सदा साथ

                                                                                                                                                                    सदा साथ

                                                                                                                                                              कवि/कवियत्री…

 

 

  अदम गोंडवी
( 1947-2011)

मूल नाम : रामनाथ सिंह
जन्म : 22 अक्तूबर 1947, आटा ग्राम, परसपुर, गोंडा (उत्तर प्रदेश)
भाषा : हिंदी
विधा : कविता
प्रमुख कृतियाँ : कविता संग्रह : धरती की सतह पर, समय से मुठभेड़

सम्मान : वर्ष 1998 में मध्य प्रदेश सरकार से दुष्यंत कुमार पुरस्कार
निधन : 18 दिसंबर 2011, लखनऊ, उत्तर प्रदेश

गीत और ग़ज़ल

1. आँख पर पट्टी रहे      (लेखनी-अप्रैल-2013)
2. जो उलझ कर रह गई है   (लेखनी-अप्रैल-2013)
3. घर में ठंडे चूल्हे पर (लेखनी-अप्रैल-2013)
4. विकट बाढ़ की करुण कहानी (लेखनी-अप्रैल-2013)
5. तुम्हारी फाइलों में (लेखनी-अप्रैल-2013)
6. जिसके सम्मोहन में (लेखनी-अप्रैल-2013)
7. जिस्म क्या है रुह तक (लेखनी-अप्रैल-2013)
8. वह जिसके हाथों में (लेखनी-अप्रैल-2013)
9. हिंदु या मुस्लिम के अहसास (लेखनी-अप्रैल-2013)
10. काजू भुने प्लेट में (लेखनी-अप्रैल-2013)

——————————————————————————————————————————————————–

 

अमृता प्रीतम

31 अगस्त, 1919-31 अक्टूबर, 2005)

गुरजन वाला में जन्मी और देहली में बसी अमृता प्रीतम आज भी एक चर्चित और बहुत चाव से पढ़ी जाने वाली कवियत्री हैं।

  

 

 

 

1. धूप का टुकड़ा    ( लेखनी-अप्रैल-2008-अँक-14)

2. एक मुलाकात    ( लेखनी-अप्रैल-2008-अँक-14)

3. शहर                ( लेखनी-अप्रैल-2008-अँक-14)

4. दोस्त                   ( लेखनी-अप्रैल-2009-अंक 26)

5. मजबूर                 ( लेखनी-अप्रैल-2009-अंक 26)

6. वारिस शाह से  ( लेखनी-अप्रैल-2009-अंक 26)

 

——————————————————————————————————————————————-

अयोध्या  सिंह उपाध्याय  ‘ हरिऔध ‘

(15-4-65 -16-3-47)

 

‘प्रियप्रवास’ की रचना संस्कृत वर्णवृत्त में करके  खड़ी बोली को पहला महाकाव्य देनेवाले हरिऔध जी का योगदान नींव के पत्थर जैसा है। उर्दू, फारसी, संस्कृत, हिन्दी और पंजाबी के ज्ञाता हरिऔध जी ने आम हिन्दुस्तानी बोलचाल में ‘चोखे चौपदे’ , तथा ‘चुभते चौपदे’ रचकर उर्दू जुबान की मुहावरेदारी की शक्ति खड़ी बोली में रेखांकित कर दिखाई।

आजमगढ़ के निजामाबाद कस्बे में जन्मे हरिऔध जी का सृजन काल  तीन युगों तक विस्तृत है-भारतेन्दु युग, द्विवेदी युग और छायावाद युग फलतः हिन्दी कविता के विकास में आपका योगदान महत्वपूर्ण है। कविता के अतिरिक्त आलोचना और बाल साहित्य में भी आपका उल्लेखनीय योगदान है। प्रमुख कृतियाँ :
(कविता) प्रियप्रवास, वैदेही वनवास, रस कलश, प्रेमाम्बु प्रवाह, चोखे चौपदे, चुभते चौपदे आदि।

कर्मवीर ( लेखनी-अगस्त-2010))

मातृभूमि ( लेखनी-अगस्त-2010)

——————————————————————————————————————————————-

अवतार सिंह संधु ‘पाश’

अब विदा लेता हूँ ( लेखनी-फरवरी-2014)

——————————————————————————————————————————————————-

 

इब्ने ईँशा


        (1927- 11-1-1978)

लुधियाना में जन्मे  शेर मोहम्मद खान प्रारंभिक शिक्षा भी लुधियाना में ही हुई थी। 1948 में करांची में आ बसे और वहीं उर्दू कॉलेज से बी.ए. किया। बचपन से ही इब्ने इंशा नाम अपनाया और लिखा और इसी नाम से विख्यात भी हुए। उर्दू के मशहूर शायर और व्यंगकार। मिजाज और बयानगी में मीर की खस्तगी और नजीर की फकीरी भरी रूमानियत । मनुष्य के स्वाभिमान और स्तंत्रता के प्रबल हिमायती।

हिंदी ज्ञान के बल पर औल इँडिया रेडिओ में काम किया फिर कौमी किताब घर के  निर्देशक, इंगलैंड स्थित पाकिस्तानी दूतावास में उर्दू के सांस्कृतिक मंत्री  और यूनेस्को के प्रतिनिधि रहे।

इंगलैंड में ही कैंसर से मृत्यु।

प्रमुख पुष्तकें, उर्दू की आखिरी किताब (व्यंग्य), चांद नगर, इस बस्ती इस कूंचे में, बिल्लू का बस्ता, यह बच्चा किसका है (बाल कविताएँ)

हम घूम चुके बस्ती बस्ती ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

——————————————————————————————————————————————-

कतील शफाई

किया है प्यार जिसे ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

——————————————————————————————————————————————

              कबीर

     (1297 – 1410)

 हिंदी साहित्य में कबीर का व्यक्तित्व अनुपम है।  गोस्वामी तुलसीदास को छोड़ कर इतना महिमामण्डित व्यक्तित्व कबीर के सिवा अन्य किसी का नहीं है। काशी के इस अक्खड़, निडर एवं संत कवि का जन्म लहरतारा के पास सन् १२९७ में ज्येष्ठ पूर्णिमा को हुआ था।  हिन्दू ब्राहमणी के यहां जन्मे और परित्यक्त कबीर का पालन-पोषण नीरू नामके जुलाहे के परिवार में हुआ, संत रामानंद के शिष्य बने और अलख जगाने लगे।  कबीर सधुक्कड़ी भाषा में किसी भी सम्प्रदाय और रुढियों की परवाह किये बिना खरी बात कहते थे।  उन्होंने हिंदू-मुसलमान सभी समाज में व्याप्त रुढिवाद तथा कट्टपरंथ का खुलकर विरोध किया।  कबीर की वाणी उनके मुखर उपदेश उनकी साखी, रमैनी, बीजक, बावन-अक्षरी, उलटबासी में देखें जा सकते हैं।  गुरु ग्रंथ साहब में उनके २०० पद और २५० साखियां हैं।  काशी में प्रचलित मान्यता है कि जो यहाँ मरता है उसे मोक्ष प्राप्त होता है।  रुढि के विरोधी कबीर को यह कैसे मान्य होता।  काशी छोड़ मगहर चले गये और सन् १४१० में वहीं देह त्याग किया।  मगहर में कबीर की समाधि है, जिसे हिन्दू मुसलमान दोनों पूजते हैं।

आज भी शायद सर्वाधिक याद किए जाने वाले कबीर के दोहे कवि, दार्शनिक और समाजसुधारक तीनों की ही सोच का समन्वय लिए हुए हैं। इस संत की खरी बानी आज भी  गृहस्थ और सन्यासी दोनों को ही एक सी प्रिय है। और हो भी क्यों न छह सौ साल पहले जीवन की किताब से सारे वेदान्त और दर्शन का सार और सूफी-सी सादगी लिए अनमोल इन दोहॉ में दे जाने वाले वे अनपढ कबीर ही तो थे जिन्होंने लिखा था ,

पोथी पढ़ पढ़  जग मुआ पंडित हुआ न कोय/ढाई आखर प्रेम का पढ़े सो पंडित होय।

 माह विशेषः 

गीत-कबीर ( लेखनी-अंक22-दिसंबर 2008)

1. मेरी चुनरी में परिगयो दाग पिया।

2. अंखियां तो छाई परी
3. माया महा ठगनी हम जानी।।

4. सुपने में सांइ मिले
5. नैना अंतर आव तू

6.अवधूता युगन युगन हम योगी
7. कौन ठगवा नगरिया लूटल हो
8.साधो ये मुरदों का गांव

माह विशेष

24 दोहे ( लेखनी-अंक 58-दिसंबर-2011)

——————————————————————————————————————————————-

प्रभुनाथ गर्ग (काका हाथरसी)

18 सितंबर 1906 – 18 सितंबर 1995 व्यंग्य जिसका मुख्य उद्देश्य हंसना हंसाना ही नहीं बल्कि समाज में व्याप्त दोषों, कुरीतियों, भ्रष्टाचार और राजनीतिक कुशासन की ओर ध्यान आकृष्ट करना भी है, जिससे कि इन्हें रोका जा सके। इस तरह के व्यंग्य न सिर्फ समाज में व्याप्त दोषों और कुरीतियों को उजागर करते हैं, उनके ख़िलाफ़ जनमत तैयार करते हैं अपितु समाज सुधार की प्रक्रिया पर सोचने को मजबूर भी करते हैं।                                                                                                                      हाथरस उत्तर प्रदेश में जन्मे काका हाथरसी इस विधा के सिद्धहस्त थे। उनकी पैनी नज़र से छोटी-से- छोटी अव्यवस्था या कुरीतियां तक बच नहीं पाती थीं। बहेद गहरे कटाक्ष के साथ सहज शब्दों में अपनी बात कह देने से वे कभी नहीं चूकते थे। यही वजह है कि कई कवियों और लेखकों के प्रेरक काका हाथरसी का नाम आजभी हास्य कवियों में बड़ी ही श्रद्धा के साथ लिया जाता है और  उनकी शैली की छाप आजतक कई-कई कवियों और लेखकों की  व्यंग्य और हास्य रचनाओं में स्पष्ट दिखलाई देती है।

