कहानी समकालीनः बौड़म दास- सुशांत सुप्रिय / लेखनी जनवरी-फरवरी 17

Mother-
बौड़म दास को मैं क़रीब से जानता था । हमारा गाँव चैनपुर भैरवी नदी के किनारे बसा हुआ है । उसके दूसरे किनारे पर बसा है धरहरवा गाँव । साल के बाक़ी समय में यह नदी रिबन जैसी पतली धारा-सी बहती है । पर बरसात का मौसम आते ही यह नदी विकराल रूप धारण कर लेती है । बाढ़ के मौसम में इसका दूसरा किनारा भी नज़र नहीं आता । बरसात का मौसम छोड़ दें तो गाँव के लोग इसी नदी के किनारे नहाते हैं । यहीं किनारे के पत्थरों पर कपड़े धुलते हैं । थोड़ी दूरी पर मवेशी और ढोर-डंगर प्यास बुझाने आते हैं । यहीं गाँव के बच्चे चपटे पत्थरों से नदी के पानी में
‘ छिछली ‘ खेलते हुए बड़े होते हैं ।
इसी गाँव की चमार-बस्ती में कई साल पहले काँसी नाम का एक दलित रहता था । लेकिन वह चमड़े का पुश्तैनी काम नहीं करता था । खेत-खलिहानों में मेहनत-मज़दूरी करता था । नाटी देह , साँवला रंग और मुँह पर चेचक के दाग़ । काँसी की बीवी पुतली नेक औरत थी । जो रूखा-सूखा मिलता था , उसी में गुज़ारा कर लेती थी । इन्हीं की औलाद था बौड़म ।
बौड़म का बचपन बहती नाक पर भिनभिनाती मक्खियों के साये में बीता । रोज़ाना माँड़ और कभी-कभार बकरी का दूध पी कर वह बड़ा हो रहा था । धूल-माटी में सने बौड़म ने बचपन में ही भविष्य की झलक दिखलानी शुरू कर दी थी । ग़रीबी और भूख से परेशान पिता काँसी कभी-कभार किसी खेत से चुपके से भुट्टा तोड़
लाता , या गाजर-मूली उखाड़ लाता । एक बार जब काँसी बौड़म के सामने भी यही काम कर रहा था तो छह-सात साल के बौड़म ने पिता को डाँट दिया — ” बाबू , इ चोरी है । इ गंदी बात है । नाहीं करो । ”
बालक बौड़म के मुँह से यह बात सुनकर काँसी हैरान रह गया । बोला —
” तोहरे ख़ातिर तो कर रहे हैं । नहीं करेंगे तो खाएगा क्या ? ”
बौड़म बोला — ” अम्मा कहती है , चोरी करने से अच्छा है , भूखे रहें ।
खाना हो तो सिरफ मेहनत-मजदूरी के पैसे से खाएँ । ”
बेटे का उपदेश सुनकर काँसी को ग़ुस्सा आ गया । उसने वहीं बौड़म की पिटाई कर दी । ” स्साले , ग़रीब की औलाद है । राजा हरिश्चंदर मत बन ! ”

कहते हैं , किस्मत का ताला जब खुलता है , तब क्या-से-क्या हो जाता है । एक बार एक दलित पार्टी के नेता चुनाव के समय वोट माँगने गाँव में आए । उन्हें बालक बौड़म भा गया । जलसे के बाद गाँव से जाते समय वे लोग काँसी और पुतली से बात करके बालक बौड़म को शहर के स्कूल में पढ़ाने के लिए अपने साथ ले गए । काँसी की ख़ुशी का ठिकाना न था । उसका बेटा पढ़-लिख कर बड़ा आदमी बनेगा , यह सोच उसे बहुत खुशी दे रही थी । बौड़म की बेहतरी के लिए उसकी माँ पुतली ने भी अपने कलेजे पर पत्थर रख कर इस बात के लिए हामी भर दी ।

