माह के कविः आशीष दशोत्तर/ लेखनी- जनवरी-फरवरी 17

42-20522473
चल दिए तुम राहे-उल्फत में अकेला छोड़कर
आसमां से ला रहे थे हम सितारे तोड़कर।
पूछिए मत रात कैसी दहशतों से घिर गईं
छुप गए कुछ लोग गलियों में पटाखे फोड़कर।
वक़्त बदले या सियासत भी कभी बदले अगर
लोग बढ़ जाते हैं आगे कुछ नए गठजोड़ कर।
देखकर सूरत को अपनी ये अचानक क्या हुआ
रख दिया सारे ही उसने आईनों को तोड़कर।
उम्र की दहलीज़ पर पहुंचे तो याद आया हमें
कुछ किताबों के सफे हमने रखे थे मोड़कर।
झोंपड़ी को जोड़कर दुनिया से जो भी खुष हुए
अब जरा आशीष दिखलाए दिलों को जोड़कर।
42-20522473 -2-

बीते कल के लोग थे सच्चे,बिल्कुल सीधे-सादे थे
उनकी बातें उनके जैसी,उनके वादे,वादे थे।
भूले उसको हम तो उसकी लाज तलक ना रख पाए
जिस पगड़ी को अपने पुरखे रहते बांधे-बांधे थे।
ऐसे लोगों को उनकी औक़ात दिखाना लाजि़म था
सारी दुनिया अपने सर जो फिरते लादे-लादे थे।
कितनी-कितनी बदली दुनिया,ऐसी-वैसी सत्ता भी
राजा थे हर युग में राजा,आखिर प्यादे,प्यादे थे।
तुमने मेरे भीतर आकर दिल को रोषन कर डाला
तेरे बिन तो पूरे हो कर भी हम आधे-आधे थे।
आंगन में आशीष खड़ी दीवारें अब तो रोती हैं
जिस आंगन में हम बचपन में कितना कूदे-फांदे थे।
-3-
 

 

 

42-20522473
क्या कहें बेहोश को और क्या कहें बाहोश को
रख लिया हो हर किसी ने सर पे जो पापोश को।
सख़्ततर हों रास्ते और मंजि़लें भी दूर हों
छोड़ना बेहतर ही होगा मखमली आगोश को।
सर घमंडी को झुकाना ही पड़ा है उस घड़ी
मात कछुए से मिली है जब यहां खरगोश को।
खुद की नज़रों में सयाने लोग थे बाहोश पर
छेड़ते ही जा रहे थे फिर किसी मदहोश को।
मुश्किलें तो रोज़ ही कमज़ोर करने आएंगी
कम न होने दीजिएगा आप अपने जोश को।
फै़सला आशीष जाने क्या हुआ होगा वहां
क्या सज़ा दी है अदालत ने लबे-ख़ामोश को।

-4-
 

 

 

42-20522473

कुछ खुशियों के ताने-बाने
कुछ गम के भी हैं अफसाने।
दिल छोटा सा है पर उसमें
कितने-कितने हैं तहखाने।
सागर भी ख़ामोश खड़ा था
छलके जब ये दो पैमाने।
अपने वाले कैसे-कैसे
षातिर भी हैं और सयाने।
नाम कभी था जाना-माना
उनके अब ना ठौर-ठिकाने।
वो नफ़रत के सौदागर हैं
हम निकले हैं प्यार जताने।
महकी धरती उस पल देखो
बिखरे हैं जब दाने-दाने।
-आशीष दशोत्तर
12/2,कोमल नगर,बरबड़ रोड
रतलाम-457001 म.प्र.
मोबा.09827084966/09630334034
मेल-ashish.dashottar@yahoo.com

संक्षिप्त परिचय

नाम – आशीष दशोत्तर
जन्म – 05 अक्टूबर 1972
षिक्षा – 1. एम.एस.सी. (भौतिक शास्त्र)
2. एम.ए. (हिन्दी)
3. एल.एल.बी.
4. बी.एड
5. बी.जे.एम.सी.
6. स्नातकोत्तर में हिन्दी पत्रकारिता पर विशेष अध्ययन।

प्रकाशन – मध्यप्रदेश साहित्य अकादमी द्वारा काव्य संग्रह-खुशियाँ कैद नहीं होती-
ग़ज़ल संग्रह ‘लकीरें‘,
भगतसिंह की पत्रकारिता पर पुस्तक‘समर में शब्द‘,
कहानी संग्रह‘चे पा और टिहिया‘ प्रकाशित।
नवसाक्षर लेखन के तहत पांच कहानी पुस्तकें प्रकाशित
आठ वृत्तचित्रों में संवाद लेखन एवं पाश्र्व स्वर।

पुरस्कार – 1. साहित्य अकादमी म.प्र. द्वारा युवा लेखन के तहत पुरस्कार।
2. साहित्य अमृत द्वारा युवा व्यंग्य लेखन पुरस्कार।
3. म.प्र. शासन द्वारा आयोजित अस्पृश्यता निवारणार्थ गीत लेखन स्पर्धा में पुरस्कृत।
4. साहित्य गौरव पुरस्कार।
5, किताबघर प्रकाशन के आर्य स्मृति सम्मान के तहत
कहानी, संकलन हेतु चयनित एवं प्रकाशित।
सम्प्रति – आठ वर्षो तक पत्रकारिता के उपरान्त अब शासकीय सेवा में।
संपर्क – 12/2,कोमल नगर,बरबड़ रोड
रतलाम (म.प्र.) 457001
मोबा. 098270-84966