कुछ प्रमुख कृतियाँ -काका के कारतूस, काकादूत, हंसगुल्ले, काका के कहकहे, काका के प्रहसन।

कविता धरोहर ( लेखनी-मार्च-2009)

1. जय बोलो बेईमान की

2. दुर्दशा हिन्दी की

3. मंहगाई

4.  कालेज स्टूडेंट

5. मुर्गी और नेता

6. काका फंसे (  लेखनी-अप्रैल-2012)

——————————————————————————————————————————————–

कार्ल मार्क्स

कठिनाइयों से बीता जीवन -अनुवादः प्रतिभा कटियार  (लेखनी-जून-2013)

———————————————————————————————————————————————

केदार नाथ अग्रवाल                                               

(1अप्रैल1911- 22 जून 2000)

 

नदी उदास थी  (लेखनी-जुलाई-अंक-5-वर्ष-2)

वसंती हवा (लेखनी अंक-49-50- मार्च-अप्रैल 2011)

मैंने प्रेम अचानक पाया   (लेखनी-अक्तूबर-2011)

हम दोनों का प्यार रहे (लेखनी-अक्तूबर-2011)

रेत मैं हूं जमन जल तुम (लेखनी-अक्तूबर-2011)

प्राण में जो बहुत मेरा है (लेखनी-अक्तूबर-2011)

हम मिलते हैं बिना मिले ही (लेखनी-अक्तूबर-2011)

भुक्खड़ बादशाह हूं मैं (लेखनी-अक्तूबर-2011)

बारबार प्यार दो (लेखनी-अक्तूबर-2011)

चली गई है कोई श्यामा (लेखनी-अक्तूबर-2011)

मैं पहाड़ हूँ (लेखनी-अक्तूबर-2011)

सदेह का सौंदर्य समारोह (लेखनी-अक्तूबर-2011)

लिपट गई जो धूल पांव से (लेखनी-अक्तूबर-2011)

ब्याही अनब्याही (लेखनी-अक्तूबर-2011)

मात देना नहीं जानतीं (लेखनी-अक्तूबर-2011)

वह चिड़िया जो (लेखनी-अक्तूबर-2011)

ओस बूंद कहती है (लेखनी-अक्तूबर-2011)

मांझी न बजाओ वंशी (लेखनी-अक्तूबर-2011)

पहला पानी गिरा गगन से (लेखनी-अक्तूबर-2011)

हे मेरी तुम (लेखनी-अक्तूबर-2011)

बैठा हूँ इस केन किनारे (लेखनी-अक्तूबर-2011)

आओ बैठो इसी रेत पर (लेखनी-अक्तूबर-2011)

बाल कविता

चिड़ीमार ने …  (लेखनी-जून 2012)

——————————————————————————————————————————————-
कैफी आजमी

 

पत्थर के खुदा यहां भी ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

 

 

——————————————————————————————————————————————-

गजानन माधव मुक्तिबोध

(1917-1964)

जन्म श्यौपुर, ग्वालियर में हुआ। नागपुर विश्वविद्यालय से हिन्दी में एम.ए. किया तथा आजीवन साहित्य-सृजन और पत्रकारिता से जुडे रहे। मुक्तिबोध अपनी लम्बी कविताओं के लिए प्रसिध्द हैं। डॉ. नामवर सिंह के अनुसार

“नई कविता में मुक्तिबोध की जगह वही है ,जो छायावाद में निराला की थी। निराला के समान ही मुक्तिबोध ने भी अपनी युग के सामान्य काव्य-मूल्यों को प्रतिफलित करने के साथ ही उनकी सीमा की चुनौती देकर उस सर्जनात्मक विशिषटता को चरितार्थ किया, जिससे समकालीन काव्य का सही मूल्याकन हो सका ।”

प्रमुख कृतियां-मुख्य संग्रह : ‘चांद का मुंह टेढा है तथा ‘भूरी-भूरी खाक धूल। आपने निबंध, कहानियां तथा समीक्षाएं भी लिखी हैं। समस्त रचनाएं ‘मुक्तिबोध रचनावली (6 खण्ड) में प्रकाशित हैं। मुक्तिबोध जी की रचनाओ में एक स्वस्थ सामाजिक चेतना ,लोक मंगल भावना तथा जीवन के प्रति एक व्यापक दृष्टिकोण विद्यमान है। काव्य -सृजन के प्रति इनका दृष्टिकोण सर्वदा प्रगतिशील रहा है, अतः इन्हे आधुनिक हिन्दी कविता के बाद के किसी संकरे कटघरे में सीमित करना उचित नहीं।

 

चाहिए मुझे मेरा असंग बबूलपन ( लेखनी-नवंबर-2010)

शून्य (लेखनी-नवंबर-2010)

पूंजीवाद के प्रति (लेखनी-नवंबर-2010)

दूर तारा (लेखनी-नवंबर-2010)

मृत्यु और कवि ( लेखनी-जुलाई-2012)

ऐ इंसानों ( लेखनी-जुलाई-2012)

——————————————————————————————————————————————-

गोपाल सिंह नेपाली

( 11-8-1911-17-4-1963)

प्रमुख कृतियाँ-
उमंग (1933), पंछी (1934), रागिनी (1935), पंचमी (1942), नवीन (1944), नीलिमा (1945), हिमालय ने पुकारा (1963)
और फ़िल्मों में लगभग 400 धार्मिक गीत ।

विविधः आपका लिखा भजन -दर्शन दो घनश्याम नाथ-फिल्म स्लम डॉग मिलिएनेयर में सूरदास का भजन कहे जाने की वजह से आजकल चर्चा और अदालत में है और पुत्र नकुल नेपाली में पांच करोड़ रुपए व मुकादमा निर्णित होने तक 21 प्रतिशत व्याज की दर से भारी हरजाने की मांग की है।

1-अपने पन का मतवाला था ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

2- यह लघु सरिता का बहता जल  (लेखनी-जुलाई-अंक-5-वर्ष-2)

3. स्वतंत्रता का दीपक (लेखनी-अंक 30-अगस्त 2009)

4. गिरिराज हिमालय से भारत का ( लेखनी-सितंबर 2009)

5. मेरा धन है स्वाधीन कलम ( लेखनी-जनवरी-2010)

6. कुछ ऐसा खेल रचो साथी ( लेखनी-जनवरी-2010)

7. अफसोस नहीं ( लेखनी- दिसंबर-2011)

8. तू पढ़ती है मेरी पुस्तक ( लेखनी- दिसंबर-2011)

9. घर तो घरवालों ने लूटा ( लेखनी- दिसंबर-2011)

10. रोटियां गरीब की ( लेखनी- दिसंबर-2011)

11. दीपक जलता रहा रातभर ( लेखनी- दिसंबर-2011)

12. बाबुल तुम बगिया के तरुवर ( लेखनी- दिसंबर-2011)

13. कुछ देर यहाँ ( लेखनी- दिसंबर-2011)

14. उस पार कहीं ( लेखनी- दिसंबर-2011)

——————————————————————————————————————————————

चंद्रशेखर ‘आजाद’ 

( 23-7-1906-27-2-1931)

‘दुश्मन की गोलियां हम सहेंगे /आजाद हैं आजाद ही रहेंगे।’ का नारा लगाने ही नहीं, जीने वाले चंद्रशेखर आजाद भारत के अग्रणीय स्वतंत्रता सेनानी थे। जिन्होंने भगतसिंह, सुखदेव और राजगुरु जैसे देशभक्तों को संगठित करके अपनी अभूतपूर्व मुहिम छेड़ी थी।

वही शाहे शहीदां है… ( लेखनी-अंक-6- अगस्त 2008)

वतन के वास्ते  ( लेखनी-अंक-6- अगस्त 2008)

 

———————————————————————————————————————————

 

 

 

जयशंकर प्रसाद  ( 30 जनवरी-1889-14 जनवरी1937 )

प्रकृति और जीवन में साम्य देखने वाले, छायावाद के तीन मुख्य स्तंभों में से एक, उदात्त भावों के चितेरे  जयशंकर प्रसाद जी का नाम आज भी अति आदर और स्नेह से लिया जाता है। आपकी कविताओं में करुणा, लालित्य और दर्शन का अद्भुत समन्वय है जो आज भी स्पृहणीय है।

प्रमुख काव्य कृतियाः कामायनी, आंसू, कानन-कुसुम, प्रेम पथिक, झरना, लहर।

1.अरुण यह मधुमय देश हमारा ( लेखनी-अंक-6- अगस्त 2008)

2. कामायनी से—(लेखनी अंक27- मई 2009)

3. कनक किरन ( लेखनी – अंक 39-मई-2010)

4. झरना ( लेखनी – अंक 39-मई-2010)

5. किरन ( लेखनी – अंक 39-मई-2010)

6. लहर -1 ( लेखनी- जुलाई-2011)

7. लहर-2 ( लेखनी-जुलाई-2011)

8. आँसू – कुछ अंश ( लेखनी-जुलाई-2013)

 

——————————————————————————————————————————————

तस्लीमा नसरीन

सतीत्व ( लेखनी-अक्तूबर-2010)

 

——————————————————————————————————————————————-

 

 

गोस्वामी तुलसी दास

[१४९७ (१५३२?) – १६२३]

बांदा जिले के राजापुर नामक ग्राम में जन्मे तुलसीदास एक महान कवि ही नहीं, युगद्रष्टा व अभूतपूर्व समाज सुधारक व संस्कृत  के प्रगल्भ विद्वान थे।

