कवि समकालीन-1


 

 

*अखतर अली 

आमानाका , रायपुर । (मो  ९८२६१२६७८१)

माह के कवि ( लेखनी-अप्रैल-2010)

1. कविता

2. पेट

3. प्रेम

माह के कवि ( लेखनी-सितंबर-2010)

4. अध्यापक

5. पिता

6.  अम्मा

 

 

 

 

अवधेश निगम

कविता क्यों ( लेखनी-जून-2013)

 

 

 

अभिमन्यु अनंत

परदेशी ( लेखनी अक्तूबर 2012)

 

 

 

 

अमित आनंद

अमित आनंद पाण्डेय
जन्म- २७ नवम्बर १९७७
सम्प्रति- व्यवसाय

कविता आज और अभी

1. देहरादून से लौटते हुए  ( लेखनी-जून-2012)

2. वो सुबह ( लेखनी-जून-2012)

3. अब शायद ( लेखनी-जून-2012)

4. चलो ( लेखनी-अप्रैल-2013)

5. दस दिन हुए ( लेखनी-अप्रैल-2013)

6. हम लौहखण्ड ( लेखनी-सितंबर-2013)

7. वह जो ( लेखनी-फरवरी-2014)

संपर्क- “E-WORLD”
पीली कोठी, रोडवेज चौक, गांधीनगर, बस्ती
उत्तर प्रदेश २७२००१

 

 

 

अमित कल्ला

जन्म     : o7 फरवरी, 1980, जयपुर, राजस्थान

शिक्षा      : एम. ए. ( आर्ट्स ऎंड एस्थेटिक्स ), जवाहर लाल नेहरु विश्वविध्यालय, नई दिल्ली

: कला के इतिहास का अध्यन , राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान, नई दिल्ली

अभिरुचि  : कला और साहित्य,

: देश के विभिन्न शहरों में एकल और सामूहिक चित्र प्रदर्शनियो में भागीदारी .

: प्राचीन भारतीय कला, संस्कृति और साहित्य के अनन्य पक्षों की मर्मज्ञता

प्रकाशित पुस्तक  :” होने न होने से परे”

भारतीय ज्ञानपीठ के नवलेखन पुरस्कार से सम्मानित कविता-संग्रह
: शब्द शब्द विसर्जन -कविता -संग्रह
सम्प्रति  : जयपुर स्थित स्वतंत्र चित्रकार

संपर्क    : 43, जोशी कालोनी ,टोंक फाटक
जयपुर -302015
: मो – 09413692123

ई-मेल    : amitkallaartist@gmail.com

कविता आज और अभीः

1.अंत फिर से दोहराता है ( लेखनी-जून-2012)

2. छू-कर ( लेखनी-जून-2012)

3. ऊंची घास में ( लेखनी-जून-2012)

4. एक दर्शन के लिए ( लेखनी-जून-2012)

5. पुनः सोचो ( लेखनी-जून-2012)

6. गोद में हिमालय की ( लेखनी-जून-2012)

7. कैलाश से मिलता जुलता ( लेखनी-जून-2012)

8. तीर्थ हो जाने का विधान ( लेखनी-जून-2012)

 

 

 

 

 

 

*अखिलेश कुमार

वजूद ( लेखनी अंक-16-वर्ष-2-जून-2008)

 

 

* अगेन्द्र

दीपपर्व (लेखनी अँक-32-अक्तूबर -2009)

 

*अजय पाराशर

पाँच मिनट (लेखनी अंक 38- वर्ष-4, अप्रैल-2010)

क्या…(लेखनी अंक 38- वर्ष-4, अप्रैल-2010)

 

 

 

 

*अनामिका

आंचल से वात्सल्यमयी मां की तरह समाज की कुसंगतियों को पोंछ देने वाली बेहद संवेदनशील कवियत्री अनामिका की बेबाक, कुछ कर गुजरने की ललक लिए कविताएं पाठक के मन को छू देती हैं…

 

नारी मन ( लेखनी-अंक 26-वर्ष 3-अप्रैल 2009)

1. चौका

2. मौसियां

3. एक औरत का पहला राजकीय प्रवास

4. स्त्रियां

5. बेजगह

 

 

*अनिल जनविजय

जन्म : 28 जुलाई 1957, बरेली, उत्तरप्रदेश। 1982 से मास्को में। फिलहालमास्को विश्वविद्यालय में रूसी छात्रों को हिन्दी साहित्य का अध्यापन और रेडियो रूस में प्रोड्यूसर।अन्तर्जाल पर कविता कोश (www.kavitakosh.org) और गद्यकोश (www.gadyakosh.org) का सम्पादन।
हिन्दी में तीन कविता-संग्रह प्रकाशित। दर्जनों रूसी और अन्य विदेशी कवियों का हिन्दी में अनुवाद।

कविता धरोहर

अनुवाद- तीन कविताएं- विचिस्लाव ग्लेबाविच कुप्रियानफ़

कवि, कथाकार और साहित्यिक अनुवादक विचिस्लाव कुप्रियानफ़ का जन्म १९३९ में नवासिबीर्स्क नगर में हुआ। १९५८ से १९६० तक वे लेनिनग्राद के उच्च नौसेना कॉलेज में हथियार इंजीनियरिंग की शिक्षा लेते रहे। फिर १९६७ में उन्होंने मास्को विदेशी भाषा संस्थान के अनुवाद संकाय से एम.ए. किया। लंबे समय तक वे खुदोझेस्तविन्नया लितरातूरा’ (ललित साहित्य) प्रकाशन गृह के लिए अनुवाद और संपादन का कार्य करते रहे। फिर सोवियत लेखक संघ में कार्यरत रहे। इसके अलावा राष्ट्रीय किशोर पुस्तकालय द्वारा आयोजित ‘लाल परचम’ साहित्य-सभा के संयोजक रहे।
विचिस्लाव कुप्रियानफ़ ने छात्र जीवन से ही अनुवाद करना शुरू कर दिया था। सबसे पहले उन्होंने रेनर मारिया रिल्के की कविताओं का मूल जर्मन से रूसी भाषा में अनुवाद किया। इसके अलावा सीधे जर्मन, अंग्रेज़ी, फ्रांसिसी और स्पानी भाषाओं से ‘ललित साहित्य’ प्रकाशन गृह के लिए उन्होंने दर्जनों कवियों की ढेरों पुस्तकों के अनुवाद किए। अरमेनियाई, लातवियाई, लिथुआनियाई तथा एस्तानियाई लेखकों की रचनाओं का भी रूसी में अनुवाद किया।
१९६१ में विचिस्लाव कुप्रियानफ़ की कविताएँ पहली बार प्रकाशित हुईं। १९७० से वे गद्य भी लिखने लगे। १९८१ में उनका पहला कविता-संग्रह प्रकाशित हुआ, जिसका शीर्षक था- ‘सीधे-सीधे’। आलोचकों ने बड़े जोश-खरोश से इस किताब का स्वागत किया। जल्दी ही सभी यूरोपीय भाषाओं में इनकी कविताओं के अनुवाद छपने लगे। हिंदी की पत्रिकाओं में सबसे पहले १९८४-८५ में अनिल जनविजय ने और फिर १९९० के आसपास वरयाम सिंह ने कुप्रियानफ़ की कविताओं के अनुवाद प्रकाशित कराएँ। श्रीलंका में इनकी कविताओं की एक पुस्तक तमिल भाषा में प्रकाशित हो चुकी है। अब तक तीस से ज़्यादा भाषाओं में विचिस्लाव कुप्रियानफ़ की कविताएँ प्रकाशित हुई हैं। कुप्रियानफ़ को रूसी आलोचक रूस में छंद रहित नई कविता का प्रवर्तक मानते हैं।

अनेक अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक मेलों में बेहद चर्चित रहने वाले कुप्रियानफ़ के अन्य कविता-संग्रह हैं- २००२ में प्रकाशित ‘दाइचे दागवारित्च’ (पूरी बात को कहने दीजिए) और २००३ में प्रकाशित ‘लूचशिए व्रेमिना’ (बेहतर समय)। विचिस्लाव कुप्रियानफ़ रूस में कविता-महोत्सवों के आयोजक के रूप में भी जाने जाते हैं।


1. गायन पाठ-1

2. गायन पाठ2  

3.खून का  रिश्ता

4. गायकः अलैक्जैंदर पुश्किन ( लेखनी-अक्तूबर-2013)
5. प्रेमपत्र की विदाईःअलैक्जैंदर पुश्किन ( लेखनी-अक्तूबर-2013)
6. इंतजार करो मैं लौटूंगाः कंस्तांतिन सीमानफ़ ( लेखनी-अक्तूबर-2013)

 

 

* अनिल जोशी

1. उसके दिल की हर धड़कन में  (लेखनी अंक-12- फरवरी 2008)
2.मां के हाथ का खाना (लेखनी अंक-13-वर्ष-2-मार्च-2008)

3. सीता को सोने का मृग चाहिए (लेखनी अंक-20-वर्ष-2-अक्तूबर-2008)

माह के कवि ( लेखनी-अंक-25- वर्ष-3 -मार्च-2009)

4. लन्दन के दोहे

5. दुम

6. हिन्दी साहित्य के गब्बर सिंह

 

 

 अनिल वर्मा

हादसा था…. ( लेखनी-जून-2010)

 

 

* अनिल त्रिपाठी ( अग्निवेद)

1. प्रतिबद्धता (लेखनी अंक 29- जुलाई 2009)

2. पानी (लेखनी अंक 29- जुलाई 2009)

 

अमिता कौण्डल

हायकू  – माँ (3) ( लेखनी-नवंबर-2011)

 

 

* अब्बास रज़ा अल्वी

कवि, लेखक, संगीतकार, गायक व चित्रकार अब्बास रज़ा अल्वी ने उत्तर भारत की गजल गायकी के प्रशिक्षण के साथ-साथ पाश्चात्य संगीत का प्रशिक्षण मास्को से लिया है जहां आपने (1971-1975) ‘गीतिका’ नाम का वाद्य़ समूह संगठित किया जिसके आप मुख्य गिटार वादक थे।

औस्ट्रेलिया में आप विभिन्न सास्कृतिक आयोजनों में संयोजक और कलाकार दोनों ही हैसियत से कई बार भाग ले चुके हैं। मन से मुख्यतः कवि और संगीतकार अब्बास रज़ा अल्वी ने अपने स्वर्गीय पिता ज़नाब मुनव्वर अब्बास अल्वी की स्मृति में पहला औडियो करबला को सलाम आस्ट्रेलिय में निकाला । उसके बाद से अबतक मुनव्वर प्रोडक्शन के तहत वे एक सफल और शानदार रचना दूरियां प्रस्तुत कर चुके हैं जो प्रवासियों की भावनाओं से संबन्धित है। आपकी दूसरी रचनाएं संदेश और गिरमिट हैं।

