शिमला से एक साहित्यिक रिपोर्ट

ग्रामीण समाज और विद्यार्थियों के बीच लेखकीय सरोकार की अनूठी यात्राएंः
यादगार रहेंगे अनपढ़ इंजिनीयर बाबा भलखू स्मृति के बहाने सफल साहित्यिक रेल और ग्रामीण आयोजन

बाबा भलखू हिमाचल के विश्वविख्यात पर्यटन स्थल चायल स्थित झाझा गांव के अनपढ मजदूर थे जिन्होंने अंग्रेजी राज में शिमला कालका रेल का सर्वे किया था और इस रेल मार्ग की सबसे बड़ी बड़ोग सुरंग का निर्माण करवाया था। उनकी सूझबूझ से ही अंग्रेज हिन्दुस्तान तिब्बत रोड़ के निर्माण के वक्त सतलुज नदी पर कई पुल लगा पाए थे। ब्रिटिश प्रशासन ने इस अनपढ़ मजदूर को ओवरशीयर की उपाधि दी थी और अनपढ़ इंजीनीयर से नवाजा था। उनकी स्मृति में रेलवे विभाग ने शिमला बस स्टेशन पर एक खूबसूरत संग्रहालय बनाया है. इस अनूठी यात्रा से प्रेरित होकर रेलवे विभाग भी हरकत में आ गया है और अब शिमला रेलवे स्टेशन से आगे इस संग्रहालय तक शिकला-कालका रेल आएगी। ये यात्राएं उन्हीं दिव्यात्मा भलखू की स्मृति को समर्पित थीं जिन्हें हिमाचल प्रदेश की चर्चित साहित्य एवं संस्कृति को समर्पित हिमालय मंच ने शिमला की एक अन्य संस्था नवल प्रयास के साथ आयोजित किया। इन यात्राओं की प्रदेश और देश में व्यापक चर्चा हुई है।

एस आर हरनोट हिमाचल में ही नहीं, देश और विदेशों तक साहित्य में चर्चित नाम है लेकिन हिमालय साहित्य संस्कृति मंच के बैनरों में बिना सरकारी सहायता के अपने साधनों और लेखकों के सहयोग से विविध साहित्यिक आयोजनों के लिए भी जाने जाते हैं। हमने देखा है कि वे आए दिनों कोई न कोई नया काम हिमाचल के ही नहीं बल्कि देशभर से शिमला आने वाले लेखकों के साथ मिलकर करते रहते हैं। उन्होंने हमेशा अति वरिष्ठ और युवा तथा नवोदित साहित्यकारों को मंच ही नहीं प्रदान किया बल्कि उन्हें सम्मानित भी करते रहे हैं। शिमला बुक केफे जब गत वर्ष खुला तो वहां हरनोट ने देशभर से लेखकों से न केवल किताबें एकत्रित कर भेंट की बल्कि यहां साप्ताहिक गोष्ठियों का आयोजन भी शुरू किया जो हर महीने होता रहता है। शिमला बुक केफे का संचालन कैथू और कंडा जेल के कैदी करते हैं जिससे यह केफै खूब चर्चा में हैं।

इस बार हरनोट ने शिमला की संस्था नवल प्रयास के साथ मिल कर दो बड़े आयोजन किए जो बरसों-बरसों याद किए जाएंगे। हिमालय मंच ने नवल प्रयास के साथ पहले कार्यक्रम की शुरूआत जेल के पुलिस महा निदेशक सोमेश गोयल के साथ कंडा जेल में नेलसन मंडेला दिवस पर साहित्यिक गोष्ठी के आयोजन से की जो अति सफल रही। इस में लगभग पांच सौ कैदियों ने भाग लिया और शिमला से 15 लेखक शामिल हुए। कैदियों ने भी कविता पाठ किए। इसके बाद हरनोट के एक अनूठे कन्सैप्ट के तहत् शिमला-कालका विश्व धरोहर रेलवे में इस रेल के सर्वेक्षक अनपढ़ इंजीनियर बाबा भलखू की स्मृति में 19 अगस्त को 30 लेखकों के साथ आयोजित साहित्य यात्रा अभूतपूर्व थी जिसकी पूरे देश में चर्चा हुई है और उसके बाद बाबा भलखू के पुश्तैनी गांव झाझा(चायल) की साहित्य सृजन यात्रा भी. इन आयोजनों की सबसे बड़ी खासियत यह रही कि साहित्य सरकारी सभागारों से बाहर निकल कर अपने पैरों पर चल पड़ा और लेखकों ने आपसी सहयोग से साहित्य को ग्रामीण सरोकारों से जोड़ने का अभूतपूर्व प्रयास किया और कार्यक्रम आयोजित किए जो एक मिसाल बन कर रह गए।

