गीत और गजलः मीना कुमारीः लेखनी-जून/जुलाई 2015

1.

817634_eyes_1_jpg

चाँद तन्हा है आसमान तन्हा

दिल मिला है कहाँ कहाँ तन्हा

 

बुझ गई आस छुप गया तारा

थर-थराता रहा धुंआ तन्हा

 

ज़िंदगी क्या इसी को कहते हैं

जिस्म तन्हा है और जान तन्हा

 

हमसफ़र कोई गर मिले भी कहीं

दोनों चलते रहे तन्हा तन्हा

 

जलती बुझती सी रौशनी के परे

सिमटा सिमटा सा एक मकान तन्हा

 

राह देखा करेगा सदियों तक

छोड़ जायेंगे ये जहां तन्हा

 

 

2.

817634_eyes_1_jpg

यूं तेरी रह गुज़र से दीवाना-वार गुजरे

कांधे पे अपने रख के अपना मज़ार गुजरे !

 

बैठे है रास्ते में , दिल का खंडहर सजा कर

शायद इसी तरफ से एक दिन बहार गुजरे !

 

बहती हुई ये नदिया ,घुलते हुए किनारे

कोई तो पार उतरे ,कोई तो पार गुजरे !

 

तूने भी हमको देखा , हमने भी तुझको देखा

तू दिल ही हार गुज़रा हम जान हार गुजरे !

 

 

 

3.

817634_eyes_1_jpg

आगाज़ तॊ होता है अंजाम नहीं होता

जब मेरी कहानी में वॊ नाम नहीं होता

 

जब ज़ुल्फ़ की कालिख़ में घुल जाए कोई

राही बदनाम सही लेकिन गुमनाम नहीं हॊता

 

हँस- हँस के जवां दिल के हम क्यों न चुनें टुकडे़

हर शख्स़ की किस्मत में ईनाम नहीं होता

 

बहते हुए आँसू ने आँखॊं से कहा थम कर

जो मय से पिघल जाए वॊ जाम नहीं होता

 

दिन डूबे हैं या डूबे बारात लिये कश्ती

साहिल पे मगर कोई कोहराम नहीं होता

 

 

 

4.

817634_eyes_1_jpg

टुकड़े-टुकड़े दिन बीता, धज्जी-धज्जी रात मिली

जिसका जितना आँचल था, उतनी ही सौगात मिली

 

रिमझिम-रिमझिम बूँदों में, ज़हर भी है और अमृत भी

आँखें हँस दीं दिल रोया, यह अच्छी बरसात मिली

 

जब चाहा दिल को समझें, हँसने की आवाज़ सुनी

जैसे कोई कहता हो, ले फिर तुझको मात मिली

 

मातें कैसी घातें क्या, चलते रहना आठ पहर

दिल-सा साथी जब पाया, बेचैनी भी साथ मिली

 

होंठों तक आते आते, जाने कितने रूप भरे

जलती-बुझती आँखों में, सादा-सी जो बात मिली

-मीना कुमारी

 

1 Comment on गीत और गजलः मीना कुमारीः लेखनी-जून/जुलाई 2015

  1. बहुत ही सुंदर ग़ज़लें। … मीना कुमारी जी की कलमकारी। प्रकाशित करने का आभार। । कुछ अन्य नज़्में भी यदि संभव हो तो प्रकाशित करें। …आभार !!

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


error: Content is protected !!