संपर्क सूत्रः  alvis@bigpond.net.au

दूरभाषः 61-412-960546

माह के कविः लेखनी-सितंबर 2011

1. फिर तेज हवा का यह  झोंका

2. अच्छी लगती थीं सब रंगीन पतंगें

3. हम न भूलेंगे, हम हैं हिन्दुस्तानी

4. माँ का प्यार ( लेखनी-नवंबर-2011)

5. ईश्वर और अल्लाह तू ( लेखनी-दिसंबर-2011)

6. ना जाने बचपन किधर गया ( लेखनी-दिसंबर-2011)

 

 

 

* अमर साहनी

मेरी शुरू से ही (लेखनी-जून-2009)

 

 

* अमरेन्द्र शर्मा

जन्म ०१ -०१ – १९७५

हिंदी की पत्रिकाओं में दर्ज़न भर आलेख और कविताएँ प्रकाशित आलोचना की एक पुस्तक प्रेस में

असिसटेंट प्रोफेसर /  Central Public Information Officer.
Mahatma Gandhi Antarrashtriya Hindi Viswavidyalya , Gandhi Hils , Wardha 442001 ( Maharastra )
माह के कवि ( लेखनी-अगस्त-2011)

वह आती थी जैसे माँ आती हैः सात कविताएं।

कविता आज और अभी

शीर्षक नहीः दो कविताएँ (  लेखनी-अप्रैल-2012)

 

 

 

 

अनीता रश्मि

आश्चर्य ( लेखनी-दिसंबर-2013)

कितनी बार कहा तुमसे ( लेखनी-दिसंबर-2013)

आकाश को करके नीचा ( लेखनी-दिसंबर-2013)

आज ( लेखनी-दिसंबर-2013)

 

 

 



* अरुण  अस्थाना 

 1.प्यार न लिखना (लेखनी-अंक-2-अप्रैल-2007)

2.कहीं            (लेखनी- अंक-2-अप्रैल-2007)

 

*  अरुण कमल

उत्सव ( लेखनी-नवंबर-2013)

 

 

* अरुणा घवाना 

1. समय ( लेखनी-अंक-11-जनवरी-2008) 

 

*  अरुण देव

माह के कविः दिसंबर2013

1. पत्नी के लिए ( लेखनी-दिसंबर-2013)

2. मधुमास ( लेखनी-दिसंबर-2013)

3. बसंत ( लेखनी-दिसंबर-2013)

4. हत्या ( लेखनी-दिसंबर-2013)

5. मेरे अंदर की स्त्री ( लेखनी-दिसंबर-2013)

6. मित्रता ( लेखनी-दिसंबर-2013)

7. आदम की दुनिया ( लेखनी-दिसंबर-2013)

8. एकांत ( लेखनी-दिसंबर-2013)

9. तुम्हारे सुर्ख होठों के लिए ( लेखनी-फरवरी-2014)

 

 

*  अरुणा शर्मा

लड़की ही तो थी ( लेखनी-नवंबर-2013)

 

 

* अलका सिन्हा

शहर में नदी  (लेखनी-जुलाई-अंक-5-वर्ष-2) 

 

 

 

 

* अशोक आंद्रे

अब तक निम्नलिखित कृतियां प्रकाशित :फुनगियों पर लटका एहसास, अंधेरे के ख़िलाफ (कविता संग्रह),समय के गहरे पानी में (कविता संग्रह ),दूसरी मात (कहानी संग्रह), कथा दर्पण (संपादित कहानी संकलन), सतरंगे गीत , चूहे का संकट (बाल-गीत संग्रह), नटखट टीपू (बाल कहानी संग्रह).लगभग सभी राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित. ‘साहित्य दिशा’ साहित्य द्वैमासिक पत्रिका में मानद सलाहकार सम्पादक और ‘न्यूज ब्यूरो ऑफ इण्डिया’ मे मानद साहित्य सम्पादक के रूप में कार्य किया  .सम्मान – राष्ट्रीय हिंदी सहस्त्राब्दी सेवी सम्मान 2001,हिंदी सेवी सम्मान 2005 ( जैमिनी अकादमी (हरियाणा ), आचार्य प्रफुल चन्द्र राय स्मारक सम्मान २०१० (कोलकता),ट्वंटी टेन राष्ट्रिय अकेडमी एवार्ड (हिंदी साहित्य ) २०१० (कोलकत्ता )

स्मृति शेष

1. बरसात के साथ ( लेखनी-मई-2013)

2. गहन निद्रा में ( लेखनी-मई-2013)

कविता  आज और अभी

3. मुद्दे ( लेखनी-अगस्त-2013

4. गुब्बारे में कैद…( लेखनी-नवंबर-2013)

 

 

 

*अशोक गुप्ता

 

 

वह एक पल  ( लेखनी- जून-2009)

बड़ा विनिमय ( लेखनी- जून-2009)

मेरा तुम तक आना ( लेखनी- जून-2009)

धूप ( लेखनी-मई-2012)

किताब ( लेखनी-मई-2012)

 

 

अशोक चक्रधर

दरोगा जी समझ नहीं पाए (  लेखनी-अप्रैल-2012)

 

 

 

* अशोक कुमार पाण्डेय

 

24 जनवरी, 1975 को तत्कालीन आजमगढ़ जिले के सुग्गी चौरी नामक गांव में जन्म। आरंभिक शिक्षा देवरिया और उच्च शिक्षा गोरखपुर में हुई। अर्थशास्त्र के विद्यार्थी रहे अशोक अपने छात्र जीवन से ही रेडिकल वाम की राजनीति से जुड़े और जनांदोलनों में सक्रिय भागीदारी की। पहली कविता वागर्थ में 1991 में छपी और उसके बाद उसी साल कुछ अन्य पत्रिकाओं में। अगले 12-13 साल तक कहीं नहीं। 2004 से पुनः नियमित लेखन। अनेक महत्वपूर्ण पत्र-पत्रिकाओं में कवितायें प्रकाशित। कुछ कविताओं का अंग्रेजी तथा अन्य भारतीय भाषाओं में अनुवाद। साथ में कुछ कहानियां और सामाजार्थिक विषयों पर भी नियमित लेखन तथा प्रगतिशील सामाजिक- सांस्कृतिक आंदोलनों में सक्रिय भागीदारी। वैकल्पिक आर्थिक सर्वेक्षण में आलेख सम्मिलित। ‘युवा संवाद’ पत्रिका के ‘जनकविता अंक’ का संपादन। इंटरनेट पर ‘असुविधा’ तथा ‘जनपक्ष’ ब्लाग के माध्यम से सक्रिय हस्तक्षेप।

एक कविता संकलन लगभग अनामंत्रित शिल्पायन से प्रकाशिता। भूमण्डलीकरण पर एक किताब ‘शोषण के अभयारण्य तथा ‘मार्क्स-जीवन और विचार प्रकाशित। तीन अनूदित पुस्तकें प्रकाशित। अंग्रेजी और गुजराती से कुछ कविताओं का भी अनुवाद। एक पुस्तक ‘भूख, भूमन्डलीकरण और भारत’ शीघ्र प्रकाश्य।

संपर्क – 508 – भावना रेसीडेंसी, सत्यदेवनगर, गांधी रोड, ग्वालियर – 474002

मोबाईल – 09425787930

 

माह के कवि- लेखनी मई 2011

1. दुःस्वप्न

2. खबर

3. लगभग अनामंत्रित

4. परिचय

 

 

अशोक बाजपेयी

कविता आज और अभी

1.आसान नहीं ( लेखनी-फरवरी-2012)
2. जब ( लेखनी-फरवरी-2012)
3. वहाँ यहाँ ( लेखनी-फरवरी-2012)
4. तुम जब चले जाओगे ( लेखनी-फरवरी-2012)

माह के कवि

5.. इतनी भर (लेखनी-जून-2013)
6. खुले नैन से हंस-हंस देखूँ (लेखनी-जून-2013)
7.. कोई नहीं सुनता (लेखनी-जून-2013)
8.. धूप (लेखनी-जून-2013)
9. जागै अरु रोवै (लेखनी-जून-2013)
10. इतने सारे रास्ते (लेखनी-जून-2013)
11. सब कुछ बीत जाता है (लेखनी-जून-2013)
12. थोड़ा सा (लेखनी-जून-2013)
13. गाढ़े अंधेरे में (लेखनी-जून-2013)
14. यह विलाप नहीं है (लेखनी-जून-2013)

15. अनुवाद कविता-एक नदी सेः मूल ज्‍बीग्‍न्‍येव हेर्बेत ( लेखनी-अक्तूबर-2013)

ज्‍बीग्‍न्‍येव हेर्बेत वर्तमान यूक्रेन में जन्‍में कवि, निबंधकार, नाटककार और अनुवादक थे। उनका नाम 20 वीं सदी के महानतम कवियों में गिना जाता हैं।

 

 

 

 

* अशोक रावत

गीत और गज़ल

1. गश्त बढ़ा दी जाती है ( लेखनी-मई-2013)

2. फूलों का अपना…( लेखनी-मई-2013)

3. खेत उजाड़ ( लेखनी-मई-2013)

4. जिन्हें …( लेखनी-मई-2013)

 

*असंग घोष

ओ प़ृथ्वी लेखनी (अंक 10, वर्ष 2 दिसंबर 2008)

*  अशोक कुमार वशिष्ठ

प्यार के रूप ( लेखनी अंक 12- फरवरी 2008)

 

 

* अश्विनि कुमार श्रीवास्तव 

नया साल मुबारक (लेखनी-अंक- 47- जनवरी-फरवरी 2011)

          

*अहमद फराज़

 उर्दू के सबसे लोकप्रिय और चर्चित शायर हैं। उनकी शायरी और शोहरत की बुलन्दियों हिन्दुस्तान में भी शिखर पर हैं। लाहौर,कराची,दिल्ली और लन्दन तक उनकी गजलों और नज्मों को बड़े शौक से पढ़ा और सुना जाता है। दरअसल उनकी शायरी आम लोगों के दुःख दर्द,हँसी-खुशी, राग-विराग की अभिव्यक्ति हैं। उनकी लोकप्रियता आज शिखर चूम रही है और करीब करीब सभी गजल की दुनिया के बड़े नामों ने आपकी नज्मों को अपनी आवाज दी है। अपने बारे में फराज़ साहब ने सही ही लिखा है।