भक्तिकाल के तीन प्रमुख   स्तंभों में से एक, तुलसीदास की रामचरित के प्रति भक्तिभाव से ओतप्रोत सरस व सुलझी रामायण को आज हिन्दुओं की बाइबल कहा जाए तो अतिशयोक्ति नहीं होगी। श्री रामचरित मानस वाल्मीकि रामायण का अवधी भाषांतर है परन्तु उसमें एक सरस कवि, विचारक, और समाज-सुधारक का दृष्टिकोण पलपल उदीप्त है। तुलसीदास ने 12 ग्रन्थ लिखे। विनयपत्रिका तुलसीदास कृत एक और अन्य  महत्त्वपूर्ण कृति  है।

दोहे -रामचरितमानस-उत्तर कांड ( लेखनी-अक्तूबर-2009)

——————————————————————————————————————————————

द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

 

 

 

1. उठो धऱा के अमर सपूतों (लेखनी-अँक-11-जनवरी 2008)

2. इतने ऊँचे उठो (लेखनी-अँक-11-जनवरी 2008)

3.  हम सब सुमन एक उपवन के ( लेखनी-अंक-15-मई-2008)

बाल कविता

मुन्नी मुन्नी ओढ़े चुन्नी ( लेखनी-जनवरी-2010)

——————————————————————————————————————————————
दीनदयाल उपाध्याय

 

 

——————————————————————————————————————————————-

दुष्यंत कुमार

1 सितंबर 1933-30 दिसंबर 1975

बिजनौर, उत्तर प्रदेश में जन्मे दुष्यंत कुमार त्यागी को वर्तमान हिन्दी ग़ज़ल का प्रणेता माना जाता है। उनकी गजलों में पहली बार एक आम आदमी की आवाज एक आम आदमी से हाथ मिलाकर कही गयी। आज की ग़ज़लों के एक और महत्वपूर्ण हस्ताक्षर निदा फाजली के शब्दों में ;  

“दुष्यंत की नज़र उनके युग की नई पीढ़ी के ग़ुस्से और नाराज़गी से सजी बनी है। यह ग़ुस्सा और नाराज़गी उस अन्याय और राजनीति के कुकर्मो के ख़िलाफ़ नए तेवरों की आवाज़ थी, जो समाज में मध्यवर्गीय झूठेपन की जगह पिछड़े वर्ग की मेहनत और दया की नुमानंदगी करती है।

विषय की तब्दीली के कारण, उनकी ग़ज़ल के क्राफ्ट में भी तब्दीली नज़र आती जो कहीं-कहीं लाउड भी महसूस होती है. लेकिन इस तब्दीली ने उनके ग़ज़ल को नए मिज़ाज के क़रीब भी किया है।

दुष्यंत ने केवल देश के आम आदमी से ही हाथ नहीं मिलाया उस आदमी की भाषा को भी अपनाया और उसी के द्वारा अपने दौर का दुख-दर्द गाया…

जिएँ तो अपने बगीचे में गुलमोहर के तले
मरें तो ग़ैर की गलियों में गुलमोहर के लिए “
 

कविता-धरोहर 

1. चांदनी छत पे ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

2. हो गई है पीर ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

3. बाढ़ की संभावनाएँ सामने है ( लेखनी-अंक-15-मई-2008)

4. कहां तो तय था चरागाँ   ( लेखनी-अंक-15-मई-2008)

5. मत कहो आकाश में कहरा घना है  ( लेखनी-अंक-15-मई-2008)

6. आज सड़कों पर लिखे हैं सैकड़ों नारे न देख  ( लेखनी-अंक-15-मई-2008)

7. जा तेरे सपने बड़े हों ( लेखनी अंक 45- नवंबर-2010)

8. यह कौन आया (लेखनी अंक 45- नवंबर-2010)
9. कहीं पे धूप की चादर ( लेखनी-दिसंबर-2013)

10. सूचना ( लेखनी-फरवरी-2014)

11. फिर कर लेने दो प्यार प्रिये ( लेखनी-फरवरी-2014)
——————————————————————————————————————————————-

डा. धर्मवीर भारती

 

 

कविता धरोहर

उत्तर हूँ तुम्हारा ( लेखनी अँक 12-फरवरी-2008)

बोआई का गीत ( लेखनी अंक 23-  जनवरी 2009)

उतरी शाम ( लेखनी अंक 23-  जनवरी 2009)

क्योंकि सपना है अभी भी (लेखनी अंक 36-फरवरी 2010)

 

——————————————————————————————————————————————-

श्यामलाल ‘पार्षद’

स्वतंत्रता सेनानी व कवि पार्षद अपने इस ध्वजगान से भारत में अमर हैं।श्री श्यामलाल गुप्त ‘पार्षद’ के इस गीत को आजादी के बाद थोड़ा संशोधित करके कांग्रेस ने  राष्ट्रीय ध्वज गान के रूप में अपनाया था। सन 47 में लालकिले में  इस गीत को सुनकर भावविभोर नेहरू जी ने कहा था कि- हो सकता है श्री पार्षद जी को सब न याद रख पाएँ, पर उनके इस ध्वजगीत को देश का बच्चा-बच्चा गाएगा। …लेखनी में गीत को असंशोधित ( संकलन देश हमारा) व संशोधित (अगस्त के माह विशेष में) दोनों रूप में टंकित किया गया है। हममें से अभी भी कितने ही ऐसे होंगे जिनके हृदय में इस गीत और पाठशाला की कई मधुर स्मृतियाँ आज भी विद्यमान होंगी।

 

 

झंडा ऊँचा रहे हमारा (लेखनी-अंक 30-अगस्त 2009)

——————————————————————————————————————————————

सुदामा पांडेय ‘धूमिल’

क्रोधी कवि कहलाए जाने वाले धूमिल बेहद ही संवेदनशील और आसपास के प्रति जागरूक कवि थे। समाज को बदलने की बेचैनी ने ही शायद उन्हें यह संज्ञा दिलवाई। तेवर ओर सशक्त  प्रतिमान जहां इनकी कविता की पहचान हैं सक्षम सामाजिक और राजनीतिक टिप्पड़ी भी । यही वजह है कि ये कविताएँ आजभी उतनी ही समसामयिकी हैं, जितनी कि तब जब लिखी गयी थीं।  हाल ही में इनकी कविता मोची पाठ्यक्रम से हटाए जाने पर बी.जे.पी. ने संसद में काफी बबाल मचाया।

(7-11-1936-10-2-1975)

काव्य-संग्रह ‘कल सुनना मुझे’ मृत्यु के उपरान्त ही छप पाया और फिर इसे साहित्य अकादमी पुरष्कार भी मिला।

जन्म : 7 नवंबर १९३६ ग्राम खेवली ज़िला वाराणसी।

शिक्षा : दसवीं तक। अत्यंत मेधावी छात्र। आई. टी. आई. वाराणसी से विद्युत डिप्लोमा प्राप्त कर के इसी संस्थान में विद्युत अनुदेशक के रूप में कार्यरत रहे।

१० फरवरी १९७५ को लखनऊ में मस्तिष्क ट्यूमर से निधन।

प्रकाशित रचनाएँ :
कविता संग्रह: संसद से सड़क तक, कल सुनना मुझे।

गांव                       ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)
संसद से सड़क तक ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)
घर में वापसी          ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)                                                                                                                    

रोटी और संसद       ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)
खेवली                    ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)
सिलसिला               ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)
अन्तिम कविता        ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)

कविता क्या है            ( लेखनी-जून-2013)

संसद ( लेखनी-अगस्त-2013)

पटकथा ( लेखनी-अगस्त-2013)

शांतिपाठ ( लेखनी-अगस्त-2013)

——————————————————————————————————————————————-

नईम

पानी उछाल के  (लेखनी-जुलाई-अंक-5-वर्ष-2)

——————————————————————————————————————————————-

नागार्जुन  (30 जून 1911-5नवंबर 1998)                                                                      

नागार्जुन की प्रसिद्धि मुख्यतः एक जन कवि के रूप में है, जिन्होंने कविता के साथ ही कथा साहित्य में अपनी यथार्थ दृष्टि का प्रमाण दिया। इनके अतिरिक्त निबंधों और टिप्पणियों में नागार्जुन अपनी जीवंत सृजनशीलता का प्रमाण देते रहे हैं। उनके समूचे साहित्य में वे तत्व निहित हैं, जो किसी लेखक को लोकप्रिय बनाते हैं। समझा यह जाता है कि लोकप्रियता और कलात्मकता दोनों विरोधी चीजें हैं। नागार्जुन ने विरोधी प्रतीत होने वाले इन तत्वों को अपनी रचनाओं में बखूबी आत्मसात किया।  

कविता धरोहर  – लेखनी दिसंबर 2008

 

1, गेहूं दो, चावल दो।   ( लेखनी-सितंबर 2009)

2. गुलाबी चूड़ियां    ( लेखनी-सितंबर 2009)

3. अकाल और उसके बाद   ( लेखनी-सितंबर 2009)

4. सपना देखा     ( लेखनी-सितंबर 2009)

5. बातें              ( लेखनी-सितंबर 2009)

6. आ जा       ( लेखनी-सितंबर 2009)

7. बादल को घिरते देखा है ( लेखनी-सितंबर 2009)

8. मंत्र    (लेखनी-मई 2011 )

9. उनको प्रणाम (लेखनी-मई 2011)

 

 

——————————————————————————————————————————————-

प्यारे लाल शौकी

माह विशेष

तो क्या हुआ ( लेखनी-फरवरी-2014)

—————————————————————————————————————————————————–

       फैज अहमद फैज

पाकिस्तान और हिन्दुस्तान दोनों ही तरफ के बेहद पसंदीदा शायर और उतने ही भले इन्सान।

 

