू नाम की जानलेवा महामारी विश्व में फैली थी जो लगभग 15 महीने तक रही थी और इसने विश्व की एक तिहाई जनसंख्या को अपनी चपेट में लिया था और इसके कारण लगभग 100 मिलियन लोगों की मौत हुई थी। तब भी इसका कोई इलाज नहीं मिल पाया था। लेकिन डेढ़ साल में यह अपने आप ही खत्म हो गई क्योंकि जो इससे संक्रमित हुए वे या तो मृत्यु को प्राप्त हुए या उनके शरीर में इसके प्रति रोगप्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न हो गई।
लेकिन हर्ड इम्युनिटी की बात करते समय हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि इस सिद्धांत का मूल स्वस्थ शरीर पर टिका होता है जबकि आज की सच्चाई यह है कि भारत समेत विश्व के अधिकांश देशों के युवा आज आधुनिक जीवनशैली जनित रोगों की चपेट में हैं कम उम्र में मधुमह, उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियों से ग्रस्त हैं फास्टफूड, सिगरेट तम्बाकू शराब और ड्रग्स के सेवन से उनकी रोगप्रतिरोधक क्षमता नगण्य है इसलिए भारत में यह सिद्धांत कितना सफल होगा यह तो वक्त ही बताएगा।साथ ही हमें यह भी नहीं भूलना चाहिए कि कोरोना के शुरुआत में ब्रिटेन ने भी हर्ड इम्युनिटी का सिद्धांत ही अपनाया था लेकिन अपने यहाँ बढ़ते संक्रमण और मौत के बढ़ते आंकड़ों ने दो सप्ताह से भी कम समय में उसे लॉक डाउन करने के लिए मजबूर कर दिया था।
इसलिए अब जब यह बात सामने आने लगी है कि कोरोना वायरस एक प्राकृतिक वायरस ना होकर मानव निर्मित वायरस है, तो हमें भी अपनी पुरानी और पारंपरिक सोच से आगे बढ़ कर सोचना होगा। वैसे तो विश्व भर में इसका इलाज खोजने के लिए विभिन प्रयोग चल रहे हैं लेकिन यह कार्य इतना आसान नहीं है क्योंकि आज तक सर्दी जुखाम जैसे साधारण से प्राकृतिक वायरल इंफेक्शन का भी कोई इलाज नहीं खोज जा सका है। वह स्वतः ही तीन से चार दिन में ठीक होता है केवल इसके लक्षण कम करने के लिए दर्द निवारक गोली और रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए कोई मल्टीविटामिन दिया जाता है। लेकिन वहीं स्माल पॉक्स, मीसेल्स, चिकनपॉक्स, जैसी वायरल बीमारियों की वैक्सीन बना ली गयी है। वैक्सीन भी रोगप्रतिरोधक क्षमता के सिद्धांत पर ही काम करती है जिसमें बीमारी के कुछ कमजोर कीटाणु स्वस्थ मानव शरीर में पहुंचाए जाते हैं। इसलिए वैक्सीनेशन के बाद बुखार आना स्वाभाविक लक्षण माना जाता है और वैक्सीन द्वारा मानव शरीर में पहुँचाई गई कीटाणुओं की अल्प मात्रा के खिलाफ लड़ कर शरीर उस बीमारी से लड़ने की क्षमता हासिल कर लेता है।
लेकिन कोरोना वायरस साधारण वायरस नहीं है और ना ही प्राकृतिक है ईसलिए ये साधारण दवाएं और सिद्धांत इसके इलाज में कारगर सिद्ध होंगे इसमें संदेह है।