“”मुझे इसका ऐतराफ़ करते हुए एक निशात-अंगेज़ फ़ख़्र महसूस होता है कि जिस शायरी को मैंने सिर्फ़ अपने जज़्बात के इज़हार का वसीला बनाया था इसमें मेरे पढ़ने वालों को अपनी कहानी नज़र आई और अब ये आलम है कि जहाँ-जहाँ भी इन्सानी बस्तियाँ हैं और वहाँ शायरी पढ़ी जाती है मेरी किताबों की माँग है और गा़लिबन इसलिए दुनिया की बहुत सी छोटी-बड़ी जु़बानों में मेरी शायरी के तर्जुमे छप चुके हैं या छप रहे हैं। इस मामले में मैं अपने आपको दुनिया के उन चन्द ख़ुशक़िस्मत लिखने वालों में शुमार पाता हूँ जिन्हें लोगों ने उनकी ज़िन्दगी में ही बे-इन्तिहा मोहब्बत और पज़ीराई बख़्शी है। ”

अबके बिछड़े तो शायद कभी ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

 

आकांक्षा पारे

प्रेम ( लेखनी-फरवरी-2014)

 

 

* आचार्य सारथी रूमी

नए आसमाँ की तलाश में (लेखनी अँक-32-अक्तूबर -2009)

 

* आदिल रशीद

वो लड़की ( लेखनी-नवंबर-2013)

 

आनंद वर्मा

* हर पर्वत नंगा ( लेखनी-अगस्त-2013)

 

आलोक श्रीवास्तव

अब उसके बारे में सोचना है ( लेखनी-फरवरी-2012)

 

* डा. आर्यकुमार हर्षवर्धन

अनहद  ( लेखनी- अंक 51- मई-2011)

अध्यापकः क्राइष्ट कॉलेज, कटक ओड़िशा-753008
ओम निश्चल

तुम्हारे संग ( लेखनी-फरवरी-2012)

मेघदूत सा मन ( लेखनी-फरवरी-2012)   भीतर एक नदी बहती है ( लेखनी-फरवरी-2012)

 

 

ओम भारती

 

1. इतिहास के पर्चे से ( लेखनी-सितंबर-2012)

2. रूप का विद्रूप उर्वर ( लेखनी-सितंबर-2012)

3. असाधारण ( लेखनी-सितंबर-2012)

4. ऐसे अमर कवियों को संबोधित ( लेखनी-सितंबर-2012)

5. सख्ती पसंद की मौत ( लेखनी-सितंबर-2012)

6. सनसनाता आता है झूठा सच ( लेखनी-सितंबर-2012)

 

 

*इन्दु जैन

जानना जरूरी है -(लेखनी-अंक-26-वर्ष-3-अप्रैल-200)
 

 

*इला कुमार

माह की कवियत्री – मार्च 2008

नन्ही चिड़िया (लेखनी अंक-13-वर्ष-2-मार्च-2008)

जिद मछली की (लेखनी अंक-13-वर्ष-2-मार्च-2008)

फूल चांद और रात (लेखनी अंक-13-वर्ष-2-मार्च-2008)

कार्तिक का पहला गुलाब  ( लेखनी -अंक-21-नवंबर -2008)

 

 

*इला प्रसाद  (यू.एस.ए.)

स्त्री (लेखनी-अंक-26-वर्ष-3-अप्रैल-2009)

ठंड ( लेखनी-दिसंबर-2013)

 

*उज्ज्वल भट्टाचार्य

कविता धरोहर ( लेखनी-दिसंबर-2009)

अनुवादः तीन कविताएं- बर्तोल्त ब्रेख्त:

 

बर्तोल्त ब्रेख्त: रंगकर्मी, कवि , लेखक और आलोचक ब्रेख्त का साहित्य जनचेतना का साहित्य था जो सोचने और समझने को मजबूर करता है, कुछ करने की इच्छा जगाता है।

1. द्वंदात्मकता की प्रशस्ति

2. बछड़ों का कूच

3. दलदल

 

*  उमा श्री

पांवों में मीरा के घुंघरू ( लेखनी अक्तूबर 2010)

 

 

* उर्मिला शुक्ला

 

कविता आज और अभी

एक छोटा सा दिन ( लेखनी-जुलाईृ-2013)

घरघघुँदिया ( लेखनी-जुलाईृ-2013)

*उदय प्रताप

मैं सोना चाहता हूँ ( स्पैनिश) लोर्काः अनुवादः उदय प्रताप

 

 

 

*उषा राजे सक्सेना (यू.के.)

1. सन्नाटा (लेखनी-अँक-7-सितंबर-2007)

 

 

 

एकांत श्रीवास्तव


जन्म: 08 फ़रवरी 1964
जन्म स्थान छुरा, छत्तीसगढ़, भारत
कुछ प्रमुख
कृतियाँ
अन्न हैं मेरे शब्द, मिट्टी से कहूँगा धन्यवाद, बीज से फूल तक
विविध शरद बिल्लौरी पुरस्कार, केदार सम्मान, दुष्यंत कुमार पुरस्कार, ठाकुर प्रसाद सिंह पुरस्कार, नरेन्द्रदेव वर्मा पुरस्कार और हेमंत स्मृति कविता सम्मान।

माह के कवि

बसेरा (लेखनी-जुलाई-2013)

समुद्र (लेखनी-जुलाई-2013)

बुनकर की मृत्यु -1 (लेखनी-जुलाई-2013)

बुनकर की मृत्यु-2 (लेखनी-जुलाई-2013)

न शब्द न नक्षत्र (लेखनी-जुलाई-2013)

ढाई आखर (लेखनी-जुलाई-2013)

साहस (लेखनी-जुलाई-2013)

भाई (लेखनी-जुलाई-2013)

 
 

*एच. आर चिराग

मां मुझे भी उगने दे ( लेखनी-अप्रैल-2008-अँक-14)

 

*ऋषभ देव शर्मा

घर बसे हैं (लेखनी अंक-13-वर्ष-2-मार्च-2008)

मुझे पंख दोगे (लेखनी अंक 27 -मई-2009)

 

 

* कमल कुमार

औरतों का सूरज ( लेखनी-मई-2013)

 

* कमलकिशोर भावुक

जीते रहे ( लेखनी-जून-2010)

 

* डॉ. कमलेश द्विवेदी



119/ 427 दर्शनपुरवा

कानपुर-208012 ( उत्तर प्रदेश, भारत)
मो. 09415474674

08081967020

मैं भी जल्दी पापा बन जाऊँ ( लेखनी-जनवरी-2010)
*  कन्हैया लाल बाजपेयी

1. एक कहानी हो बादल (लेखनी-अँक 5-जुलाई-2007) 

 

*  कन्हैया लाल नंदन

मरने में ( लेखनी-अंक46-दिसंबर 2009)

सूर्य की पेशी का गीत ( लेखनी-अक्तूबर-2012)

 

 

 

* कादम्बरी मेहरा  ( यू.के.)

बहुरानी (लेखनी- नवंबर-2010)

 

 

 

किशोर कुमार जैन

जीवन के रंग ( लेखनी अंक 33-नवंबर-2009)

नफरत ( लेखनी -अंक 44- अक्तूबर 2010)

ओह फिर नया साल (लेखनी-अंक- 47- जनवरी-फरवरी 2011)

 

* किशोर दिवसे

वर्षा गानः अज्ञात ( अंग्रेजी) अनुवादः किशोर दिवसे ( लेखनी-अक्तूबर-2013)
अलावः विटर बायनरः (अमरीकी)
अनुवादः किशोर दिवसे ( लेखनी-अक्तूबर-2013)
अकेली बनिहारिनः विलियम वर्ड्सवर्थ( अंग्रेजी)
अनुवादः किशोर दिवसे ( लेखनी-अक्तूबर-2013)
ज्वार भाटाः एच.डबलू. लौंगफैलो ( अमरीकी)
अनुवादः किशोर दिवसे ( लेखनी-अक्तूबर-2013)
समंदर का सायाः
विटर बायनरः (अमरीकी) अनुवादः किशोर दिवसे ( लेखनी-अक्तूबर-2013)

 

* केसरी नाथ त्रिपाठी

ममता ( लेखनी-जुलाई-2011)

 

 

 

* कुंअर बेचैन 

1 जुलाई 1942


सरस व भावपूर्ण गीत व ग़ज़लों से मंच पर छा जाने वाले कुंअर बेचैन का आज देश-विदेश दोनों ही जगह तहे दिल से स्वागत किया जाता है।

 

1. बन्द होठों में छुपा लो ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

2. जिन्दगी यूँ भी जली ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

3. है समय प्रतिकूल माना ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

4. अधर अधर को ढूँढ रही है (लेखनी-जून-2013)

5.ओ बसंती पवन (लेखनी-जून-2013)

6.खुदा को नजर के सामने (लेखनी-जून-2013)

 

 

*कुसुम  अग्रवाल

विवाह   ( लेखनी-अंक-19- सितंबर 2008)

 

*कुसुम  भट्ट

इस समय (लेखनी अंक 27 -मई-2009) 

 

* कुसुम सिन्हा

1.गर तुम गुलाब होते ( लेखनी-अंक-19- सितंबर 2008)

2.तुम्हारी हंसी ( लेखनी -अंक-21-नवंबर -2008)

3. तुम नहीं आए ( लेखनी -अंक-21-नवंबर -2008)

4.बनकर सुगंध..(लेखनी-अंक 24-फरवरी-2009)

5. आजकल चीटियां (लेखनी-अंक-25-मार्च-2009)

6.

7.

8.

9. जाड़े की धूप ( लेखनी अंक 46-दिसंबर 2010)

10. देखा तुम्हें तो ( लेखनी -अंक 49-50- वर्ष 5-  मार्च अप्रैल 2011)

11. गर तुम गुलाब होते ( लेखनी-अंक 52- जून 2011)

 

केशव शरण

बता भी दे ( लेखनी-फरवरी-2010)

 

 

*कवि कुलवंत

1. प्रभात  ( लेखनी-अंक-11-जनवरी-2008)

2. होली के रंग (लेखनी अंक-13-वर्ष-2-मार्च-2008)

3. कवि अपना कर्तव्य निभा तू ( लेखनी-अगस्त-2013)
बाल गीत

1. बापू ( लेखनी  अंक-20-अक्तूबर-2008)

2.