वो लोग…(लेखनी-अंक 29-जुलाई 2009)

 

बोल कि…(लेखनी-अंक 29-जुलाई 2009)

 

 

——————————————————————————————————————————————-

 

 

भगत सिंह

आओ मुकाबला करें ( लेखनी-अंक-6- अगस्त 2008)

 

——————————————————————————————————————————————

भगवती चरण वर्मा

 

(30-8-1903-5-10-1981)

शफीपुर ग्राम जिला उन्नाव उत्तर प्रदेश में जन्मे श्री भगवती शरण वर्मा जी की प्रमुख कृतियों में ‘मेरी कविताएं’ नामक संकलन उल्लेखनीय हैं। वर्माजी ने इलाहाबाद से बी.ए., एल. एल. बी. की डिग्री प्राप्त की और प्रारम्भ में कविता लेखन किया । फिर उपन्यासकार के नाते विख्यात । १९३३ के करीब प्रतापगढ़ के राजा साहब भदरी के साथ रहे । १९३६ के लगभग फिल्म कारपोरेशन, कलकत्ता, में कार्य । कुछ दिनों ‘विचार’ नामक साप्ताहिक का प्रकाशन-संपादन, इसके बाद बंबई में फिल्म-कथालेखन तथा दैनिक ‘नवजीवन’ का सम्पादन, फिर आकाशवाणी के कई केंन्दों में कार्य । बाद में, १९५७ से मृत्यु-पर्यंत स्वतंत्न साहित्यकार के रूप में लेखन ।

‘चित्रलेखा’ उपन्यास पर दो बार फिल्म-निर्माण और ‘भूले-बिसरे चित्र’ साहित्य अकादमी से सम्मानित । पद्मभूषण तथा राज्यसभा की मानद सदस्यता प्राप्त ।

बसंतोत्सव (लेखनी अंक-1-वर्ष-2-मार्च-2008)

संकोच भार को (लेखनी अंक-1-वर्ष-2-मार्च-2008)

अज्ञात देश से आना  (लेखनी अंक-1-वर्ष-2-मार्च-2008)

मातृ-भूमि तुझे शत् शत् बार प्रणाम  ( लेखनी-अंक-18- अगस्त 2008)

——————————————————————————————————————————————-

 

भवानी प्रसाद मिश्र (1913-1985)                                                                        

जन्म तिथि- २९ मार्च १९१३, गांव टिगरिया, तहसील सिवनी मालवा, जिला होशंगाबाद म.प्र. ।                                                                                                        ” बूँद-बूंद उमगा था एक दिन
धारा हूँ आज
न बूँद मेरी थी न धारा
दूसरों का हूँ समूचा सारा.”
तार सप्तक के प्रमुख कवि, मिश्र जी अदम्य जिजीविषा और गांधी-चेतना के कवि थे। सहज शब्द और गहरी अनुभूतियां लिए हुए उनकी कालजयी कविताएं आज भी पूर्णतः समकालीन हैं।
कुछ प्रमुख कृतियाँ : गीत फरोश, चकित है दुख, गाँधी पंचशती, अँधेरी कविताएँ, बुनी हुई रस्सी, व्यक्तिगत, खुशबू के शिलालेख, परिवर्तन जिए, त्रिकाल संध्या, अनाम तुम आते हो, इदम् मम्, शरीर कविता फसलें और फूल, मान-सरोवर दिन, संप्रति, नीली रेखा तक।

1.इसे जगाओ ( लेखनी- अंक-19-सितंबर-2008)

2.स्नेह-पथ ( लेखनी- अंक-19-सितंबर-2008)

3.कौवे उर्फ चार हौवे ( लेखनी- अंक-19-सितंबर-2008)

4. तुम कागज पर लिखते हो ( लेखनी-अँक 20-अक्तूबर 2008)

5. तार के खम्बे ( लेखनी- अंक 22-दिसंबर 2008)

6.स्वागत में—(लेखनी अंक27-मई 2009)

7. तू अपना इतिहास कहेगा ? ( लेखनी अँक 40- जून 2010)

8.मैं क्या करूँगा ( लेखनी अँक 40- जून 2010)

9. सन्नाटा ( लेखनी अँक 40- जून 2010)

10. आमीन, गुलाब पर…( लेखनी-अँक 43-सितंबर-2010)

11. भारतीय समाज  ( लेखनी-अँक 43-सितंबर-2010)

12. ऐसा भी होगा  ( लेखनी-अँक 43-सितंबर-2010)

13. साल शुरु हो-बाल गीत ( लेखनी-जून-2013)

 

——————————————————————————————————————————————

भारत भूषण

प्रेम और विरह के गीतों के सुकुमार कवि भारतभूषण के तीन काव्य संग्रह हैं। “सागर का सीप (1958)” ,”ये असंगति (1993)”,  “मेरे चुनिन्दा गीत (2008)”  |भारत जी १९४६ से हिंदी कवि सम्मलेन से जुड़े और आपने अपनी राम की जल समाधि जैसी कविताओं से संपूर्ण देश में अपार ख्याति प्राप्त की |

1. जिस दिन भी …( लेखनी-फरवरी-2014)

2. मेरे मन मिरगा …( लेखनी-फरवरी-2014)

3. प्रिय मिलने का …( लेखनी-फरवरी-2014)

4. बिखरा …( लेखनी-फरवरी-2014)

5.वनफूल …( लेखनी-फरवरी-2014)

6. तस्बीर अधूरी रहनी थी …( लेखनी-फरवरी-2014)

 

 

———————————————————————————————————————————————————————-

भारत भूषण अग्रवाल

कवि, लेखक और समालोचक भारतभूषण अग्रवाल का जन्म 3 अगस्त, 1919 (तुलसी-जयंती) को मथुरा (उ.प्र.) के सतघड़ा मोहल्ले में हुआ। उनका निधन 23 जून, 1975 (सूर-जयंती) को हुआ। इन्होंने आगरा तथा दिल्ली में उच्च शिक्षा प्राप्त की फिर आकाशवाणी तथा अनेक साहित्यिक संस्थाओं में सेवा की। पैतृक व्यवसाय से दूर, उन्होंने साहित्य रचना को ही अपना कर्म माना। पहला काव्य-संग्रह ‘छवि के बंधन’ (1941) प्रकाशित होने के बाद, वे मारवाड़ी समाज के मुखपत्र ‘समाज सेवक’ के संपादक होकर कलकत्ता गए। यहीं उनका परिचय बांग्ला साहित्य और संस्कृति से हुआ। भारतभूषणजी ‘तारसप्तक (1943) में महत्वपूर्ण कवि के रूप में सम्मिलित हुए और अपनी कविताओं तथा वक्तव्यों के लिए चर्चित हुए। अपनी अन्य कृतियों ‘जागते रहो’ (1942), ‘मुक्तिमार्ग’ (1947) के लेखन के दौरान वे इलाहाबाद से प्रकाशित पत्रिका ‘प्रतीक’ से भी जुड़े और 1948 में आकाशवाणी में कार्यक्रम अधिकारी बने। 1959 में उनका एक संग्रह ‘ओ अप्रस्तुत मन’ प्रकाशित हुआ, जो उनकी रचनात्मक परिपक्वता और वैचारिक प्रौढ़ता का निदर्शन था।

प्रमुख कृतियाँ

कवि के बंधन, जागते रहो, ओ अप्रस्तुत मन, अनुपस्थित लोग, मुक्तिमार्ग, एक उठा हुआ हाथ, उतना वह सूरज है उतना वह सूरज है कविता-संग्रह पर साहित्य अकादमी पुरस्कार, एक उठा हुआ हाथ,उतना वह सूरज है,अहिंसा ,चलते-चलते,परिणति , प्रश्नचिह्न ,फूटा प्रभात , भारत्व,मिलन,विदा बेला ,विदेह ,समाधि लेख आदि।

नहीं ( लेखनी-जुलाई-2013)

जा तुझको नींद न आए ( लेखनी-जुलाई-2013)

विदा वेला में ( लेखनी-जुलाई-2013)

मिलन ( लेखनी-जुलाई-2013)

परिणति ( लेखनी-जुलाई-2013)

 

 

———————————————————————————————————————————————————

भारतेन्दु हरिशचन्द्

हास्य व्यंग्य

गीत हंसिका -बंदर सभा ( लेखनी-जुलाई-2012)

—————————————————————————————————————————————–

मज़ाज लखनवी

(1909-5-12-1955)

असरारुल हक उर्दू शायरी के कीट्स माने जाते थे।  मजाज लखनवी के नाम से विख्यात वे  अपने ज़माने के बेहद मशहूर और महबूब शायर थे । अपने वक्त में मज़ाज के कलाम की दीवानगी लोगों , खासतौर से लड़कियों में बहुत ज्यादा थी। मज़ाज का जन्म सन १९०९ में रुदौली जिला बाराबंकी में हुआ था। मज़ाज उस्ताद शायर फानी बदायूनी को अपना उस्ताद मानते थे।मज़ाज की मृत्यु दिसम्बर ५ सन १९५५ में लखनऊ में हुई। आपकी नज्मों को कई मशहूर गायक जैसे तलत महमूद और जगजीत सिंह आदि ने गाकर सदा के लिए अमर कर दिया है।

 

नन्ही पुजारन (लेखनी-अंक 29-जुलाई 2009)

ख्वाबे सहर (लेखनी-अंक 29-जुलाई 2009)

——————————————————————————————————————————————-

 

महादेवी वर्मा

(26 मार्च 1907-11 सितम्बर-1987)
जन्मः फरुख्खाबाद, उत्तर प्रदेश, भारत।
छायावाद के प्रमुख स्तंभों में से एक, कोमल शब्द चित्र और भावों की चितेरी महादेवी वर्मा की रचनाओं में पीड़ा के स्वर नैसर्गिक रूप से रचे-गुंथे हैं हैं। भावों की तीव्रता और गहराई इनके प्रमुख गुण हैं। सत्य और सुन्दर की पुजारी महादेवी ने शिव यानी कि जन कल्याण को ध्यान में रखकर विशेषतः नारी अनुभूति और पीड़ा पर भी काफी लिखा है।

