त्योहार विशेषः लेखनी वर्षान्त 2021


‘नेहिल दिए
सजे ड्योढ़ी पर
उजास भरे’
-शैल अग्रवाल

इस अंक मेंः संकलनः दीप माला। गीत और ग़ज़लः आचार्य सारथी ‘रूमी’, गिरीष पंकज, रामनिवास ‘मानव’ । हायकू करवा चौथः सरस्कवती माथुर, शैल अग्रवाल। हायकू दीपावलीः रमा सिंह, शैल अग्रवाल।
कहानी समकालीनः विसर्जन-शैल अग्रवाल। कहानी धरोहरः करवा का व्रत-यशपाल। कहानी समकालीनः चांद का मुंह टेढ़ा है-शैल अग्रवाल। कहानी धरोहरः रामलीला- मुंशी प्रेमचन्द। कहानी समकालीनः दिए की लौ-शैल अग्रवाल।

error: Content is protected !!