जिस प्रकार लोहा ही लोहे को काटता है और जहर ही जहर को मारता है, कृत्रिम कोरोना वायरस का इलाज एक दूसरा कृत्रिम वायरस ही हो सकता है। जैसे कोरोना वायरस को लैब में तैयार किया गया है, ठीक वैसे ही एक ऐसा वायरस लैब में तैयार किया जाए जो कोरोना वायरस का तोड़ हो, जो उसे नष्ट कर दे। जी हाँ ये संभव है। काफी समय से मानव शरीर के हित में उपयोग में लाने के लिए वायरस की जेनेटिक इंजीनियरिंग की जा रही है। जेनेटिक इंजीनियरिंग की मदद से ही कई पौधों के ऐसे बीज आज निर्मित किए जा चुके हैं जो पैदावार भी बढ़ाते हैं और जिनकी प्रतिरोधात्मक क्षमता इतनी अच्छी होती है कि वे संक्रमित नहीं होते। ऐसी फसल को जी एम फसल कहा जाता है। इसी तकनीक से वैक्सीन भी बनाई जा चुकी है। इस विधि का प्रयोग करके जो वैक्सीन तैयार की जाती है उसे रिकॉम्बीनेन्ट वैक्सीन कहते हैं। इस प्रकार जो पहली वैक्सीन तैयार की गई थी वो हेपेटाइटिस बी के लिए थी जिसे 1986 में मंजूर किया गया था।
दरअसल वायरस और बैक्टीरिया प्रजाति को अभी तक अधिकतर बीमारी फैलने और मानव शरीर पर आक्रमण करने के लिए ही जाना जाता रहा है। पर सभी वायरस और बैक्टीरिया ऐसे नहीं होते। कुछ वायरस और बैक्टीरिया तो मानव के मित्र होते हैं और सैकड़ों की संख्या में मानव शरीर में मौजूद रहते हैं। और कुछ वायरस तो ऐसे होते हैं तो बीमारी फैलाने वाले बैक्टीरिया को नष्ट करते हैं इन्हें बैक्टेरियोफेज के नाम से जाना जाता है।
इसी प्रकार वायरस के द्वारा कैंसर का इलाज खोजने की दिशा में भी वैज्ञानिकों ने उत्साहवर्धक नतीजे प्राप्त किए हैं इसे जीन थेरेपी कहा जाता है जिसके द्वारा लाइलाज कहे जाने वाले कई अनुवांशिक रोगों का भी इलाज खोजा जा रहा है। वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के स्ट्रक्चर यानी उसके ढांचे का पता लगा लिया है। अब उन्हें ऐसा वायरस जो ह्यूमन फ्रेंडली यानी मानव के शरीर के अनुकूल हो उसमें जेनेटिक इंजीनियरिंग की सहायता से ऐसे गुण विकसित करने होंगे जो मानव शरीर को नुकसान पहुंचाए बिना शरीर में मौजूद कोरोना वायरस के सम्पर्क में आते ही उसे नष्ट कर दे।
समस्या का हल ढूंढने के लिए उसकी जड़ तक पहुंचना पड़ता है, वो जहाँ से शुरू होती है, उसका हल वहीं कहीं उसके आस पास ही होता है। इसलिए कोरोना नामक प्रश्न जिसकी शुरुआत एक मानव निर्मित वायरस से हुई उसका उत्तर एक मानव निर्मित ह्यूमन फ्रेंडली वायरस ही हो सकता है।जब तलवार का निर्माण किया जा सकता है तो ढाल भी अवश्य ही बनाई जा सकती है आवश्यकता है दृढ़ इच्छाशक्ति और सब्र की।