शिमला-कालका रेल में इस अनूठे साहित्यिक संवाद का उस वक्त व्यापक स्वागत हुआ जब हरनोट ने अपनी फेसबुक वाल पर 24 जुलाई, 2018 को देर रात 11 बजकर 42 मिनट पर एक पोस्ट लगाई जिसका टाइटल था –शिमला कालका रेलवे में साहित्य गोष्ठी–सादर आमंत्रण। इस अनूठी गोष्ठी को बाबा भलखू साहित्य संवाद रेल यात्रा का नाम दिया गया और उनकी इस पोस्ट में भलखू के योगदान पर भी प्रकाश डाला गया था। महज आठ-आठ सौ रूपए प्रति लेखक लेकर इस यात्रा की सहभागिता रही। इसके अतिरिक्त पुलिस महा निदेशक व लेखक सोमेश गोयल का भी लेखकों को पूरा सहयोग मिला। प्रदेश से ही नहीं बल्कि देश भर के लेखकों ने सहर्ष इस यात्रा में आने की इच्छा जाहिर की लेकिन स्थानाभव के कारण केवल 30 स्थानीय लेखकों का ही आरक्षण हो पाया।

यात्रा 19 अगस्त, 2018 को शिमला रेलवे स्टेशन से 10.25 पर प्रारम्भ हुई। इस यात्रा में साहित्य के सत्र शिमला से बड़ोग तक रेलवे स्टेशनों के नाम से तय किए गए थे। जिनमें शिमला, समरहिल, कैथलीघाट, सलोगड़ा, सोलन और बड़ोग। यात्रा शुरू होने से दो दिनों पहले पूर्व प्रधान मन्त्री और कवि अटल बिहारी वाजपेयी जी का देहान्त हो गया। इसलिए यात्रा के सत्रों में थोड़ा परिर्वतन किया गया और पहला सत्र उन्हें श्रद्धांजलि के रूप में आयोजित हुआ। उसके बाद संस्मरण, लघु कथाएं, व्यंग्य, कहानी और कविता के सत्र यथावत आयोजित हुए। 30 लेखक जब बड़ोग स्टेशन पर पहुंचे तो यह देखकर अचम्भित थे कि वहां असंख्य लोग हाथ में फूल मालाएं लेकर लेखकों का स्वागत कर रहे थे। यह दृश्य सचमुच भावविभार कर देने वाला था। उनके स्वागत में स्वयं कैथलीघाट और बड़ोग के रेलवे अधिकारी तो थे ही बल्कि सोलन से लेखक, पत्रकार, रंगकर्मी और बहुत से प्रतिष्ठित लोग शामिल थे। कैथलीघाट रेलवे स्टेशन के स्टेशन मास्टर संजय गेरा तो पूरी यात्रा में साथ रहे। जेल ट्रैक की सम्पूर्ण जानकारी सुमित राज देते रहे। लेखकों ने बड़ोग में रेलवे कण्टीन में दोपहर का भोजन लेकर फिर शिमला के लिए कालका-शिमला रेल में यात्रा शुरू की और पुनः कहानियों, कविताओं, संस्मरणों और गजलों का दौर चला। आखरी सत्र महिला लेखिकाओं के लिए विशेषतौर पर उनके रचनापाठ के लिए समर्पित किया गया।

इस यात्रा में जो लेखक शामिल रहे वे हैंः एस.आर.हरनोट, विनोद प्रकाश गुप्ता, डाॅ0 हेमराज कौशिक, डा0 मीनाक्षी एफ पाल, आत्मा रंजन, सुदर्शन वशिष्ठ, डा0 विद्या निधि, कुल राजीव पंत, गुप्तेश्वर नाथ उपाध्याय, राकेश कुमार सिंह, सतीश रत्न, सीता राम शर्मा, दिनेश शर्मा, डाॅ0 अनुराग विजयवर्गीय, शांति स्वरूप शर्मा, कौशल मुंगटा, अंजलि दीवान, उमा ठाकुर, प्रियंवदा, वंदना भागड़ा, रितांजलि हस्तीर, अश्विनली कुमार, कल्पना गांगटा, वंदना राणा, सुमित राज, निर्मला चंदेल, पौमिला ठाकुर, संजय गेरा।

