कविता आज और अभी/ लेखनी नवंबर-दिसंबर 16

कैद आदमी
817634_eyes_1_jpg

लाज का घूँघट, मर्यादा का आँचल
बगीचे की मेड़ और घर का आहता
या फिर सिंदूर की दपदप रेखा
सरहदें यही नहीं और भी खींची
और तोड़ी आदमी ने
युद्ध के कगार पर खड़े होकर
शांति का बिगुल बजाते
देशों के बीच हृदय को चीर
कुछ जरूरी कुछ उन्मादी

आस्तीन में खंजर आंखों में सपने
खींचे बैठा कितनी दुर्गम रेखा
खुद से रूठे खुद से ही जूझे
उचक-उचक के बिखरा जाए
पकड़ न पाए पर नभ का चन्दा
या फिर अपनी पथरीली दुनिया
टूटी रस्सी कैसे बांधे
अपनी फटी गठरिया
लड़-लड़के ही दम तोड़े
खुद की खींची सरहदों में
रोए हांफे घुटता जाए
कैद आदमी…
-शैल अग्रवाल

सरहदें हैं..
817634_eyes_1_jpg

सरहदें हैं
कुछ मुटावों की
शिकवों-गिलों की
तैनात है जहां
अपने-अपने अहम्
पैनी निगाहों के साथ

मगर हवाओं में खुशबू सी
सूरज के उजियारे सी
खलिश रुकी कहाँ
अपनापन थमा कहाँ

अपनी-अपनी सरहदों में
कैद हैं हम..
कुछ खलिश लिए
और कुछ अपनापन भी.
जितेन्द्र दबे ( ओबर , डूरुरपुर, राजस्थान)

खबरें
817634_eyes_1_jpg

कल फिर एक नौजवान देश की सीमा पर शहीद हुआ
एक नाबालिग लड़की का चार लड़कों ने रेप किया
बासे जहरीले भोजन को खा मरे स्कूली बच्चे
पिछले वर्ष बना पुल पहली बारिश में ही धाराशायी
देश की सीमा पर फिर घुस आए थे आतातायी
सैनिक की विधवा अपने बच्चों का पेट न भर सकी
घर के बन्द कमरे में रस्सी से लटकी मिली
गांव में नेताजी के बेटे की शादी हुई शानदार
अस्सी करोड़ का था पूरा खरच
खबरें ही खबरें थीं उस अखबार में
जिन्हें पढ़ने का वक्त नहीं था
व्यस्त आदमी के पास
हाँ अंगीठी जलाते
बहुतों को देखा हमने…
– शैल अग्रवाल

क्या करूँ
817634_eyes_1_jpg
मेरे ख़ुदा मैं अपने ख़यालों का क्या करूँ
अंधों के इस नगर में उजालों का क्या करूँ

चलना ही है मुझे मेरी मंज़िल है… मीलों दूर
मुश्किल ये है कि.. पाँवों के छालों का क्या करूँ

दिल ही बहुत है मेरा इबादत के वास्ते
मस्जिद का क्या करूँ मैं, शिवालों का क्या करूँ

मै जानता हूँ सोचना अब एक जुर्म है
लेकिन मैं दिल में उठते सवालों का क्या करूँ

जब दोस्तों की दोस्ती है सामने मेरे
दुनिया में दुश्मनों की मिसालों का क्या करूँ
-राजेश रेड्डी

जहर
817634_eyes_1_jpg

जमीनों को बांटते-बांटते
कैसे हो जाते हैं
ये बटवारे मन के
नफरत की भट्टी में
उपले से जलते सभी
इरफान करतारा बलबीरे
कौन बोता उगाता यह बहशीपन
जो दोस्त थे पडोसी थे
साथसाथ खेले पढे बढ़े थे कभी
एक दूसरे के सीने पर बंदूक ताने
अब खून के प्यासे खड़े
कंटीली सरहदों पे दोनों तरफ
शैल अग्रवाल

“सरहदें ।”
817634_eyes_1_jpg

सरहदें
एक भट्टी की तरह
तप रही हैं
साज़िशों के जाल में
फँसीं हवाएँ
मिट्टी के लौंदे पर
काँप कर काटती हैं हवाएँ
समय मौन है -गमगीन माएँ
हर आहट पर
आँखों से घर की ओर
आने वाला पथ नापती हैं
बिछड़े मीत की
राह उड़ीकती हुई
चौंकती हैं पत्नियाँ
बच्चों को बहलाती हैं
जो डरे डरे सहमें सहमें से

भीगी पथराई आँखों से
रात दिन लोहे की
सलाखें लगी खिड़कियों से
सूनी गलियों में
झाँकते हैं
जहाँ पाठशाला की ओर
जाने वाले पथ
बारूदों से सने हैं
बुज़ुर्ग भी
समझ नहीं पाते कि
कैसे मन के भेद मिटाएँ
लहू एक है
किसे समझाएँ ?

उनकी सुरमई आँखों में
ख़ौफ का सपना तो है
पर नींद नहीं
कैसे पलकें झपकाएँ
रह रह कर सरहदों पर
बारूदों की
डरावनी धुनें बजती है
सैनिकों के जीवन भी वहाँ
किसी भुल भुलैया में
ख़ानाबदोश से घूम रहें हैं

इन सरहदों से
दुश्मनी कैसे हटायें
सरहदें तो धुअें की
चौपाल हो गयी हैं
मन की सरहदें भी
भट्टी की तरह तप रही हैं
वहाँ कैसे प्रेम दीप जलायें ?
-डॉ. सरस्वती माथुर

अलबेला चाँद
817634_eyes_1_jpg

अलबेला चांद आसमान का
अंधेरी रातों को
चांदनी की चूनर उढाता
दिए सा जलता जो रातभर
अमीर और गरीबों के
महल और झोपड़ों पर एकसाथ
कोई भेदभाव न करता
कर्म ही जिसका एक धर्म
समता जिसके मन का भाव
कैसे स्वीकारे हमारी पूजा अर्चना
ईद और करवा चौथ पर
जब धर्म के नाम पे फैला बहशी पन
मन में इतनी नफरत ही नफरत…
-शैल अग्रवाल