3.

 

 

* कविता वाचक्नवी

दो कविताएँ- रिश्तेः दो स्थितियां ( लेखनी अंक-19-सितंबर-2008)

प्रेम ( लेखनी-अंक 52- जून 2011)

तटस्थ ( लेखनी-अंक 52- जून 2011)

http://streevimarsh.blogspot.com
http://oldiezgold.blogspot.com
http://bloggerbusti.blogspot.com
http://hindibharat.blogspot.com
http://360.yahoo.com/kvachaknavee
http://kvachaknavee.spaces.live.com
http://vaagartha.blogspot.com
http://balsabhaa.blogspot.com
http://kvachaknavee.webs.com
http://groups.yahoo.com/group/HINDI-BHARAT/
http://sandarshan.blogspot.co

 

 

* कुमार अम्बुज

माह विशेष

ये सिर्फ ( लेखनी-मार्च-अप्रैल-2011)

 

*  कुंवर नरायण

हम सब ( लेखनी-दिसंबर-2011)

यह कैसी ( लेखनी-जुलाई-2012)

 

* कृष्ण कुमार यादव

 

माह विशेष

मां  ( लेखनी-मार्च-अप्रैल-2011)

 

 

खुरशीद हयात

 

कविता आज और अभी

रेत घरौंदे ( लेखनी-जुलाई-2012)

आज फिर से ( लेखनी-जून-2013)

निर्वाण ( लेखनी-जून-2013)

 

 

खुशबू सिंह

कविता आज और अभी

कभी कभी ( लेखनी-जुलाई-2012)

 

 

*गगनमीत कौर

दर्शक ( लेखनी अँक -39-वर्ष-4-मई-2010)

 

गायत्री गुप्ता

कला ( लेखनी-जून-2013)

 

 

 

* गिरीष पाण्डे

 1. एक फूल बड़ा-सा (लेखनी-अंक-7-सितंबर-2007)

 

 

* गिरीष पंकज

जन्म-१९५७, वाराणसी, शिक्षा- एम (हिंदी), बीजे( प्रावीण्य सूची  में प्रथम), लोक कला-संगीत में डिप्लोमा, विद्यावाचस्पति की मानद उपाधि, प्रकाशन- ३ व्यग्य उपन्यास( मिठलबरा कि आत्मकथा, माफिया,पालीवुड की अप्सरा), ८ व्यग्य संग्रह ( ट्यूशन शरणम गच्छामि, भ्रष्टाचार विकास प्राधिकरण, ईमानदारो की तलाश, नेताजी बाथरूम में, मंत्री को  जुकाम, मेरी ५१ व्यग्य रचनाये, हिट होने के फार्मूले, मूर्ती की एडवांस बुकिंग) सहित २९ पुस्तके प्रकाशित. एक ग़ज़ल संग्रह यादो में रहता है कोइ प्रकाश्य . सम्मान-पुरस्कार- अट्टहास सम्मान, लीलारानी स्मृति सम्मान, रमनिका फाउन्देशन  सम्मान, रामेश्वर गुरु सम्मान, करवट सम्मान, समन्वय सम्मान, केपी नारायणन पत्रकारिता सम्मान, हिंदी सेवाश्री सम्मान(त्रिनिदाद) सहित २० से ज्यादा सम्मान. विदेश प्रवास– दस देशो की यात्राए. विशेष- गिरीश पंकज की  व्यंग रचनाओ पर ६ शोध  हो चुके है. इस वक़्त कर्णाटक एवं पंजाब के दो शिक्षक शोध कार्य कर रहे है. अनुवाद – उपन्यास मिठलबरा का उड़िया एवं तेलुगु में  तथा माफिया का कन्नड़ में अनुवाद .   सम्प्रति- संपादक, ” सद्भावना दर्पण”, सदस्य, ” साहित्य अकादमी”, नई दिल्ली, अध्यक्ष-छत्तीसगढ़ रास्त्रभाषा प्रचार समिति.  संपर्क- जी-३१,  नया पंचशील नगर, रायपुर. छत्तीसगढ़. ४९२००१ मोबाइल :०९४२५२ १२७२०, ई मेल –
girishpankaj1@gmail.com
1.मैं जो देखूँ तुम्हें  (लेखनी अँक-32-अक्तूबर -2009)

2. साथ आओगे तो ( लेखनी अँक 33-नवंबर-2009)

3. नया दौर अब आएगा (लेखनी-अंक- 47- जनवरी-फरवरी 2011)

4. मन में जब हो उमंग (लेखनी अंक-49-50- मार्च-अप्रैल 2011) होली 2011.

बाल गीत

1. नाम अमर कर जाओ ( लेखनी-नवंबर-2011)

 

* गोपेश बाजपेयी

एक टुकड़ा रोटी का ( लेखनी-सितंबर-2013)

 

* गोवर्धन यादव

पग पग दीपक बारा है ( लेखनी-नवंबर-2013)

 

 

 

* गौतम सचदेव (यू.के.)

 

1. गलत भी बदले तो ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

2.आइने बेशर्म हैं ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

3. यह हिन्दी ( लेखनी-अंक 52- जून 2011)

बालगीत

पतझड़ ( लेखनी -अंक-21-नवंबर -2008)

 

* गौरव कक्कर

1. कैक्टस ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)

2. जमाने भर की ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)

3. जिन्दगी का सामना ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)

 

 

*गुलजार

 

जन्मः 18 अगस्त 1936

 दीना, जिला झेलम (अब पाकिस्तान मं) में  जन्मे सम्पूरन सिंह गुलजार आज के युग के एक जाने माने कवि हैं। आपकी सोजभरी कविताएं सीधे पाठक के हृदय में उतर जाती हैं। आप त्रिवणी छंद के सृजक और बौलीवुड के जाने माने गीतकार हैं।

 

कुछ प्रमुख कृतियां – पुखराज, एक बूँद चांद, चौरस रात , रवि पार, कुछ और नज्में ।

एक पुराना मौसम (लेखनी अँक 12-फरवरी 2008)

हाथ छूटे भी तो (लेखनी अँक 12-फरवरी 2008)

 

 

 

 

*गोपालदास नीरज 

 (8 फरवरी, 1926)

पुरावली, इटावा, उत्तर प्रदेश, भारत

जितनी संवेदन शील और सुकुमार कविता, उतनी ही ओजस्वी वाणी और दिनकर जी के शब्दों में हिन्दी साहित्य की वीणा, कवि नीरज आज के युग के हिन्दी के सर्वाधिक लोकप्रिय कवि और गीतकार हैं। शायद इसमें कोई अतिशयोक्ति भी नहीं। कोमल भाव और सुकुमार उपमाएँ फिर भी कथ्य पूर्णतः खरा… विचारक, संत और कवि तीनों को अपने में समेटे कवि नीरज का व्यक्तित्व विवादों से घिरा रहा है, फिर भी जीवन काल में इतना प्यार और प्रसिद्धि, खुद अपने आप में एक विलक्षण उपलब्द्धि है और किसी-किसी को ही मिल पाती है। आपके गीत और कविताओं ने साहित्यकार और जन साधारण दोनों के ही मन को एक-सी तीव्रता से छुआ है। कालीदास की उक्ति कि भाव शब्दों को ऐसे बींधने चाहिएँ जैसे मोती को धागा, इनकी अधिकांशतः रचनाओं पर सही उतरती है। 

कुछ प्रमुख कृतियां-

     

  

 1. अंधियारा ढल कर ही रहेगा ( लेखनी अँक 9- नवंबर-2007)

2.मेरे देश उदास न हो  ( लेखनी अँक 9- नवंबर-2007)

 3. जलाओ दिए पर ध्यान रहे ( लेखनी अँक 9- नवंबर-2007)

4. तुम दिवाली बनकर     ( लेखनी अँक 9- नवंबर-2007)

5.मधुबन लगता है ( लेखनी अँक 12-फरवरी-2008)

6.याद हमें आती है ( लेखनी अँक 12-फरवरी-2008)
7.लेकिन मन आजाद नहीं (लेखनी अँक 18 अगस्त-2008)

माह विशेष

जीवन जहाँ खत्म हो जाता ( लेखनी-जून-2012)

पथ पर चलना तुझे तो ( लेखनी-जून-2012)

प्रेम पथ हो न सूना ( लेखनी-जून-2012)

गीत और ग़ज़ल

प्यार अगर थामता न ( लेखनी-फरवरी-2014)

हम तेरी याद में ए यार ( लेखनी-फरवरी-2014)

दूर से दूर तलक ( लेखनी-फरवरी-2014)

 

 

*चन्द्रसेन विराट

1. कहो कैसे हो? (लेखनी अंक 2-अप्रैल-2007)

 

चंद्रकांत देवताले

सन 1936 में मध्यप्रदेश के बैतूल जिले के जौलखेड़ा गांव में जन्मे देवताले जी की कविता में समय और सन्दर्भ के साथ ताल्लुकात रखने वाली सभी सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक प्रवृत्तियाँ हैं। उनकी कविता में समय और समाज के सरोकार हैं।  साथ ही उत्तर आधुनिकता को भारतीय साहित्यिक सिद्धांत के रूप में न मानने वालों को भी यह स्वीकारते हैं कि देवताले जी की कविता में समकालीन समय की सभी प्रवृत्तियाँ मिलती हैं। उनकी कविताओं के अनुवाद प्रायः सभी भारतीय भाषाओं में और कई विदेशी भाषाओं में हुए हैं। देवताले जी की कविता की जड़ें गाँव-कस्बों और निम्न मध्यवर्ग के जीवन में हैं। उसमें मानव जीवन अपनी विविधता और विडंबनाओं के साथ उपस्थित हुआ है। कवि में जहाँ व्यवस्था की कुरूपता के खिलाफ गुस्सा है, वहीं मानवीय प्रेम-भाव भी है। वह अपनी बात सीधे और मारक ढंग से कहते हैं। कविता की भाषा अत्यंत पारदर्शी और एक विरल संगीतात्मकता लिए हुए है।

देवताले जी को उनकी रचनाओं के लिए अनेक पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। इनमें प्रमुख हैं- माखन लाल चतुर्वेदी पुरस्कार, मध्य प्रदेश शासन का शिखर सम्मान और सन 2012 में साहित्य अकादमी पुरस्कार।

 

माह विशेष-2

हर कुछ कहीं…(लेखनी-फरवरी-2014)

 

 

*चंद्रकांता

ये तुम्हारे रंग  ( लेखनी अंक-37 , वर्ष 4- मार्च 2010)

 

 

 

 

 

* चकाचौंध ज्ञानपुरी

भ्रष्टाचार ( लेखनी-अंक-25- वर्ष-3 -मार्च-2009)

 

 

* चीतल ( पवन कुमार जालान)

संपर्क सूत्रः बी. 20 44 -4, विजयनगर कौलोनी, भेलूपुर, वाराणसी।

होली के दोहे ( लेखनी-होली विशेषांक-2009)

 

 

* जतिन्दर परवाज़

 

माह के कवि- (लेखनी- नवंबर-2009)

1. क्यों खड़ी हमने की  दीवारें…

2.ख्वाब देखे थे घर के….       