इस यात्रा का दूसरा चरण लेखकों ने 2 सितम्बर, 2018 को बाबा भलखू के पैत्रिक गांव झाझा में पूर्ण किया जिसमें 21 लेखक और बहुत से ग्राीमीण शामिल हुए। लेखकों ने यात्रा की शुरूआत न्यू शिमला बी.सी.एस से 9.30 बजे की। यात्रा का पहला पड़ाव ऐतिहासिक जुनगा गांव था जो क्योंथल रियासत की राजधानी भी रही है। यहां ग्राम पंचायत जुनगा की प्रधान श्रीमती अंजना सेन ने लेखकों के स्वागत और साहित्य सृजन संवाद का पंचायत घर में आयोजन किया जिसमें तकरीबन 90 महिलाएं और पुरूष शामिल हुए। यह पंचायत और महिला मंडल ने संयुक्त रूप से आयोजित किया। उनके सहयोगी रहे बीडीसी की सदस्या सीमा सेन, उप प्रधान मदन लाल शर्मा, हिमाचल पर्यटन निगम के पूर्व सहायक महा प्रबन्धक देवेन्द्र सेनए महिला मंडल की प्रधान आशा कौंडल और अन्य पंचायत के सदस्य। लेखकों ने पंचायत प्रधान और उपस्थित आमजनों से किसान जीवन को लेकर भी संवाद किया। उन्होंने बहुत सी योजनाओं का ब्यौरा लेखकों से सांझा किया। लेखकों ने भी कृषि, पशु पालन और अन्य जन साधारण की सुविधाओं के संदर्भ में लोगों से विस्तृत चर्चा की।

कवि गोष्ठी और लोक संगीत का मिलाजुला कार्यक्रम तकरीबन दो घण्टों तक चला। गोष्ठी 11 बजे से 1 बजे तक चली। पंचायत प्रधान अंजना सेन ने लेखकों का स्वागत और आभार प्रकट करते हुए इस अनूठी गोष्ठी और यात्रा की सराहना की और लेखकों को अक्तूबर में एक अन्य गोष्ठी के लिए आमंत्रित किया। देवेन्द्र सेन ने भी लेखकों के सम्मान में संबोधन किया। सुदर्शन वशिष्ठ ने जुनगा से अपने आत्मीय रिश्तों के बारे में प्रकाश डाला। वहीं नवल प्रयास के अध्यक्ष विनोद प्रकाश गुप्ता ने भी अपनी सेवा के दौरान जुनगा से रहे अपने सम्बन्धों के बारे में जिक्र करते हुए पंचायत का इस आयोजन के लिए आभार प्रकट किया। हिमाचल मंच के अध्यक्ष एस आर हरनोट ने इस यात्रा के प्रयोजन पर विस्तार से जहां प्रकाश डाला वहां पंचायत और स्थानीय लोगों के साथ इस आयोजन को अनूठा करार दिया। उन्होंने कहा कि इसके बाद लेखक इस तहर की साहित्यिक यात्राएं जारी रखेंगे जो दूर दराज के गांव के लिए वहां के स्थानीय लोगों से सीधा संवाद स्थापित करने की दृष्टि से लेखकों की आपसी सहभागिता से ही होगी। इसके बाद जुनगा के राजा विक्रम सेन ने लेखकों का अपने कलात्मक महल जुनगा में स्वागत किया और लम्बी बातचीत हुई। राजा जुनगा की पुश्तैनी लाईब्रेरी पुरानी और नयी पुस्तकों से सम्पन्न है जिसमें कई हजार हस्तलिखित पांडुलिपियां टांकरी और अन्य भाषाओं की मौजूद हैं जहां तक कोई सरकारी विभाग अभी तक नहीं पहुंच पाया। महल में कई कलात्मक और पुरातात्विक वस्तुओं का बड़ा संग्रह है। इतिहास के शोध छात्र यहां अध्ययन के लिए आते रहते हैं।

