जयशंकर प्रसाद की तुमुल-कोलाहलपूर्ण जीवन-गाथाः संगीता पॉल

हिंदी की साहित्यिक दुनिया से वास्ता रखने वाला हर व्यक्ति जयशंकर प्रसाद के साहित्य से परिचित है, लेकिन उनकी तुमुल कोलाहल भरी जीवन-कथा से हम अब तक अपरिचित रहे हैं। इस कमी को हाल में प्रकाशित श्यामबिहारी श्यामल का उपन्यास ‘कंथा’ पूरा करता है। प्रसाद के महाप्रयाण के आठ दशक बाद श्यामबिहारी श्यामल की इस ‘कंथा’ में प्रसाद का जीवन ही नहीं उनका पूरा युग साकार हो उठा है।

छायावाद के युग प्रवर्तकों से एक जयंशकर प्रसाद अनेक विषयों एवं भाषाओं के विद्वान और प्रतिभा सम्पन्न कवि रहे हैं। वह एक कुशल कहानीकार, निबंधकार, नाटककार एवं उपन्यासकार भी थे।

श्यामल पेशे से पत्रकार रहे हैं और अपनी पेशेवर दक्षता का उन्होंने अद्भुत रचनात्मक उपयोग किया है। उपन्यास लिखते समय उन्होंने जिस प्रकार का गहन-शोध किया है, जिस प्रकार से जगह-जगह यात्राएं करके सामग्री जमा की है, वह एक गैर-पत्रकार के लिए संभव नहीं होता।

कंथा में श्यामल बताते हैं कि किस तरह वह बनारस पहुंचे और कैसे उन्होंने जयशंकर प्रसाद का घर खोजा। किस तरह से प्रसाद जी के परिवार के लोगों से मिले, प्रसाद जी के पुराने दोस्तों से मिले, और
उनके पौत्र किरणशंकर और पुत्र रत्नशंकर समेत दर्जनों लोगों से मुलाकात की।

वे जयशंकर प्रसाद के दोस्त डॉक्टर राजेंद्र नारायण शर्मा और डॉक्टर एच.सिंह से भी मिले, जो महाकवि की अंतिम बीमारी की साक्षी रहे थे।

श्यामल जी ने उस समय के बनारस के साहित्यजगत का ही नहीं, बल्कि पूरे हिंदी-क्षेत्र के साहित्यजगत का वर्णन किया है। इस प्रकार से उन्होंने बीसवीं सदी के आरंभिक दौर के उस पूरे परिदृश्य को उसके संपूर्ण रूप-गुण, राग-रंग और घात-प्रतिघातों के साथ साकार कर दिया है, जिसमें प्रसाद का कृति-व्यक्तित्व विकसित हुआ था।

प्रसाद जी के जीवन-काल में उनके बारे में जो अफवाहें फैलाई गईं थीं, जो गलतबयानी की गई थी, वह सब ‘कंथा’ में सामने आया है। श्यामल जी ने इस उपन्यास में प्रसाद के युग का जो चित्र उकेरा है, उसमें मदन मोहन मालवीय, महावीर प्रसाद द्विवेदी, प्रेमचंद, सूर्यकांत त्रिपाठी निराला, शिवपूजन सहाय, महादेवी वर्मा, रामचंद्र शुक्ल, केशव प्रसाद मिश्र, राय कृष्णदास, विनोद शंकर व्यास, कृष्ण देव प्रसाद गौड़ आदि अनेक विभूतियां भी जीवंत रूप से सामने आती हैं।

इस उपन्यास में प्रसाद जी की बीमारी का भी मार्मिक वर्णन है। किस तरह से डॉक्टरों ने उनको बचाने की कोशिश की और किस तरह से उनका निधन हुआ, यह सब उपनयास में दृश्यमान होता है। आखिरी समय में निराला जी प्रसाद जी के सामने थे, बहुत सारे अन्य साहित्यकार भी उनके समक्ष थे। निराला जी ने उस समय हारमोनियम वादन के अंदाज में एक गीत गाया था। वह गीत इस प्रकार है :

“मिला कहाँ वह सुख जिसका मैं स्वप्न देखकर जाग गया
आलिंगन में आते-आते मुस्का कर जो भाग गया
जिसके अरुण कपोलों की मतवाली सुन्दर छाया में
अनुरागिनी उषा लेती थी निज सुहाग मधुमाया में
उसकी स्मृति पाथेय बनी है थके पथिक की पंथा की
सीवन को उधेड़ कर देखोगे क्यों मेरी कंथा की।”

यह गीत सभी चुप खड़े सुन रहे थे। निराला जी की आंखें भीग गईं थी और उनका मुख मंडल अत्यंत भावपूर्ण हो गया था उन्होंने रत्नशंकर के कंधे पर हाथ रख दिया और कहा कि प्रसाद जी सचमुच प्रसाद थे और सदा प्रसाद ही रहेंगे। उनकी गरिमा की सदा रक्षा होनी चाहिए। निराला जी के इन भावों के साथ ही यह उपन्यास खत्म होता है।
प्रसाद के युग को रचने के लिए इस उपन्यास में लेखक ने जिस भाषा और दृश्यबद्ध शैली को गढा़ है, वह न सिर्फ़ उसकी तेवरपूर्ण रचनाशीलता का प्रमाण है, बल्कि पाठकों को भी विरल अनुभव प्रदान करने वाला है।
(संगीता पॉल असम विश्वविद्यालय के दीफू परिसर से जयशंकर प्रसाद और शरतचंद्र चटोपाध्याय के उपन्यासों पर शोध कर रही हैं)

उपन्यास : कंथा
लेखक : श्याम बिहारी श्यामल
प्रकाशक: राजकमल प्रकाशन
मूल्य : 599 रूपए
पृष्ठ : 545
प्रकाशन वर्ष : 2021

About Lekhni 140 Articles
भाषा और भूगोल की सीमाएँ तोड़ती, विश्व के उत्कृष्ट और सारगर्भित ( प्राचीन से अधुधिनिकतम) साहित्य को आपतक पहुंचाती लेखनी द्विभाषीय ( हिन्दी और अंग्रेजी की) मासिक ई. पत्रिका है जो कि इंगलैंड से निकलती है। वैचारिक व सांस्कृतिक धरोहर को संजोती इस पत्रिका का ध्येय एक सी सोच वालों के लिए साझा मंच (सृजन धर्मियों और साहित्य व कला प्रेमियों को प्रेरित करना व जोड़ना) तो है ही, नई पीढ़ी को इस बहुमूल्य निधि से अवगत कराना...रुचि पैदा करना भी है। I am a monthly e zine in hindi and english language published monthly from United Kingdom...A magzine of finest contemporary and classical literature of the world! An attempt to bring all literature and poetry lovers on the one plateform.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!