3. यूँ ही उदास दिल…

4. यार पुराने छूट गए….      

5. ठीक नहीं

माह के कवि- ( लेखनी-जुलाई-2010)

 

 

 

 

*जय प्रकाश मानस

चार बाल गीत (लेखनी-अँक-9-2007)

1. स्कूल में लग जाए ताला

2. चलो चलें अब झील पर

3. सोखा किसने सारा पानी

4. मेरा प्यारा घर

 

 

 

 

*जया पाठक

हे मानस के राम (लेखनी अंक-20-वर्ष-2-अक्तूबर-2008)

दीप तुम जलते रहना (लेखनी अंक-20-वर्ष-2-अक्तूबर-2008)

 

 

 

* जितेन्द्र जौहर

गीत और गजल

धुँआ-धुँआ …  ( लेखनी-जून-2011)

 

 

*जेन्नी शबनम

हायकू – माँ (11) ( लेखनी-नवंबर-2011)

 

 

*ज्योति चावला

माह की कवियत्री ( लेखनी-मार्च-2014)

1. माँ का जवान चेहरा

2. चूड़ियाँ

3. इन दिनों

4. राधिका के लिए

5. पुराने घर का वह पुराना कमरा

6. वह लौटता है तो लौट जाती है

7. सिने तारिका

8. समझदारों की दुनिया में माएँ मूर्ख होती हैं

9. रहना यूँ ही जैसे तुम रहे सदा से

10. वह दिन जब तुम थे कुछ अनजान

11. फिर भाग गई लड़की

 

 

ज्योति चौहान

मैं खुश हूँ (लेखनी-अक्तूबर-2011)

माँ करती मैं तुझे नमन ( लेखनी-नवंबर-2011)

 

 

 

*डंडा बनारसी

माह विशेष

 

हम बोल रहे हैं ( लेखनी-अंक-25- वर्ष-3 -मार्च-2009)

आवश्यकता है ( लेखनी-अंक-25- वर्ष-3 -मार्च-2009)

 

* डंडा लखनवी

लोक गीत  ( लेखनी अंक 42-अगस्त-2010)

 

 

*तस्लीमा नसरीन

माह विशेष  ( लेखनी अक्तूबर-2010)

 

प्रेरित नारी

पति पिता पुत्र

सतीत्व

 

 

तजिन्दर लूथड़ा

 

माह के कवि ( ( लेखवी जनवरी फरवरी 2013)

1. अस्सी घाट का बांसुरी वाला

2. मैं आभारी हूँ आपका

3. एक कम महत्व का आदमी

4. जैसे माँ ठगी गई

5. एक साधारण शव यात्रा

6. वक्फा का डर

7. लेकिन

8. लुहार का डर

9. चोरी-चोरी

 


 

 

*तितिक्षा शाह (यू.के.)

1.प्रेम की परिभाषा  (लेखनी अंक-12- फरवरी 2008)

2.अमावस की रात को  (लेखनी अंक-12- फरवरी 2008).

3. रिश्तों का सम्मान  ( लेखनी अंक-22-दिसंबर 2008)

 

*  तेजराम शर्मा

माह के कवि ( लेखनी -जुलाई 2009)

1. यह जो एक रूप (लेखनी अंक 29- जुलाई 2009)

2. नदी की स्नेह स्निग्धता (लेखनी अंक 29- जुलाई 2009)

3. खोई सुबास के लिए (लेखनी अंक 29- जुलाई 2009)

4. सपने में नदी (लेखनी अंक 29- जुलाई 2009)

5. विश्वास (लेखनी अंक 29- जुलाई 2009) 

6. पहाड़ पर दाड़िम (  लेखनी अंक 31- सितंबर 2009)

7. पाप ( लेखनी अंक 33-नवंबर-2009)

8. मुट्ठी भर  ( लेखनी अंक 33-नवंबर-2009)

9. पहाड़ पर बसंत (लेखनी अंक 37- वर्ष 4, मार्च 2010)

 

*तेजेन्द्र शर्मा (यू.के.)

1.लंदन में बरसात ( लेखनी अंक-5-जुलाई-2007)

2. इस उमर में भी ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

3.औरत को जमाने ने ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

 

 

 *तोषी अमृता (यू.के.)

खोई राह स्वयं पा लूंगी (लेखनी अंक-20-वर्ष-2-अक्तूबर-2008)

 

*दामोदर लाल जागिड़

मन मरुथल में ( लेखनी-जुलाई-2010)

 

 

* दिनेश गुप्ता

दिया अंतिम आस का ( लेखनी-अगस्त-2013)

क्या हो गया देश का हाल ( लेखनी-अगस्त-2013)

 

 

 


*  दिनेश ध्यानी

गांव का गजोधर   ( लेखनी अंक-30-वर्ष-3- अगस्त -2009)
 जंतर मंतर की संतानें   ( लेखनी अंक-30-वर्ष-3- अगस्त -2009)
बवंडर ( लेखनी -अगस्त-2010)
न वो घर रहा…( लेखनी-जुलाई-2012)
* दिनेश रघुवंशी

 

1. तुझमें किरणों सा ये उगा क्या है (लेखनी-अंक-10-दिसंबर-2007)
2. जी के दिखा मेरे बग़ैर (लेखनी-अँक-10-दिसंबर-2007)
 

* दिलीप दास

लाल चिड़िया  ( लेखनी-अंक 27- मई 2009)

 

* दिविक रमेश 

 

1.डर (लेखनी-अँक-9-नवंबर-2007)

2. खुशी ( लेखनी-अंक-9-नवंबर-2007)

माह के कवि दिसंबर 2008

3. अपने अपने डेरे  ( लेखनी दिसंबर 2008-अंक-22)

4. कुछ नहीं कहते ( लेखनी दिसंबर 2008-अंक-22)

5. किसने कहा होगा  ( लेखनी दिसंबर 2008-अंक-22)


बाल कविता

चीं चीं चिड़िया ( लेखनी-जनवरी-2010)

 

 

 

* दिव्या माथुर (यू.के.)    

 1. एक बौनी बूँद (लेखनी-अँक-5-जुलाई-2007)

2.  जो तुझको करना है कर  ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

3.  न सुने तो कोई  ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

4. प्रतिदान (लेखनी अंक 12-फरवरी 2008)

5.मां-(लेखनी अंक-1-वर्ष-2-मार्च-2008)

6. मां-(लेखनी अंक-1-वर्ष-2-मार्च-2008)

7.हूक ( लेखनी -अंक-24- फरवरी-2009) 

 

दीप्ति गुप्ता

बरसात ( लेखनी -अक्तूबर-2010)

माह की कवियत्री

मृत्युः तेरह कविताएं ( लेखनी-दिसंबर 2919)

 

 

 

 

* दीप्ति शर्मा

इच्छाएँ ( लेखनी-जून-2013)

खामोशी ( लेखनी-जून-2013)

दंश ( लेखनी-नवंबर-2013)

आवाज (लेखनी-नवंबर-2013)

 

 

 


 

*दीपिका जोशी ( कुवैत)

बाल कविता

1. – खरगोश ( लेखनी-अंक 11-जनवरी-2008) 

 

 

 

*दीपक भट्ट

यह खालीपन ( लेखनी-जून-2010)

 

 

दीपक शर्मा

नारी (लेखनी-अक्तूबर-2011)

 

 

दीपक मशाल

मेरे प्रश्न ( लेखनी-दिसंबर-2013)

 

 

दीक्षित दनकौरी

मूल नामः भुवनेश्वर प्रसाद दीक्षित

जन्मः 4 सितंबर 1956, अमरोहा (उ.प्र.)

शिक्षाः एम.ए. (दर्शन) , डी. वाई. एड, सी.एफ. एन.

गजल संग्रहः डूबते वक्त

अन्य कई सम्मानों के अलावा सन 2001 में दुष्यंत अवार्ड से सम्मानित दनकौरी आज के पसंदीदा और चर्चित गजलकार हैं। बेहद सादगी से मन में उतर जाने वाली आपकी गजलें पढ़ने में भी उतना ही आनंद देती हैं जितना सुनने में।

संपर्क सूत्र- 76, डी.डी.ए फ्लैट्स, मानसरोवर पार्क, दिल्ली।

माह के कविः फरवरी-2010

1. अपनों को अपनाकर देख

2. गलत मैं भी नहीं

3. मरते दम मुस्काया वह

4. हरगिज मत समझौता कर

5. फूलों पर निगरानी है

6. यूँ कभी तेरी

 

देवी नागरानी

 

अब न तेरी याद की.. ( लेखनी जून-2010)

वतन की याद आती है ( लेखनी-अगस्त-2010)

हमें अपनी ( लेखनी-अक्तूबर-2010)

है ग़ज़ल ( लेखनी-अक्तूबर-2010)

जुदाई के मौसम में ( लेखनी -अंक 49-50- वर्ष 5-  मार्च अप्रैल 2011)

लौ दर्दे दिल की ( लेखनी -अंक 49-50- वर्ष 5-  मार्च अप्रैल 2011)
लिखी  चेहरों पे ( लेखनी -जनवरी-2014)
सुब्हदम तू
...( लेखनी-जनवरी-2014)
अनुवाद रूमी की 13 प्रेम कविताएँ ( लेखनी-फरवरी-2014)

 

 

 

* देवमणि पाण्डेय

4 जून 1958 को सुलतानपुर (उ.प्र.) में जन्मे देवमणि पांडेय हिन्दी और संस्कृत में प्रथम श्रेणी एम.ए. हैं। अखिल भारतीय स्तर पर लोकप्रिय कवि और मंच संचालक के रूप में सक्रिय हैं । अब तक दो काव्यसंग्रह प्रकाशित हो चुके हैं- “दिल की बातें” और “खुशबू की लकीरें”। मुम्बई में एक केंद्रीय सरकारी कार्यालय में कार्यरत पांडेय जी ने फ़िल्म ‘पिंजर’, ‘हासिल’ और ‘कहां हो तुम’ के अलावा कुछ सीरियलों में भी गीत लिखे हैं। फ़िल्म ‘ पिंजर ‘ के गीत ” चरखा चलाती माँ ” को वर्ष 2003 के लिए ‘बेस्ट लिरिक आफ दि इयर’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया । आपके द्वारा संपादित सांस्कृतिक निर्देशिका ‘संस्कृति संगम’ ने मुम्बई के रचनाकारों को एकजुट करने में अहम भूमिका निभाई है ।