कालजयी कृतियाः

अतीत के चलचित्र। स्मृति की रेखाएँ, (1942) 51 गूढ़, रहस्यवादी, सुन्दर कविताओं का संग्रह। अन्य काव्य संग्रहः

नीहार (1930)। रश्मि ( 1932)। नीरजा ( 1934)। सांध्यगीत (1936)

गद्यः श्रंखला की कडियां  ( नारी अनुभूतियों और पीड़ा पर)।

गध्य- श्रंखला की कडियां, साहित्यकार की आस्था।
मैं नीर भरी दुख की बदली (लेखनी-मार्च-2007)

तुम मुझमें प्रिय ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

जो तुम आ जाते (लेखनी अंक 24-फरवरी-2009)

यह व्यथा की… (लेखनी-अंक 38- अप्रैल-2010)

——————————————————————————————————————————————-

माखन लाल चतुर्वेदी

 

(४ अप्रैल १८८९-३० जनवरी १९६८)

देशप्रेम का ओज और सरल व सहज भाषा में प्रकृति और कोमल भावों के चितेरे।  अनूठे कवि और  रचनाकार। प्रभा और कर्मवीर जैसे प्रतिष्ठत पत्रों के संपादक के रूप में उन्होंने ब्रिटिश शासन के खिलाफ जोरदार प्रचार किया और नई पीढी का आह्वान किया कि वे गुलामी की जंज़ीरों को तोड़ें। इसके लिये उन्हें अनेक बार ब्रिटिश साम्राज्य का कोप भी सहना पड़ा और १९२१-२२ के असहयोग आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लेते हुए जेल भी गए। देशप्रेम के साथ साथ प्रकृति और प्रेम का अत्यंत सुंदर चित्रण मिलता है आपकी कविताओ में।

भोपाल का पं. माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय इन्हीं के नाम पर स्थापित किया गया है।  आपके काव्य संग्रह ‘हिमतरंगिणी’ के लिए १९५५ में हिन्दी का ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’।

काव्य कृतियाँ -हिमकिरीटिनी, हिमतरंगणी, युग चरण, समर्पण, मरण ज्वार, माता, वेणु लो गूंजे धरा, बीजुरी काजल आँज रही ।

प्रसिद्ध गद्यात्मक कृतियाँ-कृष्णार्जुन युद्ध, साहित्य के देवता, समय के पांव, अमीर इरादे :गरीब इरादे ।

कविता धरोहर

कैसा छंद बना देती हैं ( लेखनी-जुलाई-2010)

——————————————————————————————————————————————-

 

मैथली शरण गुप्त  
माँ कह एक कहानी (लेखनी-अंक-8-अक्टूबर 2007)

सखी वो मुझसे कहकर जाते (लेखनी-अंक-8-अक्टूबर 2007)

——————————————————————————————————————————————

मोहम्मद इकबाल
(1877 – 1938 )
कवि, दार्शनिक और स्वतंत्रता सेनानी इकबाल का जन्म सियालकोट, पंजाब( अब पाकिस्तान) में हुआ था। उनके कश्मीरी ब्राह्मण दादाजी श्री सहजराम सप्रू को इस्लाम धर्म अपनाना पड़ा था। 1904 में जब लाला हरदयाल ने (गदर पार्टी के संस्थापकों में से एक) ने लाहौर गवर्मेंट कॉलेज के युवा लेक्चरर को अपनी सभा में आमंत्रित किया तो इकबाल ने  ‘ सारे जहां से अच्छा’ गीत गाकर सभी को स्तब्ध कर दिया था…गीत जो आजभी देश का गौरव है और हर देशप्रेमी के मन में अद्बुत देशप्रेम की लहर उठाता है।

गीत —सारे जहां से अच्छा–लेखनी अंक 6-अगस्त-2007.

———————————————————————————————————————————————————

रघुवीर सहाय

( 7 दिसंबर 2011-9 दिसंबर 1990)

लखनऊ में जन्मे रघुबीर सहाय बातचीत में बेबाकी से कहा करते थे, “नामवर सिंह कहते हैं कि रघुबीर सहाय मार्क्सवादी नहीं हैं, लेकिन काम मार्क्सवादियों की तरह ही करते हैं।” अंग्रेज़ी साहित्य में  लखनऊ विश्वविद्यालय से  एम ए  तथा साहित्य  सृजन में १९४६ से व्यस्त ।पत्रकारिता की शुरुआत दैनिक नवजीवन लखनऊ  से १९४९ में प ।१९५१ के आरंभ तक उपसंपादक और सांस्कृतिक संवाददाता के रूप में काम तथा इसी वर्ष दिल्ली आ गए। यहाँ प्रतीक के सहायक संपादक (१९५१-५२),  आकाशवाणी के समाचार विभाग  में उपसंपादक (१९५३-५७) । १९५५ में विमलेश्वरी सहाय से परिणय सूत्र में बंधे। एक साहित्यकार  के रूप में  दूसरा सप्तक, आत्महत्या के विरुद्ध, हँसो हँसो जल्दी हँसो (कविता संग्रह),  रास्ता इधर से है कहानी संग्रह),  दिल्ली मेरा परदेश  और लिखने का कारण (निबंध संग्रह) प्रमुख कृतियाँ हैं |

वसंत  ( लेखनी-अप्रैल-2013)

आने वाला कल ( लेखनी-अप्रैल-2013)

मेरा जीवन ( लेखनी-अप्रैल-2013)

खोज खबर ( लेखनी-अप्रैल-2013)

पढ़िए गीता ( लेखनी-अप्रैल-2013)

आपकी हंसी ( लेखनी-अप्रैल-2013)

अधिनायक ( लेखनी-अप्रैल-2013)

वे, जो ( लेखनी-अप्रैल-2013)

—————————————————————————————————————————————————————-

 

रमानाथ अवस्थी
(1926-29 जून 2002)

 

मैं सदा बरसने वाला (लेखनी-अंक-5, जुलाई 2007)

मेघ सांवले छा गये हैं( लेखनी-अंक-5, जुलाई 2007)

वरना मैं गगन को गाता ( लेखनी अंक-49-50- मार्च-अप्रैल 2011)

कुछ तुम कहो… (लेखनी अंक-49-50- मार्च-अप्रैल 2011)

बुलावा ( लेखनी-अंक 63-जून 2012)

अंधेरे का सफर ( लेखनी-अंक 63-जून 2012)

रोको मत ( लेखनी-अंक 63-जून 2012)

——————————————————————————————————————————————

रवीन्द्रनाथ टैगोर

मैं मरना नहीं चाहता ( लेखनी-जून-2013)

———————————————————————————————————————————————-

रसखान

मानुष हौं तौ वही रसखान (लेखनी-अंक 18 अगस्त-2008)

 

——————————————————————————————————————————————-

रामचन्द्र द्विवेदी -प्रदीप-

(6 फरबरी 1915-1998)

कवि प्रदीप ने भारतीय फिल्मों को कई यादगार और मधुर गीत दिए हैं। उनके देशप्रेम से भरपूर गीतों का अपना एक विशिष्ट स्थान है। कहते हैं-ए मेरे वतन के लोगों-इस गीत को जब नेहरू जी ने पहली बार सुना था तो असंख्य अन्य आम भारतीयों की तरह वह भी रो पड़े थे। 1997-98 में उन्हें ‘ दादा फालके ‘ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

‘ गीत-ए मेरे वतन के लोगों’-लेखनी अंक 6-अगस्त 2007

बाल गीत

साबरमती के संत – लेखनी-अंक-20-अक्तूबर 2008

——————————————————————————————————————————————

राम अवतार त्यागी

आने से मेरे ( लेखनी-जून-2007)

एक भी आंसू न कर बेकार (लेखनी-जून-2013)

——————————————————————————————————————————————

डा. रामकुमार वर्मा

एकांकी सम्राट डॉ. रामकुमार वर्मा का जन्म १५ सितम्बर सन् १९०५ ई. में मोहल्ला गोपालगंज, सागर में हुआ था। आप इलाहाबाद विश्वविद्यालय से विभागाध्यक्ष –हिन्दी– पद से सेवा निवृत हुये। वीर हम्मीर, चित्तौड़ विजय –प्रबन्ध काव्य– निशीथ, बालि वध, एकलव्य, –खण्ड काव्य– कुलललना, नूरजहाँ, भोजराज, जौहर –आख्यान गीत, पृथ्वीराज की आंखें, रेशमी टाई, रुप-रंग, कुन्ती का परिताप, शिवाजी, रिम-झिम, कौमुदी महोत्सव –ऐतिहासिक एकांकी– मयूर पंख, खट्टे-मीठे, ललित एकांकी, मेरे श्रेष्ठ रंग एकांकी प्रकाशित हैं। साहित्य का आलोचनात्मक इतिहास, कबीर ग्रन्थावली –सम्पादित– कबीर का रहस्यवाद, कबीर : एक अनुशीलन, संस्मरणों के सुमन भी प्रकाशित हैं। आपके काव्य संग्रह अंजलि, अभिशाप, रुपराशि, चारुमित्र, सप्तकिरण, हिमहास, स्मृति के अंकुर, रुप-रंग, ॠतुराज, दीपदान, कामकंदला, चन्द्र किरण, बापू, इन्द्रधनुष, अग्निशिखा, अशोक का शोक आदि हैं।

