लेखनी/Lekhni-जनवरी-फरवरी 2021

सोच और संस्कारों की सांझी धरोहर
Bridging The Gap

कितने बसंत बीते
जीवन घट रीते
सुरभित यह फिर भी
नित नए रूप में
नए वेश में
नेह की हरित डाल पे…
शैल अग्रवाल

* करोना के साथ या फिर करोना के बाद, स्वागत नव वर्ष !*
(अंक 131 वर्ष 14)

इस अंक मेंः अपनी बात-आस की हरित डाल पे…
कविताएंः लेखनी-संकलनः स्वागत नववर्ष। नववर्ष स्वागत है तुम्हारा-डॉ. शिबेन कृष्ण रैना। मंथनः ऋगवैदिक समाज और सारस्वत वैदिक संस्कृति-सुनील श्रीवास्तव। कविता धरोहरः डॉ. हरिवंशराय बच्चन।श्रद्धांजलिः मंगलेश डबराल। लेखनी-संकलनः यह सर्द मौसम। कविता आज और अभीः एक नया पन्नाः अनिता रश्मि, मीना चोपड़ा, विजय सिंह नहाटा, दिव्या माथुर, श्रुति मिश्रा, शैल अग्रवाल। माह के कविः नरेश अग्रवाल। गीत और ग़ज़लः इंदु झुनझुनवाला, शैल अग्रवाल। माह विशेषः करो-ना कविता-हरिहर झा, शैल अग्रवाल, विजय सिंह नहाटा, पद्मा मिश्रा। करोना चन्द शब्द चित्रः शैल अग्रवाल। विमर्षः रौशनी की आस मेंः शैल अग्रवाल। मुद्दाः करोना वायरस-नीलम महेन्द्र। करोना वायरस वैक्सीन डायरी। करोना लघुकथाएँः अनिता रश्मि। कहानी समकालीनः पहरेदार-शैल अग्रवाल। कहानी समकालीनः तारे दूर के -शैल अग्रवाल। कहानी समकालीनः कान खजूरा-पूनम गुजररानी। कहानी समकालीनः दिल एक कस्बा है-अचला शर्मा। कहानी समकालीनः एक सूरज की तलाश-गोवर्धन यादव। कहानी समकालीनः शेष भाग आगामी अंक में-राम नगीना मौर्य। परिचर्चाः लोक की कविता-गोवर्धन यादव। समीक्षाः मंच पर उतरी कहानियाँ-अनिता रश्मि। चांद परियाँ और तितलीः चीन और चमगादड़-शैल अग्रवाल।
In the English Section: My Column: Light at the end of tunnel. Talk About: Corona-Sahil Agrawal. Lekhni Collection: Many shades of Love. Poetry Here& Now-Prabha v. Noela Nair. Favourite Forever: Christina Rossetti, Emily Diction. Kids’Corner: Juicy bites and a poem by Shail Agrawal.

ब्रिटेन से प्रकाशित द्विमासीय, द्विभाषीय (हिन्दी-अंग्रेजी) पत्रिका
परिकल्पना, संपादन व संचालनः शैल अग्रवाल
संपर्क सूत्रः shailagrawal@hotmail.com
सर्वाधिकार सुरक्षित
copyright @ www.lekhni.net