 

सम्पर्क : देवमणि पाण्डेय : ए-2, हैदराबाद एस्टेट, नेपियन सी रोड, मालाबार हिल, मुम्बई – 400 036

M : 98210-82126    Email : devmanipandey@gmail.com

माह के कवि ( लेखनी-जुलाई-2011)

1.शुक्रिया मेरे शहर

 2.सपनों के शहर में

3. शहर हमारा

4.शहर : एक एहसास

 

 

डॉ. नगमा जावेद मलिक

माह की कवियत्री ( लेखनी-जून-2011)

1.इंतजार में

2.अन्याय

3. बेटी

4. संकल्प

5. विश्वास

6. चेतना के पंख

 

नरेन्द्र जैन

जोधपुर चिठ्ठी ( लेखनी-अक्तूबर-2012)

 

श्री नरेश मेहता

पीले फूल कनेर के ( लेखनी-मार्च 2010)

 

* नरेश शांडिल्य

1. अंधेरों के खिलाफ (लेखनी-अँक-9-नवंबर-2007)

2. साथ अगर जो…(लेखनी-अँक-9-नवंबर-2007)

3. पुनर्जन्म (लेखनी-अँक-9-नवंबर-2007)

4. एक खुली खिडकी सी लड़की (लेखनी-अँक-10-दिसंबर 2007)

5. आज फिर दर्द जिग़र से गुजरा (लेखनी-अँक-10-दिसंबर 2007)                                                                                                                                                                                                         6. मेरे तो वह राम ( (लेखनी अंक-20-वर्ष-2-अक्तूबर-2008)

माह के कवि

7.    क्या हम भी औरों से होंगे   ( लेखनी अंक-30-वर्ष-3- अगस्त -2009)

8.           दोहे                      ( लेखनी अंक-30-वर्ष-3- अगस्त -2009)

9. धूप के चिकत्ते ( लेखनी मई 2012)

10 . किस क्षितिज की ओर से ( लेखनी मई 2012)

11. धूप के सपने तो ( लेखनी मई 2012)

 

 

 

 

* नरेश सक्सेना

माह के कवि

1. बारिश में ( लेखनी-मई-2013)

2. गिरना ( लेखनी-मई-2013)

3. सुनो चारुशीला ( लेखनी-मई-2013)

4. तुम वही मन हो ( लेखनी-मई-2013)

5. नीम की पत्तियाँ ( लेखनी-मई-2013)

6. शिशु ( लेखनी-मई-2013)

7. सीढ़ियाँ कभी ( लेखनी-मई-2013)

 

 

 

 

 

 

* नलिनी पुरोहित

गाँव और शहर    ( लेखनी 2009-अंक-23)


* नासिर काजमी

1. कपड़े बदलकर (लेखनी-अँक-10-दिसंबर 2007)2. दिल में एक लहर सी  (लेखनी-अँक-10-दिसंबर 2007) 

 

* निखिल कौशिक  (यू.के.)

1. अकेलापन (लेखनी-अंक-7-जुलाई-2007)

2. सारा समय (लेखनी (अंक 10, वर्ष 2 दिसंबर 2008)

 

* नित्यानंद तुषार

दो गजल (लेखनी-अंक- 47- जनवरी-फरवरी 2011)

 

*निदा फाजली

जन्म-12 अक्टूबर 1938

 वर्तमान ग़ज़ल दुनिया के एक सशक्त हस्ताक्षर। दार्शनिकता का पुट लिए हुई नज्में। बेहद संवेदनशील कबीर की परंपरा के कवि। प्रमुख कृतियां- लफ़्जों के फूल, मोर नाच, आँख और ख्वाब के दरमियाँ, सफ़र में धूप तो होगी। 1988 में साहित्य अकादमी पुरस्कार।

 

1.दुनिया जिसे कहते हैं ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

2.जब किसी से गिला रखना ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

3. दोहा- वो सूफी का कौल हो….(लेखनी अँक 12 फरवरी 2008)

4. दोहा-चाहे गीता बांचिए …( लेखनी अँक 12 फरवरी 2008)

5. एक दिन (लेखनी अंक 28  जून 2009)

6. दूर का सितारा ( लेखनी- अँक 38-अप्रैल-2010)

7. बेसन की सौंधी रोटी पर…( लेखनी- अँक 38-अप्रैल-2010)

8. सर्दी ( लेखनी-दिसंबर-2013)

 

 

 

 

 

* निर्मला सिंह

जन्म स्थान : बरेली, तिथि ०९ अप्रैल, १९४३

शिक्षा : एम.ए., एल.टी.

प्रकाशन : लगभग सभी भारतीय पत्र-पत्रिकाओं एवं पत्रिका पुरवाई (लन्दन) तथा बी.बी.सी., व आकाशवाणी से रचनाएं प्रकाशित प्रसारित
सम्मान : भारत व यूके की अनेक संस्थाओं द्वार सम्मानित
कहानी संग्रह – पिंजरा खुल गया, क्षितिज के पार, धुंए के पहाड़, संजीवनी बूटी, धुंए की इमारत, सन-सेट-व्यू, मुठ्ठी में बंद खुशबू।
लघुकथा संग्रह – बबूल का पेड़, सांप और शहर।

कविता संग्रहः वक्त की खूंटी
प्रकाशित पुस्तकें : उपन्यास – पिघलता सीसा, अक्षम्य1.

माह की कवियत्री  (लेखनी-अंक 26 -अप्रैल-2009)

1.मन की सड़क

2.. तुम जो हो, वह नहीं हो

3 आइना.

 

बाल गीत

1. एक गुलाब (लेखनी अंक 35- जनवरी 2010)

2. काश हमारे भी पर होते ( लेखनी-अँक 39 -मई-2010)

3. हम हिन्दुस्तानी ( लेखनी अंक 42- अगस्त-2010)

.

* नीना पॉल (यू.के.)

1. जबाव सोचकर  वो  ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

2. नगमों के सिलसिले   ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

 

 

*नीरजा द्विवेदी

1. किसलय वसना ( लेखनी-मार्च-अप्रैल-2011)

2. व्यथा की आत्मकथा ( लेखनी-अगस्त-2013)

3. नारी की द्रोही नारी है ( लेखनी-अगस्त-2013)

 

 

 

*नीरजा माधव

दशरथ के बहाने (लेखनी अंक-20-वर्ष-2-अक्तूबर-2008)

*नीलम सिंह

ज़लज़ला ( लेखनी अंक- 39- वर्ष 4-मई-2010)

 

 

नीलोत्पल

मैं कितना कुछ ( लेखनी-जून-2013)

बिजली के नंगे तार  ( लेखनी-जून-2013)

आईने के बरअक़्स ( लेखनी-जुलाई-2013)

रास्ते वहाँ भी है ( लेखनी-जुलाईृ-2013)

जीवन संवाद ( लेखनी-सितंबर-2013)

 

*पद्मा मिश्रा

1. सूर्य पूजा ( लेखनी-मई-2013)

2. बहुत दिनों के बाद ( लेखनी-मई-2013)

3. मैं कविता हूँ ( लेखनी-जून-2013)

4. अपनी आजादी के नाम ( लेखनी-अगस्त-2013)

याद करें बचपन के दिन ( लेखनी-मार्च-2014)

तुम हो यहीं कहीं ( लेखनी-मार्च-2014)

 

माह विशेष

5. साथ तुम्हारा ( लेखनी-नवंबर-2013)

6. यह प्रकाश का पर्व ( लेखनी-नवंबर-2013)

7. प्रेम की पूरकता ( लेखनी-फरवरी-2014)

 

 

 

* पद्मेश गुप्त (यू.के.)

मां   (लेखनी-अंक-1-मार्चृ2007)

पारित प्रस्ताव (लेखनी अंक-6-अगस्त-2007) गेहूँ का रंग     (लेखनी अंक-30-वर्ष-3- अगस्त -2009)

दोहरी नागरिकता  ( लेखनी अंक-30-वर्ष-3- अगस्त -2009)

 

* परमेश्वर फुंकवाल

पांच लघु कविताएँ- केदारनाथ ( लेखनी-अगस्त-2013)

 

 * पवन करण

माह के कवि ( लेखनी-अप्रैल-2014)

1. कहना

2. कोट में बाजू पर बटन

3. पीठ

4. सवारा

5. छिनाल

6. झूठ

7. वाकिंग दि प्लैंक

8. बाजार

9. नब्बे लाख

10. भूलना

11. गरीब देश (1)

12 गरीब देश ( 2)

13. आस्था

14. विश्वपला

15. भाई

16. सूर्या सावित्री

17. इससे पहले कि वो

 

* पुरुषोत्तम विश्वकर्मा

मुर्दा अशआर ( लेखनी-सितंबर-2010)

 

 

 

 

* पुष्पा भार्गव

नव वर्ष अभिनंदन (लेखनी-अंक- 47- जनवरी-फरवरी 2011)


 

* पुष्पिता अवस्थी

गुरगॉंव कानपुर देहात में जन्‍मी प्रो.पुष्‍पिता अवस्‍थी हमारे समय की सुपरिचित कवयित्री, कथाकार,गद्य लेखिका एवं भाषाविद् हैं। भारतीय राजदूतावास, सूरीनाम पारामारिबो के भारतीय सांस्‍कृतिक केंद्र में प्रथम सचिव एवं विजिंटिंग प्रोफेसर-हिंदी के रूप में कार्य कर चुकी पुष्‍पिता के छह कविता संग्रह: शब्‍द बन कर रहती हैं ऋतुऍं, अक्षत, ईश्‍वराशीष, रस गगन गुफा में अझर झरै, हृदय की हथेली व अंतर्ध्‍वनि, दो कथा संग्रह: गोखरू व जन्‍म,

व कई गद्यकृतियॉं प्रकाशित हैं। शैल प्रतिमाओं से उनका ताजा त्रिभाषीय कविता संचयन है। सूरीनाम में रहते हुए उन्‍होंने सातवॉं विश्‍व हिंदी सम्‍मेलन आयोजित किया तथा सूरीनाम व उसके रचनात्‍मक परिदृश्‍य को लेकर कई पुस्‍तकें संपादित कीं।

