हिंदी के सार्वभौमिकीकरण पर बल दिया जाए: संतोष चौबे

लंदन, 09 दिसंबर 2023: वातायन-यूके के तत्वावधान में संगोष्ठी-161 के अंतर्गत रविंद्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्री संतोष चौबे के साहित्यिक अवदान और हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार में उनके योगदान पर व्यापक चर्चा हुई; वैश्विक आधार पर हिंदी साहित्य और हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार में किए गए उनके बहुमूल्य कार्यों को रेखांकित किया गया. इस साक्षात्कार में ऑक्सफ़र्ड बिज़नेस कॉलेज के प्रबंध-निदेशक और जाने-माने प्रवासी साहित्यकार डॉ. पद्मेश गुप्त ने हिंदी के विस्तारीकरण के व्यापक परिप्रेक्ष्य में श्री संतोष चौबे से सुंदर और सार्थक संवाद किया। अपने सहज-स्वाभाविक प्रत्युत्तरों में श्री चौबे का बल प्रवासी साहित्य, विदेशों में हिंदीतर छात्रों के हिंदी शिक्षण तथा विदेशों में हिंदी सीखने को सुकर बनाने के लिए प्रौद्योगिकियों के प्रचुर प्रयोग पर था। श्री संतोष चौबे ने सभी हिंदी विद्वानों, लेखकों और हिंदी प्रेमियों से आह्वान किया कि वे हिंदी के सार्वभौमिकीकरण में अपना योगदान करें तथा हिंदी को एक लोकप्रिय वैश्विक भाषा बनाने के स्वप्न को साकार करें।