इस यात्रा का दूसरा पड़ाव चायल स्थित झाझा गांव था। लेखकों के इंतजार में शिमला आकाशवाणी से सेवानिवृति वरिष्ठ लेखक व रंगकर्मी बी.आर.मेहता जी और चायल एकांत रीट्रीट के मालिक व स्थानीय निवासी देवेन्द्र वर्मा व अन्य ग्रामीण पहले से ही मौजूद थे। लेखकों के आतिथ्य का कार्यभार देवेन्द्र वर्मा जी ने संभाल रखा था। इसके बाद लेखकों ने बाबा भलखू के पुश्तैनी घर का भ्रमण किया और काफी समय उनके परिजनों के साथ व्यतीत किया। भलखू परिवार के वरिष्ठ सदस्य पोस्ट आफिस से सेवानिवृत दुर्गादत ने लेखकों को भलखू के चित्र और बहुत से दस्तावेज दिखाए जो अंग्रेजो ने भलखू के सम्मान में दिए थे। बी आर मेहता जो बाबा भलखू समिति के अध्यक्ष भी हैं उन्होंने भी बहुत सी बातें उनके बारे में बताई और उनकी स्मृति में किए गए कार्यों का ब्यौरा भी लेखकों को दिया। झाझा में एक मात्र भलखू का ही घर है जो अपनी प्राचीनता को बरकरार रखे हुए है। धज्जी दीवाल और पत्थर की छत और बरामदे वाले इस दो मंजिला भवन का पुरातन सौन्दर्य देखते ही बनता है। इसकी धरातल मंजिल में गौशाला और भंडार है जबकि दूसरी मंजिल, जहां भलखू खुद रहते थे, अपने रहन सहन के लिए हैं।

साहित्य गोष्ठी का आयोजन युवा कृषक सुशील ठाकुर ने अपने निवास पर किया। उनका सहयोग उनकी धर्मपत्नी रमा ठाकुर ने दिया जो हिमाचल न्यूज का संचालन करती है। लेखकों के स्वागत में सुशील जी के मित्र व आभी प्रकाशन के संचालक जगदीश हरनोट विशेष रूप से झाझा पहुंचे थे। यहां जलपान के साथ काव्य गोष्ठी लगभग दो घण्टे चली। जुनगा और झाझा की इन गोष्ठियों को सफल संचालन युवा चर्चित कवि आत्मारंजन ने किया।

तीन लेखकों एस.आर.हरनोट, दिनेश शर्मा और मोनिका छट्टु ने बाबा भलखू को विनम्र श्रद्धांजलि देते हुए कविताएं पढ़ीं जो बहुआयामी अर्थों को लिए हुए थी। बी आर मेहता जी के साथ जिन अन्य लोगों ने कविताओं का पाठ किया उनमें विनोद प्रकाश गुप्ता, सुदर्शन वशिष्ठ, कुल राजीव पंत, अश्विनी गर्ग, सतीश रत्न, गुप्तेश्वर नाथ उपाध्याय, राकेश कुमार सिंह, नरेश दयोग, शांति स्वरूप शर्मा, कुशल मुंगटा, कल्पा गांगटा, उमा ठाकुर, धनंजय सुमन शामिल थे। इस यात्रा में जहां सोलन से वरिष्ठ लेखक रत्न चंद निर्झर शामिल रहे वहां शिमला भ्रमण के लिए आए बनारस के युवा शोध छात्र व कवि कुमार मंगलम भी भागीदार रहे जिन्होंने भी कविता पाठ किया।

हालांकि इन यात्राओं की सम्पूर्ण कल्पना और संरचना जानेमाने लेखक एस.आर.हरनोट की रही है फिर भी उन्होंने अपने साथ न केवल नवल प्रयास साहित्यिक संस्था को जोड़ा बल्कि इसका पूर्ण श्रेय सभी भागीदार लेखकों को दिया है, जिसके उदाहरण आज बिरल ही मिलते हैं। ये साहित्यिक यात्राएं सभाकक्षों और सरकारी संचालनों के परम्परागत ढांचे को तोड़ती अनूठी पहल थीं जिसका व्यापक स्वागत हुआ है।

लेखकों ने झाझा गांव में एक प्रस्ताव भी पारित किया जिसमें केन्द्र सरकार और प्रदेश सरकार से मांग की गई कि शिमला कालका रेल लाइन को चायल झाझा गांव तक ले जाया जाए, उनके पुश्तैनी मकान को धरोहर भवन के रूप में सुरक्षित किया जाए और झाझा गांव को भी धरोहर गांव के रूप में विकसित किया जाए। साथ ही चायल में स्थित भलखू पार्क को उनके धरोहर दस्तावेजों को सुरक्षित रखते हुए उसका सौन्दर्य करण किया जाए। आयोजन की समाप्ति पर विनोद प्रकाश गुप्ता और एस आर हरनोट ने इस यात्रा में शामिल लेखकों का और समस्त ग्रामीणजनों का आभार व्यक्त किया।