डॉ. वर्मा बहुमुखी प्रतिभा के साहित्यकार थे। वे श्रेष्ठ कवि तथा एकांकी लेखन के अद्वितीय रचनाकार थे। एक महान नाटककार एवं साहित्य के मूर्धन्य अध्येता थे। उनका प्रत्येक ग्रन्थ साहित्य जगत में प्रकाशमान है। सन् १९६३ ई. में “पद्म भूषण’ से सम्मानित हुए।

 मैं सदा बरसने वाला मेघ बनूँ ( लेखनी-अंक-5-जुलाई 2007)
रजनीबाला ( लेखनी-अप्रैल-2010)

——————————————————————————————————————————————

 

रामेश्वर शुक्ल अँचल


दो सजा मुझको -(लेखनी-अँक 12-फरवरी 2008)

जब नींद नहीं आती होगी–  (लेखनी-अँक 12-फरवरी 2008)

 

——————————————————————————————————————————————-

रामधारी सिंह ‘दिनकर’
1908—अप्रैल 1974

 

चांद और कवि ( लेखनी-अंक 2- अप्रैल-2007)

चांद का कुर्ता ( लेखनी-अंक-4-जून-2007)

वसंत राजा बरखा ऋतुओं की रानी(लेखनी-अंक-5-जुलाई-2007)

पक्षी और बादल, ( लेखनी अंक-5-जुलाई-2008)

आग की भीख ( लेखनी-अंक-6- अगस्त 2008)

निराशावादी (लेखनी-अंक- 47- जनवरी-फरवरी 2011)

अतीत के द्वार पर (लेखनी-अंक- 47- जनवरी-फरवरी 2011)

जय हो जग में जले जहाँ ( लेखनी- नवंबर-2012)

ढीली करो धनुष की डोरी ( लेखनी-नवंबर-2012)

रात यों कहने लगा (लेखनी-जून-2013)

कवि (लेखनी-जून-2013)
——————————————————————————————————————————————

रामप्रसाद बिस्मिल

ऐ मातृभूमि ( लेखनी-अँक-30-अगस्त-2009)

मेरी भावना ( लेखनी-अँक-30-अगस्त-2009)

तेरे चरणों में सिर नवाऊँ ( लेखनी-अँक-30-अगस्त-2009)

 

——————————————————————————————————————————————

राही मासूम रजा

जन्म: 01 सितंबर 1927
निधन: 15 मार्च 1992

राही मासूम रज़ा  का जन्म गाजीपुर जिले के गंगौली गांव में हुआ था और प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा गंगा किनारे गाजीपुर शहर के एक मुहल्ले में हुई थी। बचपन में पैर में पोलियो हो जाने के कारण उनकी पढ़ाई कुछ सालों के लिए छूट गयी, लेकिन इंटरमीडियट करने के बाद वह अलीगढ़ आ गये और यहीं से एमए करने के बाद उर्दू में `तिलिस्म-ए-होशरुबा’ पर पीएच.डी. की। पीएच.डी. करने के बाद राही अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़ के उर्दू विभाग में प्राध्यापक हो गये और अलीगढ़ के ही एक मुहल्ले बदरबाग में रहने लगे। अलीगढ़ में रहते हुए ही राही ने अपने भीतर साम्यवादी दृष्टिकोण का विकास कर लिया था और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के वे सदस्य भी हो गए थे। अपने व्यक्तित्व के इस निर्माण-काल में वे बड़े ही उत्साह से साम्यवादी सिद्धान्तों के द्वारा समाज के पिछड़ेपन को दूर करना चाहते थे और इसके लिए वे सक्रिय प्रयत्न भी करते रहे थे।
१९६८ से राही बम्बई में रहने लगे थे। वे अपनी साहित्यिक गतिविधियों के साथ-साथ फिल्मों के लिए भी लिखते थे जो उनकी जीविका का प्रश्न बन गया था। राही स्पष्टतावादी व्यक्ति थे और अपने धर्मनिरपेक्ष राष्ट्रीय दृष्टिकोण के कारण अत्यन्त लोकप्रिय हो गए थे। यहीं रहते हुए राही ने आधा गांव, दिल एक सादा कागज, ओस की बूंद, हिम्मत जौनपुरी उपन्यास व १९६५ के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए वीर अब्दुल हमीद की जीवनी छोटे आदमी की बड़ी कहानी लिखी। उनकी ये सभी कृतियाँ हिंदी में थीं। इससे पहले वह उर्दू में एक महाकाव्य १८५७ जो बाद में हिन्दी में क्रांति कथा नाम से प्रकाशित हुआ तथा छोटी-बड़ी उर्दू नज़्में व गजलें लिखे चुके थे।

कुछ प्रमुख कृतियाँ आधा गाँव, टोपी शुक्ला, हिम्मत जौनपुरी, ओस की बूँद, दिल एक सादा काग़ज़, अजनबी शहर:अजनबी रास्ते, मैं एक फेरी वाला ग़रीबे शहर
आधा गाँव, नीम का पेड़, कटरा बी आर्ज़ू, टोपी शुक्ला, ओस की बूंद और सीन ७५ उनके प्रसिद्ध उपन्यास हैं।

गीत और गजल

1. जिनसे हम छूट गए      ( लेखनी-सितंबर-2012)

2. क्या वो दिन भी दिन हैं ( लेखनी-सितंबर-2012)

3. अजनबी शहर के         ( लेखनी-सितंबर-2012)

4. हम तो हैं परदेश में ( लेखनी-सितंबर-2012)

5. दिल मे उजले कागज पर ( लेखनी-सितंबर-2012)

6. लेकिन मेरा लावारिश दिल  ( लेखनी-सितंबर-2012)

—————————————————————————————————————————————-

 

लक्ष्मीमल सिंघवी 

   

 

 

हिन्दी अपनी परिभाषा-(लेखनी-अंक-6-अगस्त-2007)  

माँ बोली    (लेखनी-अंक-6-अगस्त-2007)  

 

——————————————————————————————————————————————

  विष्णु प्रभाकर( २१ जून १९१२- ११ अप्रैल २००९)

कविता धरोहर

वैदिक ऋषियों ने ( लेखनी-नवंबर 2012)

सीढ़ियाँ और सीढ़ियाँ ( लेखनी-नवंबर 2012)

दर्द से फूटता है निर्झर ( लेखनी-नवंबर 2012)

तुम पेड़ काटते हो ( लेखनी-नवंबर 2012)

हारे हुए लोगों से ( लेखनी-नवंबर 2012)

मैं बीते युग का ( लेखनी-नवंबर 2012)

——————————————————————————————————————————————-

 

शमशेर बहादुर सिंहः 13 जनवरी, 1911 को मुजफ्फरनगर, उ0प्र0 के प्रतिष्‍ठित जाट परिवार में जन्‍मे शमशेर बहादुर सिंह ने प्रारंभिक शिक्षा देहरादून से ग्रहण करने के बाद उच्‍चतर शिक्षा गोंडा और इलाहाबाद में पाई। रूपाभ, कहानी, नया साहित्‍य, माया, नया पथ व मनोहर कहानियॉं आदि पत्रिकाओं के संपादन से जुड़े रहे। उर्दू हिंदी कोश का संपादन किया। कुछ वर्षों तक प्रेमचंद सृजन पीठ, विक्रम विश्‍वविद्यालय के अध्‍यक्ष भी रहे। 1978 में उन्‍होंने सोवियत संघ की यात्रा भी की। उनकी प्रकाशित काव्‍यकृतियॉं हैं—

कुछ कविताऍं व कुछ और कविताएँ, चूका भी हूँ नहीं मैं, इतने पास अपने, उदिता-अभिव्‍यक्‍ति का संघर्ष, बात बोलेगी, काल तुझसे होड है मेरी, टूटी हुई बिखरी हुई, कहीं बहुत दूर से सुन रहा हूँ

 

गद्यकृतियॉं

कुछ गद्य रचनाऍं
कुछ और गद्य रचनाऍं

चूका भी हूँ नही मैं के लिए 1977 में साहित्‍य अकादेमी पुरस्‍कार, व मध्‍यप्रदेश साहित्‍य परिषद के तुलसी पुरस्‍कार से सम्‍मानित किए गए। 1987 में उन्‍हें मध्‍यप्रदेश सरकार का मैथिलीशरण गुप्‍त पुरस्‍कार प्रदान किया गया।

अंतिम कुछ वर्ष उन्‍होंने रंजना अरगड़े के संरक्षण एवं सान्‍निध्‍य में सुरेन्‍द्रनगर में बिताए।
12 मई, 1993 को अहमदाबाद में देहांत।

कविता धरोहर  ( लेखनी-अगस्त-2011)

1. काल तुझसे होड़ है मेरी

2. ओ मेरे घर

3. अज्ञेय से

4. एक आदमी दो पहाड़ों के बीच

5. आकाश दामामा बाजे

6.चांद से थोड़ी सी गप्पें

7. लौट आ ओ धारा

8. सौंदर्य

9. थरथराता रहा

10. चुका भी हूँ नहीं मैं

11. प्रेम ( लेखनी-फरवरी-2014)

12. एक सोने की…( लेखनी-फरवरी-2014)

——————————————————————————————————————————————

शिवमंगल सिंह सुमन
पर आँखें नहीं भरी (लेखनी अँक 12-फरवरी 2008)
विवशता (लेखनी अँक 12-फरवरी 2008)

मेरा देश जल रहा  -( लेखनी-अंक-18-अगस्त 2008)

——————————————————————————————————————————————-

शैलेन्द्र नाथ श्रीवास्तव

माह के कवि

टूट रहा कुछ (लेखनी-अंक-8-अक्टूबर 2007)

कठपुतले (लेखनी-अंक-8-अक्टूबर 2007)

गन्दी माता (लेखनी-अंक-8-अक्टूबर 2007)

 ——————————————————————————————————————————————

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’

(7-3-19911-1987)