डॉ नीलम महेंद्र
(लेखिका वरिष्ठ स्तंभकार है)

24-5-2020

कोरोना वायरस हमें और हमारे समाज को बदल रहा है। हम यहाँ आपको इससे जुड़ी वो खबरें देते रहेंगे जो प्रेरित या विचलित करती हैं। यह एक अनहोनी और अप्रत्याशित घटना है। खबरें ही खबरें हैं चारो तरफ , भय, षडयंत्र, त्याग, हर भाव से भरी।
चन्द शब्द चित्र

यू.के से
1.
घर के बाहर सड़कों का सन्नाटा शोर कर रहा है, न कोई कार न आदमी, एकाध बच्चे जरूर मास्क लगाए साइकिल चलाते चुपचाप माँ के साथ टहलते दिख जाते हैं या फिर इक्के-दुक्के दौड़ते लोग…कहते हैं इस देश का सबसे बड़ा शहरी पार्क है यह।

2. रात भर मरीजों के साथ ड्यूटी देकर जब नर्स अस्पताल से निकली तो भूख के मारे अंतड़ियाँ कुड़कुड़ा रही थीं । रेस्टोरैंन्ट सब बन्द और सुपर मार्केट के रैक खाली, कहाँ जाती, क्या खाती! कल की किसे पता…हो सकता है महीनों सामान न मिले , सोचकर लोग जितना भर सकते थे रात में ही अपने-अपने घर ले गए थे और अब उसके लिए वहाँ कुछ नहीं था। बेकाबू भूख और गुस्से के मारी वहीं फफक-फफककर रो पड़ी बेचारी।

3. केयर होम से फोन आया, पापा ठीक नहीं। क्या अंतिम बार बात करना चाहेगी वह उनसे। धिक्कार उठी वह खुदको क्या जरूरत थी बूढ़े माँ-बाप को वहाँ भेजने की । तीन महीने पहले ही तो छोड़कर कर आई थी, बेहतर देखभाल होगी यह सोचकर। करती भी क्या करती पर; घर, नौकरी, बच्चे उसपर से बूढ़े माँ-बाप, नहीं संभल रहे थे। पर अब आंसू नहीं रुक रहे थे। हफ्ते भर पहले ही माँ बिछुड़ी थीं और अब पापा भी, चन्द पलों के ही… न माँ से मिल पाई और ना ही पापा से। बात तक नहीं हुई। जाना मिलना सब मना है। बिना एक भी मिनट गंवाए विडियो कौल की तो पापा की आंखों में उसे देखते ही चमक आ गई। हाथ आशीर्वाद देने को उठा ही था कि बेजान एक ओर लुढ़क गया । फटी आँखों में एक भयभीत चीख जम गई सामने कौरिडोर में कई कौफिन एक के ऊपर एक लाइन में तैयार रखे थे।

4. जब भी डॉक्टर बेटा अस्पताल से लौटता तो कलेजा मुंह को आ जाता थका चेहरा देखकर- …अशुभ सोचना नहीं पर न सोचते हुए भी भय घेर लेता। जबतक नहा धोकर खा-पीकर बेटा वापस स्वस्थ न दिखने लग जाता कुछ खा तक नहीं पाती और दूसरे से तो बगल में रहकर भी मिलना जुलना बन्द । भगवान इन स्टेथ्सकोप से लड़ते सैनिकों की सदा रक्षा करे …

5. वेन्टिलेटर की बहुत कमी थी, भगवान का शुक्र था कि उसे एक मिल गया और वह आराम से सांस ले और छोड़ पा रहा था। उम्मीद थी कि बच भी जाएगा। अचानक उसकी निगाह कोने के एक युवक पर पड़ी जो बेचैनी में तड़प रहा था और एक-एक सांस बड़ी मुश्किल से ले पा रहा था। उम्र यही बीस-पच्चीस के करीब। हे भगवान , इसने तो अभी कुछ नहीं देखा, वह तो 65 साल जिया है , अच्छी और भरपूर जिन्दगी। इतना स्वार्थी होकर क्या मुंह दिखाएगा भगवान को और उसने अपनी नली निकाल दी ताकि युवक की जीवन डोर जुड़ सके इससे। नर्स ने देखा तो दौड़ी पर तबतक बहुत देर हो चुकी थी। मरीज की आँख का आंसू तो ठंडा था पर दोनों हाथ अभी भी प्रार्थना में ही जुड़े थे।

और अन्त में दो भारत से भी
6. यह कैसा देश है मेरा-खबरें देखते-देखते अचानक नजरें शर्म से झुक गईँ। पीठ पर फफोले और पैरों में छाले। न खाने को, न रहने को और उसपर से वे इस ‘सब-बन्द’ की स्थिति में औरों के लिए खतरा….जाने किसकी समझ थी यह कि खेत में छिड़के जाने कीट नाशक से उन्हें नहला दिया गया । मरें या जियें क्या फर्क पड़ता है, दूसरे तो नहीं मरेंगे …पर क्या सचमें ? पता नहीं था क्या, कि वायरस चमड़ी पर नहीं, सांसों में , थूक और पानी में रहते हैं और गरीब व अमीर का भेद नहीं जानते !…

