लेखनी/Lekhni-May-June 19

सोच और संस्कारों की सांझी धरोहर
Bridging The Gap

यादों के उजाले में
( मुखपृष्ठ छायांकनः शैल अग्रवाल)

कोने-कोने यादें बिखरीं,आंगन-आँगन किलकारी
भूले बिसरे मन आंगन में रंग-बिरंगी फुलवारी।।
शैल अग्रवाल

(संस्मरण विशेशांक)
(अंक 121 वर्ष 13)

इस अंक मेंः अपनी बातः यादों के उजाले में। संकलनः धूप किनारे। गीत और ग़ज़लः बशीर बद्र। कविता धरोहरः आँसू-जयशंकर प्रसाद। माह के कविः मुकेश कुमार सिन्हा। माह विशेषः निर्जन की मुरलीः ।
संस्मरणः कहाँ से शुरु करूँः पद्मा मिश्रा। बचपन के दिन भी क्या दिन थेः लावण्या शाह। काँधे पर हाथः शैल अग्रवाल। मन्नो दीः शशि कण्डवाल। रेखाचित्रः वोड्का भरी आँखों वाली लड़कीः शिखा वाष्णेय। एक शहर आजभी अपना-साः शैल अग्रवाल। एक कपूरी शामः शैल अग्रवाल। साहित्यकार श्री अमृतलाल नागर जीः लावण्या शाह। मैं तुम्हारा गुनाहगार हूँ माइकीः रूपसिंह चन्देल। मृदुला सिन्हाः पद्मा मिश्रा। विस्थापन का दर्दः देवी नागरानी। अहा बचपनः दिलीप भाटिया। यादेंः आलोक कुमार सातपुते। लो आय गईं तुम्हारी लल्लोः नीरजा द्विवेदी।
चंद शब्द चित्रः सुशांत सुप्रिय। आपबीतीः किताब तो छपगई मगरः बीनू भटनागर। पुस्तक समीक्षाः बड़े सोच की छोटी कहानियाँ। हास्य व्यंग्यः मुर्दे की आँखें। चांद परियाँ और तितलीः एक संस्मरणः मोती-शैल अग्रवाल।
In the English Section: My Column: May-June 19. Favourites Forever: D.H. Lawrence, Thomas Hood, Lord Byron, Poetry Here & Now: Martin Underwood, Shail Agrawal, Rod Dangate. Story: Filthy Rich-Shail Agrawal. Talk About: From India Back to U.S.A.: Mitra Kalita. Kids’Corner_ Pigeon: Shail Agrawal.

ब्रिटेन से प्रकाशित द्विमासीय, द्विभाषीय ( हिन्दी-अंग्रेजी ) ई.पत्रिका
परिकल्पना, संपादन व संचालनः शैल अग्रवाल
संपर्क सूत्रः shailagrawal@hotmail.com

सर्वाधिकार सुरक्षित

( copyright @ www.lekhni.net)