कुशीनगर देवरिया में जन्मे अज्ञेय का अपनी मौलिक व प्रगतिशील सोच और संवेदनशील शैली की वजह से साहित्य में अनूठा स्थान है। एक गहरी और विचारोत्तेजक सोच के बाबजूद भी अज्ञेय जी की भाषा बहुत ही सहज थी और मन को छूती थी।

कुछ प्रमुख कृतियां—हरी घास पर क्षण भर, बावरा अहेरी, इंद्र धनु रौंदे हुए, आंगन के पार द्वार, कितनी नावों में कितनी बार।

कितनी नावों में कितनी बार- नामक काव्य संग्रह के लिए 1978 में भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित। आंगन के पार द्वार- के लिए 1964 का साहित्य अकादमी पुरस्कार।

1. कौन खोले द्वार ( लेखनी-नवंबर-2009)

2. नाच ( लेखनी-नवंबर-2009)

3. चीनी चाय पीते हुए ( लेखनी-नवंबर-2009)

4. बोलो चिड़िया ( लेखनी-नवंबर-2009)

5. यह दीप अकेला ( लेखनी-नवंबर 2010)

6. छंद ( लेखनी-नवंबर-2011)

7. फिर आउँगा मैं ( लेखनी-नवंबर-2011)

8. घर ( लेखनी-नवंबर-2011)

9. जहां सुख है ( लेखनी-नवंबर-2011)

10. क्योंकि मैं ( लेखनी-नवंबर-2011)

11. हँसती रहने देना ( लेखनी-नवंबर-2011)

12. उधार ( लेखनी-नवंबर-2011)

13. पास और दूर ( लेखनी-नवंबर-2011)

14. जैसे जब से तारा देखा ( लेखनी-नवंबर-2011)

15. हम बारबार ( लेखनी-नवंबर-2011)

16. ओ निःसंग ममेतर ( लेखनी-नवंबर-2011)

17. खुल गई नाव ( लेखनी-नवंबर-2011)

18. अमराई महक उठी ( लेखनी-फरवरी-2012)

19. राह ( लेखनी-फरवरी-2012)

20. देह ( लेखनी-फरवरी-2012)

21. तलाश ( लेखनी-फरवरी-2012)

22. अलविदा  ( लेखनी-फरवरी-2012)

23. धूप कनक ( लेखनी मई 2012)

24 .मछलियां ( लेखनी मई 2012)

25. पलकों का कंपना ( लेखनी मई 2012)

26. तुम हंसी हो ( लेखनी मई 2012)

27. मैं तुम क्या ( लेखनी नवंबर 2013)

28. क्योंकर मुझे भुलाओगे ( लेखनी नवंबर 2013)

29. जब मैं ( लेखनी नवंबर 2013)

30 . पुरुष जो मैं दीखती ( लेखनी नवंबर 2013)

31. अपने तप्त करों में लेकर ( लेखनी नवंबर 2013)

32. मेरा तुम्हारा प्रणय ( लेखनी-फरवरी-2014)

——————————————————————————————————————————————-

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना
15 सितम्बर 1927-24 सितम्बर1983

 

1.वाणी मत देना (लेखनी-अप्रैल 2007)

2.चले नहीं जाना बालम (लेखनी अंक 24-फरवरी-2009)
3.विवशता  (लेखनी अंक 24-फरवरी-2009)
4.सूरज को नहीं डूबने दूंगा (लेखनी अंक27-मई 2009)

5.बतूता का जूता (बाल कविता) ( लेखनी-अंक 29-जुलाई 2009)

6.अजनबी देश है यह    ( लेखनी-अँक-30-अगस्त-2009)

7.रंग तरबूजे का      ( लेखनी-अँक-30-अगस्त-2009)

8.धन्त मन्त दुई कौड़ी पावा ( लेखनी-अँक-30-अगस्त-2009)

9.भेड़िए की आंख सुर्ख है  ( लेखनी-अँक-30-अगस्त-2009)

10.जब भी ( लेखनी-अँक-30-अगस्त-2009)

11. आए महंत वसंत (लेखनी अंक-49-50- मार्च-अप्रैल 2011)
——————————————————————————————————————————————

सियाराम शरण गुप्त

बहुमुखी प्रतिभा के साहित्यकार श्री सियारामशरण गुप्त का जन्म भाद्र पूर्णिमा सम्वत् १९५२ वि. तद्नुसार ४ सितम्बर १८९५ ई. को सेठ रामचरण कनकने के परिवार में श्री मैथिलीशरण गुप्त के अनुज रुप में चिरगांव, झांसी में हुआ था। प्राइमरी शिक्षा पूर्ण कर घर में ही गुजराती, अंग्रेजी और उर्दू भाषा सीखी। सन् १९२९ ई. में राष्ट्रपिता गांधी जी और कस्तूरबा के सम्पर्क में आये। कुछ समय वर्धा आश्रम में भी रहे। सन् १९४० ई. में चिरगांव में ही नेता जी सुभाषचन्द्र बोस का स्वागत किया। वे सन्त बिनोवा जी के सम्पर्क में भी आये। उनकी पत्नी तथा पुत्रों का निधन असमय ही हो गया। मूलत- आप दु:ख वेदना और करुणा के कवि बन गये। साहित्य के आप मौन साधक बने रहे।

‘मौर्य विजय’ प्रथम रचना सन् १९१४ में लिखी। अनाथ, आर्द्रा, विषाद, दूर्वा दल, बापू, सुनन्दा, गोपिका आपके खण्ड काव्य हैं। मानुषी –कहानी संग्रह–, पुण्य पर्व –नाटक–, गीता सम्वाद, –अनुवाद–, उन्मुक्त गीत –नाट्य–, अनुरुपा तथा अमृत पुत्र –कविता संग्रह– सर्वप्रसिद्ध है। दैनिकी नकुल, नोआखली में, जय हिन्द, पाथेय, मृण्मयी, आत्मोसर्ग काव्यग्रन्थ हैं। “अन्तिम आकांक्षा’, “नारी’ और गोद उपन्यास है। “झूठ-सच’ निबन्ध संग्रह है। ईषोपनिषद, धम्मपद भगवत गीता का पद्यानुवाद आपने किया।

दीर्घकालीन हिन्दी सेवाओं के लिए सन् १९६२ ई. में “सरस्वती’ हीरक जयन्ती में सम्मानित किये गये। आपको सन् १९४१ ई. में “सुधाकर पदक’ नागरी प्रचारिणी सभा वाराणसी द्वारा प्रदान किया गया। आपकी समस्त रचनाएं पांच खण्डों में संकलित कर प्रकाशित है। असमय ही २९ मार्च १९६३ ई. को लम्बी बीमारी के बाद मां सरस्वती के धाम में प्रस्थान कर गये।

बापू माह विशेष(लेखनी-अंक-8-अक्टूबर 2007)

——————————————————————————————————————————————- 

सुभद्रा कुमारी चौहान (१९०४-१९४८)                                                हिन्दी की सुप्रसिद्ध कवियत्री और लेखिका सुभद्रा कुमारी चौहान का जन्म १९०४ में इलाहाबाद के निकट निहालपुर नामक गांव में रामनाथसिंह के जमींदार परिवार में हुआ था। १५ फरवरी १९४८ में एक कार दुर्घटना में उनका आकस्मिक निधन हो गया था।
उनके तीन कथा संग्रह प्रकाशित हुए पर उनकी प्रसिद्धि झांसी की रानी कविता के कारण है। 1921 में गांधी जी के असहयोग आंदोलन में भाग लेने वाली वह प्रथम महिला थीं। वे दो बार जेल भी गई थीं। सुभद्रा कुमारी चौहान की जीवनी, इनकी पुत्री, सुधा चौहान ने ‘मिला तेज से तेज’ नामक पुस्तक में लिखी है। इसे हंस प्रकाशन, इलाहाबाद ने प्रकाशित किया है। वे एक रचनाकार होने के साथ-साथ स्वाधीनता संग्राम की सेनानी भी थीं। डॉo मंगला अनुजा की पुस्तक सुभद्रा कुमारी चौहान उनके साहित्यिक व स्वाधीनता संघर्ष के जीवन पर प्रकाश डालती है। साथ ही स्वाधीनता आंदोलन में उनके कविता के जरिए नेतृत्व को भी रेखांकित करती है।

जन्माष्टमी  विशेष

 यह कदम्ब का पेड़ अगर मां होता जमुना तीरे… ( लेखनी-अंक 18 -अगस्त-2008)

  झिलमिल तारे (लेखनी-अंक 38- अप्रैल-2010)

   ठुकरा दो या प्यार करो ( लेखनी अंक 44- अक्तूबर 2010)

बचपन वापस आया ( लेखनी अंक 44- अक्तूबर 2010)

 

——————————————————————————————————————————————-

 

सुमित्रानन्दन पंत (मई 20, 1900 – दिसंबर 28, 1977)                                  वीणा, ग्रंथि, पल्लव, गुंजन, ज्योत्स्ना, ग्राम्या, युगांत, उत्तरा, अतिमा, चिदंबरा (भारतीय ज्ञानपीठ से सम्मानित) कला और बूढ़ा चाँद (साहित्य अकादेमी द्वारा पुरस्कृत) तथा लोकायतन जैसे प्रबंध-काव्य सहित 28 पुष्तकों के रचयिता पंत प्रगीत प्रतिभा के पुरोगामी सर्जक तथा कला-विदग्ध कवि के रूप में, व्यापक पाठक वर्ग में समान रूप से आदृत और प्रिय रहे हैं। उन्होंने नाटक, एकांकी, रेडियो-रूपक, उपन्यास, कहानी आदि विधाओं में भी रचनाएँ प्रस्तुत की हैं पर पंत जी की परिचित छवि सुकुमार कवि की ही है।  कौसानी में जन्मे पंत जी को प्रकृति-प्रेम हिमालय की सुरम्य वादियों से विरासत में मिला था और उनका प्रकृति चित्रण व शब्दावली उसी के अनुरूप  विशिष्ट और  रमणीयता लिए हुए है।