हिमालय साहित्य एवं संस्कृति मंच ने इन यात्राओं के बाद हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में कई महाविद्यालयों से शिमला एक कार्यक्रम में आए छात्रों के साथ दो साहित्य संवाद शिमला बुक केफै में आयोजित किए जिसमें छात्रों और प्रध्यापकों के साथ साहित्य की अनेक विधाओं पर विस्तार से चर्चा हुई और स्थानीय लेखकों के साथ उनके कविता पाठ भी हुए। इसी कड़ी में शिमला टाउन हाल में 16 सितम्बर को चर्चित कवि विनोद विठ्ठल की बनास जन साहित्यिक पत्रिका द्वारा प्रकाशित कविता पुस्तक ‘पृथ्वी पर दिखी पाती‘ का लोकार्पण और उनका एकल कविता पाठ भी आयोजित किया जिसमें शहर के 55 लेखकों, संस्कृत कर्मियों और साहित्य प्रेमियों ने भाग लिया। पुस्तक लोकार्पण वरिष्ठ कवि आलोचक श्रीनिवास श्रीकांत के सानिध्य में एस आर हरनोट, आत्मा रंजन और गुप्तेश्वर नाथ उपाध्याय के साथ सम्पन्न हुआ। मंच का युवा रचनाकार संचालन कौशल मुंगटा ने किया। 18 सितम्बर को हिमालय मंच ने जिला शिमला में स्थित राजकीय महाविद्यालय सुन्नी द्वारा आयोजित प्रथम साहित्य सम्मेलन में भागीदारी की जिसमें बच्चों ने बढ़चढ़ कर भाग लिया। एस आर हरनोट ने अपनी बहुचर्चित कहानी ‘नदी गायब है‘ का पाठ किया जब कि जानेमाने लेखकों कुलराजीव पंत, आत्मा रंजन, गुप्तेश्वर नाथ उपाध्याय के साथ बच्चों और स्थानीय लेखकों ने कविता पाठ में भागीदारी की। इस सफल आयोजन की परिकल्पना लेखिका डा0 विद्यानिधि ने की थी।
इस तरह बच्चों और आमजन के बीच साहित्य संवाद की यह पहल हिमाचल में ही नहीं देश भर में चर्चा का विषय बन गई।

केरल बाढ़ आपदा के लिए भी लेखकों ने धन एकत्रित किया। नवल प्रयास के अध्यक्ष डा0 विनोद प्रकाश गुप्ता के प्रस्ताव पर उन्होंने स्वयं 31000/- रूपए की राशि दी जबकि अन्य 11 लेखकों सर्वश्री एस.आर.हरनोट, सुदर्शन वशिष्ट, कुल राजीव पंत, विद्या छाबड़ा, सुमित राज, दिनेश शर्मा, राकेश कुमार सिंह, अश्विनी कुमार, रत्नचंद निर्झर, पौमिला ठाकुर और उमा नधैक ने दो-दो हजार रूपए का योगदान दिया। 53000.00 रूपए की धनराशि ट्रिब्यून के माध्यम् से भेजी गई।

अश्विनी कुमार,
गिरि राज कार्यालय,
लोक सम्पर्क विभाग,
घोड़ा चैकी, शिमला-171005
मो0ः9418085095

About Lekhni 142 Articles
भाषा और भूगोल की सीमाएँ तोड़ती, विश्व के उत्कृष्ट और सारगर्भित ( प्राचीन से अधुधिनिकतम) साहित्य को आपतक पहुंचाती लेखनी द्विभाषीय ( हिन्दी और अंग्रेजी की) मासिक ई. पत्रिका है जो कि इंगलैंड से निकलती है। वैचारिक व सांस्कृतिक धरोहर को संजोती इस पत्रिका का ध्येय एक सी सोच वालों के लिए साझा मंच (सृजन धर्मियों और साहित्य व कला प्रेमियों को प्रेरित करना व जोड़ना) तो है ही, नई पीढ़ी को इस बहुमूल्य निधि से अवगत कराना...रुचि पैदा करना भी है। I am a monthly e zine in hindi and english language published monthly from United Kingdom...A magzine of finest contemporary and classical literature of the world! An attempt to bring all literature and poetry lovers on the one plateform.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!