7. यह केसा देश है मेरा, जहाँ कुछ नहीं बदलता और अपने ही अपनों को खतरे में डालते रहते हैं… गुमराहों को छुपाते व पनाह देते हैं! कैसे भूल गए कि घर का भेदी लंका ढाए!
1-4-2020

यह कैसा वक्त है !
जब एक कीट युद्ध
विश्वयुद्ध में बदलता जाए
बिना अस्त्र शस्त्र निहत्थे हों मोर्चे पर
और अदृश्य सूक्ष्म छद्म जीतता जाए
यह कैसा वक्त है !
जब घर में बन्द भ्रमित सब
थमे रुके सारे बाजार औ व्यापार
आज में ही जीए-मरे विश्व
क्योंकि कल का कुछ पता नहीं
यह कैसा वक्त है !
देश पर देश मिट रहे हारे-टूटे
सूखे पत्तों से नित नित झरे
दश प्रतिशत मानव
प्रति दिन ही काल कवलित
मरीज और चिकित्सक कोई नहीं सुरक्षित
दुशमन यह अदृश्य हर जगह विराजमान
यह कैसा वक्त है!
मौत एक खबर लगातार
सुनते जिसे हम दिन रात
अपने-पराये परिचित-अपरिचित
जाने कब कौन छूट जाए जीवन कड़ी से
भयभीत सब
अस्पतालों के संग मौत के घर भी बन रहे
यह कैसा वक्त है!
ले आए घर पर क्यों हम यूँ मौत को
जहाजों में उड़ाकर, पानी पर तैराकर
यह कैसा वक्त है!

मास्क के पीछे छुपे सब अपने पराए
सूनी आँखें तलाशतीं टटोलतीं-
छींके न कोई, खांसे न कोई
कहीं यही तो नहीं वह मौत का रूप
अपनों से जो बिछुड़ाए
यह कैसा वक्त है!
हाथ धो-धोकर भी पीछा न छोड़ता
दुशमन जो निर्दयी सबका एक अकेला
दवा नहीं, पहचान नहीं
इसका कोई ईमान नहीं
नफरत की बीमारी है
या मुनाफे का एक जोड़-तोड़
आस नहीं विश्वास नहीं
किसी को किसी पर अब
यह कैसे वक्त में जी रहे हैं हम
सूरज कबका डूब चुका सूनी सड़कों पर
बच्चे यहाँ अब खेलते नहीं
बूढ़े यहाँ अब टहलते नहीं
सामने गहरी काली मावस की रात
अंधेरे में भी न छोड़ें पर रौशनी की आस
चलो एक दिया तो जला लें दोस्तों,
आस का विश्वास का!
शैल अग्रवाल
3-4-2020


करोना संक्रमण में लया मोड़- न्यू यौर्क के चिड़ियाघर में एक चीता करोना से संक्रमित पाया गया।
6-4-20

एक डॉक्टर युगल ने असुरक्षित माहौल में बिना सही और सुरक्षित कपड़ों के डॉक्टर और नर्स व अन्य स्वास्थ कर्मचारियों को काम करते रहने देने के लिए स्थानीय ब्रिटिश सरकार पर मुकदमा दायर किया है।
2-5-2020


ये भारत है
सीधा है सच्चा है कुछ कर गुजरने का जज्बा है
जितना है वो काफी है,जो है वो ही पर्याप्त है
संकट कोई भी या वक्त कैसा भी जब सामने आए
हमारे जज्बे से न लड़ पाए
ये भारत है
जिसके लिए ह्रदय भावनाओं से ओतप्रोत हो जाता है लेकिन
जिसकी व्याख्या के लिए शब्दकोष के शब्द कम पड़ जाते हैं
परिभाषाएँ संकीर्ण प्रतीत होने लगती हैं लेकिन
संभावनाएं असीमित दिखने लगती हैं
ये भारत है
अनेकों उम्मीदों को जगाता
असंख्य आशा की किरणें दिखाता
ये भारत है
डॉ नीलम महेंद्र

क्या आप अपने आसपास कुछ ऐसा देख रहे हैं जो साझा करना चाहेंगे, तो यहाँ कर सकते हैं।