चांदनी (लेखनी-नवंबर-2008)

नौका बिहार (लेखनी-नवंबर-2008)

द्रुत झरो (लेखनी-नवंबर-2008)

सावन ( लेखनी-जुलाई-2010)

——————————————————————————————————————————————–
सूरदास

भक्ति काल के तीन प्रमुख कवियों में तुलसी और मीरा के साथ सूरदास का नाम बहुत ही आदर से लिया जाता है। वात्सल्य और श्रंगार रस के सम्राट सूरदास को भारतीय काव्याकाश का सूरज कहना कोई अतिशयोक्ति नहीं है । ‘सूर सूर तुलसी शशी, उद्गन् केशवदास, अन्य कवि खद्गोत सम जंह तंह करत प्रकास ‘। उनका प्रमुख ग्रन्थ सूरसागर हिन्दी साहित्य की अमूल्य निधि है। सूरदास की आयु “सूरसारावली’ के अनुसार उस समय ६७ वर्ष थी। ‘चौरासी वैष्णव की वार्ता’ के आधार पर उनका जन्म रुनकता अथवा रेणु का क्षेत्र (वर्तमान जिला आगरान्तर्गत) में हुआ था। मथुरा और आगरा के बीच गऊघाट पर ये निवास करते थे। गुरु बल्लभाचार्य से भी इनकी भेंट वहीं पर हुई थी। “भावप्रकाश’ में सूर का जन्म स्थान सीही नामक ग्राम बताया गया है। वे सारस्वत ब्राह्मण थे और जन्म के अंधे थे। मदन मोहन, और सूरज दास आदि कई इनके नाम बताए गए हैं और कहा जाता है कि इनकी आयु 105 वर्ष थी।
“आइने अकबरी’ में (संवत् १६५३ वि०) तथा “मुतखबुत-तवारीख’ के अनुसार सूरदास को अकबर के दरबारी संगीतज्ञों में माना है।

सूरदास श्रीनाथ की “संस्कृतवार्ता मणिपाला’, श्री हरिराय कृत “भाव-प्रकाश”, श्री गोकुलनाथ की “निजवार्ता’ आदि ग्रन्थों के आधार पर, जन्म के अन्धे माने गए हैं। लेकिन राधा-कृष्ण के रुप सौन्दर्य का सजीव चित्रण, नाना रंगों का वर्णन, सूक्ष्म पर्यवेक्षणशीलता आदि गुणों के कारण अधिकतर वर्तमान विद्वान सूर को जन्मान्ध स्वीकार नहीं करते।
श्यामसुन्दरदास ने इस सम्बन्ध में लिखा है – “”सूर वास्तव में जन्मान्ध नहीं थे, क्योंकि श्रृंगार तथा रंग-रुपादि का जो वर्णन उन्होंने किया है वैसा कोई जन्मान्ध नहीं कर सकता।” डॉक्टर हजारीप्रसाद द्विवेदी ने लिखा है – “”सूरसागर के कुछ पदों से यह ध्वनि अवश्य निकलती है कि सूरदास अपने को जन्म का अन्धा और कर्म का अभागा कहते हैं, पर सब समय इसके अक्षरार्थ को ही प्रधान नहीं मानना चाहिए।

 जशोदा हरि पालने झुलावै  ( लेखनी -अंक-6-अगस्त 2007)

काहू जोगी की नजर लगी है ( लेखनी-अंक-6-अगस्त 2007)

मैया मोरी मैं नहीं माखन खायो ( लेखनी-अंक-6-अगस्त 2007)

सबसे ऊँची प्रेम सगाई (लेखनी-अँक-12-फरवरी 2008)

मैया मोहे दाऊ बहुत खिजायो ( लेखनी-अंक-6-अगस्त 2007)

मैया मोरी कबहूँ बढ़ेगी चोटी ( लेखनी-अंक-6-अगस्त 2007)

ग्वालिन तैं मेरी गेंद चुराई ( लेखनी-अंक-6-अगस्त 2007)

बूझत श्याम कौन तू गोरी ( लेखनी-अंक-6-अगस्त 2007)

 

 ——————————————————————————————————————————————

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

(21 फरवरी 1896-15 अक्तूबर 1961)
जितना भव्य व्यक्तित्व उतनी ही सशक्त व गरिमामय बहुआयामी रचनाएं; निराला जी की  आज भी अपनी एक अलग पहचान है। महादेवी बर्मा और सुमित्रानंदन पंत व जयशंकर प्रसद के साथ छायावाद के प्रमुख स्तंभ।  काव्य कृतियाँ- परिमल, गीतिका, द्वितीय अनामिका, तुलसीदास, कुकुरमुत्ता, अणिमा, बेला, नये पत्ते, अर्चना, आराधना, गीत कुंज, और सांध्य काकली।

आज प्रथम गाई पिक पंचम (लेखनी-मई-2007)

राम की शक्ति पूजा  (लेखनी-अक्टूबर-2008)

शरद गीत   ( लेखनी-नवंबर-2008)

सांध्य सुन्दरी (  लेखनी-अप्रैल-2012)

कुकुरमुत्ता (  लेखनी-अप्रैल-2012)

——————————————————————————————————————————————-

सोहन लाल द्विवेदी

कविता धरोहर

1. हिम्मत करने वालों की हार नहीं होती (लेखनी-अक्टूबर-2007)

2. खड़ा हिमालय ( लेखनी-सितंबर 2009)

3. गिरवर विशाल( लेखनी-सितंबर 2009)

4. आज बासन्ति उषा है ( लेखनी-जून-2013)

5. प्रकृति संदेश ( लेखनी-जून-2013)

6. रे मन ( लेखनी-जून-2013)

 

——————————————————————————————————————————————-

 

हरिवंश राय बच्चन

27-11-1907–18-1-2003

 

1.लो दिन बीता लो रात गयी ( लेखनी अंक-2-अप्रैल-2007)

2. जो बीत गयी सो बात गयी ( लेखनी अंक-4- जून-2007)

3. जीवन की आपाधापी में (लेखनी अंक 7-सितंबर-2007)

4. इसपार प्रिये मधु है–(लेखनी अंक 7-सितंबर-2007)

5. दिन जल्दी-जल्दी ढलता है ( लेखनी- अंक 36- फरवरी 2010)

6. निर्माण ( लेखनी- अंक 36- फरवरी 2010)

7. तुम तूफान समझ पाओगे ( लेखनी- अंक 36- फरवरी 2010)

8. कहते हैं तारे गाते हैं ( लेखनी- अंक 36- फरवरी 2010)

9. पतझड़ की शाम ( लेखनी-अंक 46- दिसंबर 2010)

10. प्रबल झंझावत है साथी  ( लेखनी-अंक 46- दिसंबर 2010)

11. देखो टूट रहा है तारा ( लेखनी-अंक 46- दिसंबर 2010)

12. कवि की वासना ( लेखनी-सितंबर-2012)

13. मैं कुछ कर न सका ( लेखनी-दिसंबर-2013)

14. याद तुम्हारी…( लेखनी-फरवरी-2014)

15. रात आधी…( लेखनी-फरवरी-2014)

——————————————————————————————————————————————-

त्रिलोचन

(20 अगस्त 1917- 9  दिसंबर 2007)

उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर ज़िले के कठघरा चिरानी पट्टी गाँव में जन्म।

हिंदी की प्रगतिशील काव्यधारा के एक प्रमुख कवि। डॉ. रामविलास शर्मा के शब्दों में वे “एक खास अर्थ में आधुनिक है और सबसे आश्चर्यजनक तो यह है कि आधुनिकता के सारे प्रचलित साँचों को (अर्थात नयी कविता के साँचों को) अस्वीकार करते हुए भी आधुनिक हैं। दरअसल वे आज की हिंदी कविता में उस धारा का प्रतिनिधित्व करते हैं जो आधुनिकता के सारे शोरशराबे के बीच हिंदी भाषा और हिंदी जाति की संघर्षशील चेतना की जड़ों को सींचती हुई चुपचाप बहती रही है। त्रिलोचन जी की कविताएँ समकालीन बोध की रूढ़िग्रस्त परिधि को तोड़ने वाली कविताएँ हैं।”

त्रिलोचन जी तुलसी, शेक्सपियर, गालिब और निराला की परंपरा के समर्थ संवाहक कवि हैं। ‘सॉनेट’ उनका अपना प्रिय छंद है, लेकिन गज़ल, गीत, बरवै और मुक्त छंद को भी उन्होंने अपनी कविता में अपनाया।  मुक्तिबोध सृजनपीठ सागर विश्वविद्यालय के अध्यक्ष व साहित्य अकादेमी समेत अनेक शीर्ष सम्मान व पुरस्कारों से सम्मानित।

प्रमुख कृतियाँ :
कविता संग्रह : धरती, दिगंत, गुलाब और बुलबुल, ताप के ताये हुए दिन, अरधान, उस जनपद का कवि हूँ, फूल नाम है एक, अनकहनी भी कहनी है, तुम्हें सौंपता हूँ, सबका अपना आकाश, अमोला।
डायरी : दैनंदिनी,
कहानी संग्रह : देश-काल।

कविता धरोहरः

1.हंस के समान दिन– (लेखनी-जून-2009)

2.अगर चांद मर जाता (लेखनी-जून-2009)

3.कोयलिया न बोली (लेखनी-जून-2009)

4. परिचय की वो गांठ (लेखनी-जून-2009)

5. दुनिया का सपना (लेखनी-जून-2009)

6. उस जनपद का कवि हूं (लेखनी-जून-2009)

7. हमको भी बहुत कुछ याद था (लेखनी-जून-2009)

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*