विश्‍व के तमाम देशों का भ्रमण कर चुकी पुष्‍पिता इन दिनों नीदरलैंड में रह रही हैं

तथा हिंदी युनिवर्स फाउंडेशन की निदेशक हैं।

पताः पुष्‍पिता अवस्‍थी,

WINTERKONING-28

1722 CB ZUID-SCHARWOUDE

THE NETHERLANDS

EMAIL:pushpita.awasthi@bkkvastgoed.nl

Phone: 0031-72-5402005
शब्दों के भीतर की आवाज (लेखनी-अंक-7-सितंबर-2007)

माह की कवियत्री ( लेखनी-मार्च-2013)

1. तुम्हारी सांसों के नाम

2. ओठों पर शंख

3. पीताम्बरी शगुन

4. अनमिट परछाँई

5. समर्पण के नाम संबोधन

6. मैं जानती हूँ

7. देह का निर्गुण और सगुण

8. चिठ्ठी से

9. राग प्रार्थना

10. प्रेम धुन

 

 

 

*पूनम बत्रा

ऐसे ही जीना होगा  ( लेखनी जून 2010)
* पूर्णिमा वर्मन ( दुबई)

1.गुलमोहर (लेखनी-अंक-3-मई-2007)

2.शहर में बरसात (लेखनी-अंक-5-जुलाई-2007)

3.मेरी भाषा ( लेखनी-अंक 6-अगस्त-2007)

4.कोई साथ में है (लेखनी-अंक 12-फरवरी 2008)

5.एक गीत और कहो (लेखनी-अंक 12-फरवरी 2008)

6. आज दिन ( लेखनी अंक 28  जून 2009)

7. मेरे गांव में ( लेखनी-अंक 59- जनवरी 2012)

 

* पंकज मिश्र ‘ अटल ‘

ऋचाओं में कथानक (लेखनी अँक 18 अगस्त-2008)

कांच की खिड़कियाँ हैं  ( लेखनी जून 2010)

 

 

 

 

पंखुरी सिन्हा

संपर्क—39, मेरीवेल क्रेस्सेंट, कैलगरी, NE, AB,  कैनाडा, T2A2V5

ईमेल—-sinhapankhuri412@yahoo.ca,

403-921-3438—सेल फ़ोन

जन्म —18 जून 1975

शिक्षा —एम ए, इतिहास, सनी बफैलो, 2008,

पी जी डिप्लोमा, पत्रकारिता, S.I.J.C. पुणे, 1998

बी ए, हानर्स, इतिहास, इन्द्रप्रस्थ कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय, 1996

अध्यवसाय—-BITV, और ‘The Pioneer’ में इंटर्नशिप, 1997-98,
— FTII में समाचार वाचन की ट्रेनिंग, 1997-98,
—– राष्ट्रीय सहारा टीवी में पत्रकारिता, 1998—2000

प्रकाशन———हंस, वागर्थ, पहल, नया ज्ञानोदय, कथादेश, कथाक्रम, वसुधा, साक्षात्कार, अभिव्यक्ति, जनज्वार, अक्षरौटी, युग ज़माना, बेला, समयमान, अनुनाद, सिताब दियारा, पहली बार, पुरवाई, लोकतंत्र दर्पण, सृजनगाथा, विचार मीमांसा, रविवार, सादर ब्लोगस्ते, हस्तक्षेप, दिव्य नर्मदा, शिक्षा व धरम संस्कृति, उत्तर केसरी, इनफार्मेशन2 मीडिया, रंगकृति, हमज़बान, अपनी माटी, लिखो यहाँ वहां, बाबूजी का भारत मित्र आदि पत्र पत्रिकाओं में, रचनायें, प्रकाशित,

हिंदिनी, हाशिये पर, हहाकार, कलम की शान, समास, हिंदी चेतना, गुफ्तगू आदि ब्लौग्स व वेब पत्रिकाओं में, कवितायेँ तथा कहानियां, प्रतीक्षित

किताबें —– ‘कोई भी दिन’ , कहानी संग्रह, ज्ञानपीठ, 2006
‘क़िस्सा-ए-कोहिनूर’, कहानी संग्रह, ज्ञानपीठ, 2008
कविता संग्रह ‘ककहरा’, शीघ्र प्रकाश्य,

पवन जैन द्वारा सम्पादित शीघ्र प्रकाश्य काव्य संग्रह ‘आगमन’ में कवितायेँ सम्मिलित

पुरस्कार—   राजीव गाँधी एक्सीलेंस अवार्ड 2013, दिए जाने की घोषणा

पहले कहानी संग्रह, ‘कोई भी दिन’ , को 2007 का चित्रा कुमार शैलेश मटियानी सम्मान,

—–‘कोबरा: गॉड ऐट मर्सी’, डाक्यूमेंट्री का स्क्रिप्ट लेखन, जिसे 1998-99 के यू जी सी, फिल्म महोत्सव में, सर्व श्रेष्ठ फिल्म का खिताब मिला

————-‘एक नया मौन, एक नया उद्घोष’, कविता पर,1995 का गिरिजा कुमार माथुर स्मृति पुरस्कार,
————-1993 में, CBSE बोर्ड, कक्षा बारहवीं में, हिंदी में सर्वोच्च अंक पाने के लिए, भारत गौरव सम्मान

अनुवाद—-कवितायेँ मराठी में अनूदित,
कहानी संग्रह के मराठी अनुवाद का कार्य आरम्भ,
उदयन वाजपेयी द्वारा रतन थियम के साक्षात्कार का अनुवाद,

सम्प्रति—-

‘डिअर सुज़ाना’ तथा ‘प्रिजन टॉकीज़’, अंग्रेज़ी में, दो कविता संग्रहों पर काम,
पत्रकारिता सम्बन्धी कई किताबों पर काम, माइग्रेशन और स्टूडेंट पॉलिटिक्स को लेकर, ‘ऑन एस्पियोनाज़’,

एक किताब एक लाटरी स्कैम को लेकर, कैनाडा में स्पेनिश नाइजीरियन लाटरी स्कैम,

और एक किताब एकेडेमिया की इमीग्रेशन राजनीती को लेकर, ‘एकेडेमियाज़ वार ऑफ़ इमीग्रेशन’,

युद्ध की शिनाख्त ( लेखनी-अप्रैल-2013)

सिद्धांत की जमीं पर ( लेखनी-अप्रैल-2013)

 

 

 

 

 

 

 

प्रतापराव कदम

माह के कवि

1. विष्णु गणपत चौधुले ( लेखनी अक्तूबर 2012)

2. उसकी कुंआर की दोपहर ( लेखनी अक्तूबर 2012)

3. घृणा                          ( लेखनी अक्तूबर 2012)

4. हितैषी कहां सब करते हैं ( लेखनी अक्तूबर 2012)

5. लानत भेजता  हूँ मैं    ( लेखनी अक्तूबर 2012)

6. जलते कटते फटते हैं माण्डे    ( लेखनी अक्तूबर 2012)

7. नींद                                        ( लेखनी अक्तूबर 2012)

8. गूंज                                   ( लेखनी अक्तूबर 2012)

 

 

 

 

* प्रतिभा मुदलियार

माह की कवियत्री – नवंबर-2008

कुछ क्षण ( लेखनी -अंक-21-नवंबर -2008)

अक्सर ( लेखनी -अंक-21-नवंबर -2008)

सन्नाटा ( लेखनी -अंक-21-नवंबर -2008)

 

 

 

प्रवीण पंडित

धूप ( लेखनी-जून-2011)

जेठ की टीक दुपहरिया ( लेखनी-जून-2011)

 

 

 

 

* प्रभा किरण जैन

मुस्कुराती नहीं लड़कियां ( लेखनी-अंक-19- सितंबर 2008)

 

 

* प्रभाकर पाण्डेय

हिंदी अधिकारी, सी-डैक पुणे, पुणे
विश्वविद्यालय
मैं ब्राह्मण हूँ   ( लेखनी -अंक 45- नवंबर-2010)
* प्रभुदयाल श्रीवास्तव

 

जन्म      4 अगस्त 1944 धरमपुरा दमोह {म.प्र.]
शिक्षा      वैद्युत यांत्रिकी में पत्रोपाधि
लेखन      विगत दो दशकों से अधिक समय से कहानी,कवितायें व्यंग्य ,लघु कथाएं लेख,  बुंदेली लोकगीत,बुंदेली लघु कथाए,बुंदेली गज़लों का लेखन

प्रकाशन     लोकमत समाचार नागपुर में तीन वर्षों तक व्यंग्य स्तंभ तीर तुक्का, रंग बेरंग में            प्रकाशन,दैनिक भास्कर ,नवभारत,अमृत संदेश, जबलपुर एक्सप्रेस,पंजाब केसरी,एवं देश के लगभग सभी हिंदी समाचार पत्रों में व्यंग्योँ का प्रकाशन, कविताएं बालगीतों क्षणिकांओं का भी प्रकाशन हुआ|पत्रिकाओं में भी कई रचनाएं प्रकाशित

कृतियां       1 दूसरी लाइन [व्यंग्य संग्रह]शैवाल प्रकाशन गोरखपुर से प्रकाशित
2 बचपन गीत सुनाता चल[बाल गीत संग्रह]बाल कल्याण एवं बाल साहित्य शोध केन्द्र भोपाल से प्रकाशित

3 बचपन छलके छल छल छल[बाल गीत संग्रह]बाल कल्याण एवं बाल साहित्य शोध केन्द्र भोपाल से प्रकाशित

प्रकाशनाधीन  1 बिल क्लिंटन का नाम करण संस्कार[व्यंग्य संग्रह}शैवाल प्रकाशन

2 शाला है अनमोल खजाना[बाल गीत संग्रह]बाल कल्याण एवं बाल साहित्य शोध केन्द्र     भोपाल

3      बच्चे सरकार चलायेंगे[बाल गीत संग्रह]बाल कल्याण…………………

प्रसारण     आकाशवाणी छिंदवाड़ा से बालगीतों,बुंदेली लघु कथाओं एवं जीवन वृत पर परिचर्चा का प्रसारण

सम्मान    राष्ट्रीय राज भाषा पीठ इलाहाबाद द्वारा “भारती रत्न “एवं “भारती भूषण सम्मान”

श्रीमती सरस्वती सिंह स्मृति सम्मान वैदिक क्रांति देहरादून एवं हम सब साथ साथ पत्रिका दिल्ली