वैश्विक हिंदी परिवार के संस्थापक-अध्यक्ष, प्रतिष्ठित लेखक और समीक्षक श्री अनिल शर्मा जोशी की अध्यक्षता में आयोजित इस संगोष्ठी की महत्ता इसी बात से प्रमाणित होती है कि श्री संतोष चौबे की प्रत्यक्ष निगरानी में वर्ष 2023 के दिसंबर माह के उत्तरार्ध में भोपाल में अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन का आयोजन होने जा रहा है तथा ‘वातायन-संगोष्ठी 161’ को उक्त सम्मेलन की पूर्व-पीठिका के रूप में देखा जा रहा है। ग़ौरतलब है कि संतोष चौबे जी द्वारा स्थापित हिंदी की प्रोत्साहक संस्था ‘विश्वरंग’ के बैनरतले ही इस अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें श्री चौबे ने उन्हीं पक्षों पर अपेक्षित जोर दिया जिन पर सम्मलेन के अधिकतर सत्र आधारित हैं।
अपना लेखकीय परिचय देते हुए श्री चौबे ने अपनी पारिवारिक पृष्ठभूमि की भी चर्चा की तथा यह बताया कि उनके परिवार में साहित्य, संगीत और शास्त्रीय संगीत की पृष्ठभूमि पहले से ही उपलब्ध थी तथा ये उन्हें पिता से विरासत के रूप में मिली। उनकी अभिरुचि विज्ञान में भी उसी अवस्था में पैदा हुई; वे अपनी चयन-पद्धति के अनुसार केवल उसी काम को करने के लिए प्रेरित हुए जो उनके मन को अच्छी लगती थी। उन्होंने जेपी आंदोलन के दौरान विरचित एक छोटी कविता ‘सफलता आक्रांत करती है’ भी सुनाई। उन्होंने बताया कि 27-28 वर्ष की उम्र तक आते-आते उन्होंने अपने सारे सपने पूरे कर लिए थे और प्रशासनिक सेवा में भी आ गए थे। उन्होंने एक दूसरी कविता ‘मेरे अच्छे आदिवासियों’ का भी हृदयग्राही पाठ किया।
डॉ. पद्मेश के पूछे जाने पर श्री चौबे ने कहा कि वे प्रवासी साहित्य और प्रवासी साहित्यकारों से बहुत बाद में परिचित हुए तथा वर्ष 2019 में उनसे उनका साक्षात्कार हुआ। उन्होंने कहा कि प्रवासी साहित्य पर वास्तव में ध्यान देने की ज़रूरत है क्योंकि इन प्रवासी साहित्यकारों ने भारत से बाहर जाकर सफलता प्राप्त की है और इनके सहयोग से हम हिंदी को एक ताकत बना सकते हैं।
ब्रिटिश सांसद वीरेंद्र शर्मा ने इंद्रप्रस्थ महाविद्यालय (दिल्ली विश्वविद्यालय) की प्रो रेखा सेठी के वक्तव्य का दृष्टांत देते हुए कहा कि श्री चौबे का जीवन प्रेरणाप्रद रहा है। तदनंतर, प्रो रेखा सेठी ने कहा कि श्री चौबे द्वारा बताई गईं बातें और कविताएं बहुत दिलचस्प थीं। कुछ प्रबुद्ध श्रोताओं ने भी अपने उद्गार व्यक्त किए और श्री संतोष चौबे के कृतित्व और कार्यकलापों की सराहना की। पने अध्यक्षीय वक्तव्य में श्री अनिल शर्मा जोशी ने बताया कि भारत में साहित्यकार अपनी उतनी पहचान-प्रतिष्ठा नहीं प्राप्त कर पाते जितनी कि ब्रिटेन में। उन्होंने कहा कि हिंदी के विकास में देश-विदेश की सभी संस्थाएं अपना योगदान कर सकती हैं तथा सभी को अपनी ऊर्जाएं जोडकर इस महत्त्वपूर्ण कार्य को करना होगा।
विश्वरंग, वैश्विक हिंदी परिवार और इंद्रप्रस्थ कॉलेज के सहयोग से आयोजित इस संगोष्ठी की संयोजक थीं वातायन-यूके’ की संस्थापक और जानी मानी प्रवासी साहित्यकार सुश्री दिव्या माथुर। वातायन इस वर्ष अपनी 20वीं वर्षगांठ मना रहा है ।
कार्यक्रम का समापन वातायन-यूके की कर्मठ कार्यकर्त्री सुश्री आस्थादेव ने किया। उन्होंने श्री संतोष चौबे द्वारा व्यक्त विचारों तथा उनके जीवन के विभिन्न प्रसंगों से प्राप्त प्रेरणाओं की चर्चा की तथा मंच पर उनकी उपस्थिति के लिए उनके प्रति आभार प्रकट किया। साथ ही, उन्होंने मंच पर उपस्थित प्रबुद्धजनों और जूम एवं यूट्यूब से जुडे श्रोता-दर्शकों के प्रति भी आभार प्रकट किया, जिनमें शामिल थे ब्रिटिश सांसद वीरेंद्र शर्मा, प्रो तात्याना औरंस्कया, प्रो तोमिओ मिज़ोकामी, मीरा मिश्रा-कौशिक, ओबीई, डॉ शैलजा सक्सेना, अनूप भार्गव, तितिक्षा शाह, डॉ वरुण कुमार, डॉ जयशंकर प्रसाद, डॉ विवेक मणि, कप्तान प्रवीर भारती, सुरेखा चोफ़ला, नंद अजितसरिया, प्रो बलीराम धापसे, इत्यादि।
(प्रेस रिपोर्ट: डॉ. मनोज मोक्षेंद्र)

About Lekhni 152 Articles
भाषा और भूगोल की सीमाएँ तोड़ती, विश्व के उत्कृष्ट और सारगर्भित ( प्राचीन से अधुधिनिकतम) साहित्य को आपतक पहुंचाती लेखनी द्विभाषीय ( हिन्दी और अंग्रेजी की) मासिक ई. पत्रिका है जो कि इंगलैंड से निकलती है। वैचारिक व सांस्कृतिक धरोहर को संजोती इस पत्रिका का ध्येय एक सी सोच वालों के लिए साझा मंच (सृजन धर्मियों और साहित्य व कला प्रेमियों को प्रेरित करना व जोड़ना) तो है ही, नई पीढ़ी को इस बहुमूल्य निधि से अवगत कराना...रुचि पैदा करना भी है। I am a monthly e zine in hindi and english language published monthly from United Kingdom...A magzine of finest contemporary and classical literature of the world! An attempt to bring all literature and poetry lovers on the one plateform.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!