द्वारा “लाइफ एचीवमेंट एवार्ड”

भारतीय राष्ट्र भाषा सम्मेलन झाँसी द्वारा” हिंदी सेवी सम्मान”

शिव संकल्प साहित्य परिषद नर्मदापुरम होशंगाबाद द्वारा”व्यंग्य वैभव सम्मान”

युग साहित्य मानस गुन्तकुल आंध्रप्रदेश द्वारा काव्य सम्मान

विशेष     बुंदेली लोक गीत,गज़लें बुंदेली साहित्य  पर लेख| वर्ष 2009 में साहित्य अकादमी दिल्ली में आयोजित बुंदेलखंड साहित्य परिषद भोपाल के कार्यक्रम में रवींद्र भवन दिल्ली में बुंदेली की दक्षिणी सीमाऐं विषय पर आलेख का पाठन|

फरवरी 2011 में सृजन सम्मान संस्था रायपुर के साथ तृतीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन  बैंकाक‌ में शिरकत की एवं बाल साहित्य सम्मान से सम्म्मानित‌

संप्रति       सेवा निवृत कार्यपालन यंत्री म. प्र.विद्युत मंडल छिंदवाड़ा से

संपर्क        12, शिवम सुंदरम नगर छिंदवाड़ा[ म.प्र.]
बालगीत-

सूरज भैया ( लेखनी-मई-2012)

चलने वाले घर ( लेखनी-अक्तूबर-2012)

जब होनी थी ( लेखनी-नवंबर-2012)

राखी का त्योहार ( लेखनी-अगस्त-2013)

 

 
* प्राण शर्मा (यू.के.)

1. मां बोली (लेखनी-अँक-6-अगस्त-2007)

2. मन किसी का  ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

3. हर एक कुटुम्ब में ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)
4.  मेले में    ( लेखनी अंक-30-वर्ष-3- अगस्त -2009)

5. छोड़ आया हूँ  ( लेखनी अंक-30-वर्ष-3- अगस्त -2009)
6. बदलियां ( लेखनी-अंक-41-जुलाई-2010)
7. मेरे वतन के लोगों ( लेखनी -अंक 42- अगस्त-2010)

माह के कवि- नवंबर 2010- तीन गजलें

8. आज नहीं तो कल

9. हाथी घोड़ा बनकर

10. एक दिन ऐसा आएगा

11.  नया साल आया है (लेखनी-अंक- 47- 48-जनवरी-फरवरी 2011)

12.                                ( लेखनी-अंक 52- जून 2011)

13. मैंने तेरा नाम लिखा है ( लेखनी-अंक 52- जून 2011)

14. मुस्कराता हो तो ( लेखनी मई 2012)

15. वक्त हर इक का ( लेखनी मई 2012)

16. बुलबुलों की ( लेखनी मई 2012)

17. जिन्दगी को ढूँढने ( लेखनी मई 2012)

गीत और गजल

18.    दुनिया के दुख में      ( लेखनी-अक्तूबर-2012)

19. जितना चढा ले गुड्डी ( लेखनी-अक्तूबर-2012)

 
* प्रेमरंजन अनिमेष

1.फिर भी (लेखनी-अंक-2-अप्रैल 2007)

 

* प्रेरणा पांडेय
नदी  (लेखनी-जुलाई-अंक-5-वर्ष-2)  प्रतिभा 

 

प्रियंका पियु

जब आओ मिलने ( लेखनी-फरवरी-2014)

 

* बशीर बद्र

1. कोई फूल धूप की पत्तियों में ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

2. कहीं चांद राहों में खो गया ( लेखनी अँक 10- दिसंबर-2007)

 

 

 

*ब्रज श्रीवास्तव

संपर्क सूत्रः 233, हरिपुरा, विदिशा।

पर एक उमाशंकर है (लेखनी-जून-2009)

 

* बाल कवि बैरागी

झर गये पात (लेखनी-दिसंबर-2010)

 

 

 

* बाल स्वरूप राही

बाल गीत

गान्धीजी के बन्दर तीन (  लेखनी अँक 20- अक्तूबर-2008) 

माह विशेष

कहीं तुम…(लेखनी -अंक-24- फरवरी-2009) 

माह के कवि

एक दूरी ( लेखनी-जुलाई-2012)

सींखचे गुलाब के ( लेखनी-जुलाई-2012)

अनबरसी बदली ( लेखनी-जुलाई-2012)

 

 

* बीना त्रिपाठी

ठूँठ ( लेखनी -अंक-21-नवंबर -2008)

संबोधन  (लेखनी अंक 27 -मई-2009) 

 

*  बी.पी. दुबे

 

बेटी ( लेखनी -अक्तूबर -2010)

मां ( लेखनी -अक्तूबर -2010)

 

बीनू भटनागर

नदिया (लेखनी-अक्तूबर-2011)

आभास ( लेखनी-मई-2012)

कमल ( लेखनी-मई-2012)

जिन्दगी  ( लेखनी-जुलाई-2012)

 

* बुद्धिनाथ मिश्र

मिथिलांचल के समस्तीपुर (बिहार) के देवधा गांव  में जन्मे बुद्धिनाथ मिश्र नवगीत आन्दोलन के प्रमुख हस्ताक्षर हैं। आप उन विरले कवियों में से हैं जिन्होंने साहित्य और समाज को समान प्रतिष्ठा दी। उनकी कविता में प्रकृति के नाना रूप और जनसामान्य पीड़ा के स्वर गहरे सरकारों के साथ उपस्थित हैं।

ओ मेरी मंजरी ( लेखनी-अंक-19- सितंबर 2008)

माह के कवि – मई 2010

फिर दुपहर  लगी अलसाने ( लेखनी- अंक 39- मई 2010)

भरी दुपहरी ( लेखनी- अंक 39- मई 2010)

चिलचिलाहट धूप की  ( लेखनी- अंक 39- मई 2010)

 

* डॉ ब्रह्मजीत गौतम

देश मांगता (लेखनी-अंक-6-अगस्त-2008)

 

 

* बाल कवि बैरागी

1.मां हिन्दी (लेखनी-अंक-6-अगस्त-2007)

2. हिन्दी अपने घर की रानी (लेखनी-अंक 6-अगस्त-2007)

 

 

* भरतप्रिय

क्रांति-चिन्ह ( लेखनी अंक-4-वर्ष-2-जून-2008)

 

*डॉ. भावना कुंवर

हायकू – मां (9) ( लेखनी-नवंबर-2011)

 

*मनीषा कुलश्रेष्ठ

हायकू-सा ( लेखनी-फरवरी-2014)

 

*मनोहर बंद्योपाध्याय

बहाव में बहना   (लेखनी-जुलाई-अंक-5-वर्ष-2)  

मन का आकाश  (लेखनी -अंक-24- फरवरी-2009) 

 

 

महेश चौधरी

सच के साथ ( लेखनी-सितंबर-2013)



 

*महेशचन्द्र द्विवेदी

प्रवासी चिंता (लेखनी अंक-1-वर्ष-2-मार्च-2008)

वसंत मुआ लगा रहा ( लेखनी -अंक 49-50- वर्ष 5-  मार्च अप्रैल 2011)

मैं कविता हूँ ( लेखनी-नवंबर-2011)  (जून-2012)

एक स्लम की व्यंगोक्ति ( लेखनी-अगस्त-2013)

असीम आरक्षण ( लेखनी-अगस्त-2013)

 

 

*डॉ. महेन्द्र पांडे नन्द

माह विशेष

हिन्दी महिमा ( लेखनी-सितंबर-2010)

 

 

*महेन्द्र भटनागर

1. नव वर्ष (लेखनी-अंक-11-जनवरी-2008)
2. होली ले आयी (लेखनी अंक-1-वर्ष-2-मार्च-2008)

3. फाग (लेखनी अंक-1-वर्ष-2-मार्च-2008)

4. नयी नारी    ( लेखनी-अप्रैल-2008-अँक-2-वर्ष-2)

5. आजादी का त्योहार ( लेखनी अंक 6-वर्ष 2-अगस्त 2008)

6. कचनार (लेखनी अंक 38- वर्ष-4, अप्रैल-2010)

7. वंचना (लेखनी अंक 38- वर्ष-4, अप्रैल-2010)

 

डॉ. मिथलेश दीक्षित

हायकू माँ (6) ( लेखनी-नवंबर-2011)

 

*मीनू अग्रवाल

बचपन से… (लेखनी-अंक-25-मार्च-2009)

 

*मीठेश निर्मोही

मेरे गांव (लेखनी-अक्तूबर-2011)

तुम्हारा आना (लेखनी-अक्तूबर-2011)

दंगा दो स्थितियां (    लेखनी-अप्रैल-2012)

 

*मीरा (देहली भारत)

चिड़िया (लेखनी अंक-13–मार्च-2008)

शरद ऋतु ( लेखनी अंक 21  नवंबर-2008)

 

*  मोहन राणा ( बाथ, यू.के)

कुंआ– लेखनी अंक 10, वर्ष 2 दिसंबर 2008)

तुम (लेखनी -अंक-24- फरवरी-2009) 

 

मुकेश सहाय

किसी ख्वाब के ( लेखनी-जून-2013)

कश्मीर ( लेखनी-जुलाईृ-2013)

ये बसरा के बच्चे ( लेखनी-जुलाईृ-2013)

 

 

*मुथा राकेश

जाने कबतक ( लेखनी -अंक 49-50- वर्ष 5-  मार्च अप्रैल 2011)

कई बार ( लेखनी -अंक 49-50- वर्ष 5-  मार्च अप्रैल 2011)

 

 

 

 

मुसाफिर

मैटरिक ( लेखनी-अक्तूबर-2012)

 

 

मोहन अम्बर

शताब्दी का वक्तव्य (लेखनी-फरवरी-2010)
 

* मोहन सगोरिया

सच के पीछे का सच (लेखनी-अंक-2-अप्रैल-2007)

 

* मंगल नसीम

1. मां  (लेखनी-अंक-1-मार्च-2007)

 

* मंजू मल्लिक मनु

 

कविता आज और अभी

वो एक अच्छी सी लड़की ( लेखनी-सितंबर-2010)

इक्कीसवीं सदी बनाम डॉट काम ( लेखनी-सितंबर-2010)

 

* मंजू श्रीवास्तव

औरत ( लेखनी-अंक 27- मई 2009)

लेकिन औरत ( लेखनी-अंक 27- मई 2009)

स्त्री ( लेखनी-अंक 27- मई 2009)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*