गाँव में हमारे पास काफ़ी पुश्तैनी ज़मीन थी । लेकिन खेती-बाड़ी का सारा काम चाचाजी देखते थे । बँटाई पर काम होता था । पिताजी शहर के स्कूल में शिक्षक थे । जब मैं थोड़ा बड़ा हुआ तो पिताजी ने मेरा नाम भी शहर के स्कूल में लिखवा दिया । मैं पिताजी के साथ ही शहर में रहता था । उन्हीं के साथ छुट्टियों मे गाँव आया-जाया करता था । संयोग से पढ़ने के लिए बौड़म का दाख़िला भी मेरे ही स्कूल में हुआ , वह भी मेरी ही कक्षा में । जात-पात में मेरा कोई विश्वास नहीं था । लिहाज़ा एक ही गाँव के होने के कारण धीरे-धीरे बौड़म से मेरी जान-पहचान मित्रता में बदल गई ।
बौड़म का नाम स्कूल में बौड़म दास लिखवा दिया गया । बौड़म दास नियम-क़ायदों का पालन करने वाला विद्यार्थी था । सच्चाई और ईमानदारी उसमें कूट-कूट कर भरी थी । उसकी आँखों में सदा जैसे सत्यवादी राजा हरिश्चन्द्र की श्वेत-श्याम तस्वीर बसी रहती । कभी-कभी मैं सोचता कि पता नहीं उसके डी.एन.ए. में सच्चाई की यह जीन्स कहाँ से आई थी । फिर लगता कि शायद उसे यह अपनी माँ पुतली से अानुवंशिकी में मिली होगी । पर इसकी वजह से वह कई बार मुसीबत में पड़ जाता ।
बौड़म परीक्षा में नक़ल करने को पाप समझता था । एक बार कक्षा के कई बच्चे सालाना परीक्षा में धड़ल्ले से नक़ल कर रहे थे । जब बौड़म दास से उनके नाम पूछे गए तो उसने सब कुछ सच-सच बता दिया । उसकी निशानदेही पर सारे नक़ल करने वाले लड़कों को पकड़ लिया गया । बदले में उन सभी ने बौड़म दास को स्कूल के बाहर पकड़ लिया और जम कर उसकी धुनाई कर दी । मार खाने की वजह से उसकी एक आँख सूज गई । होठों से ख़ून बहने लगा । वह तो मैंने बीच-बचाव कर दिया नहीं तो पता नहीं बौड़म का क्या होता । बाद में मैंने उसे समझाया भी कि भाई , तू अपने काम से काम रखता । सत्यवादी बनने के चक्कर में नाहक मार खा ली । पर बौड़म कहाँ मानने वाला था ।
एक बार बौड़म ने मोहल्ले में दूध बेचने वाले ग्वाले रामनरेस को दूध में पानी मिलाते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया । तब ईमानदारी पर दिए गए बौड़म के प्रवचन से चिढ़ कर रामनरेस ने उसे पीट दिया । वहाँ भी मैं ही बौड़म को ज़्यादा मार खाने से पहले बचा ले गया । लेकिन मैं उसे किस-किस से बचाता ।
अगले हफ़्ते उसने किरयाने की दुकान चलाने वाले गुप्ता से पंगा ले लिया । गुप्ता रोज़मर्रा के सामानों में मिलावट करता था । उसने अपने तराज़ू में भी हेर-फेर कर रखा था । लेकिन इलाक़े के हवलदार बिसेसर सिंह से उसकी दोस्ती की बात सब जानते थे । इसलिए कोई खुलकर गुप्ता की शिकायत नहीं करता था । पर हमारे सत्यवादी भाई बौड़म कहाँ मानने वाले थे । एक दिन उन्होंने गुप्ता को आईना दिखाना शुरू किया । ज़ाहिर है , गुप्ता जी को बौड़म के आईने में दिख रही अपनी छवि अच्छी नहीं लगी । पहले गुप्ता और उसके लड़कों ने बौड़म को पीट दिया । फिर गुप्ता ने हवलदार बिसेसर की मदद से दुकान में चोरी करने के झूठे इल्ज़ाम में बौड़म को फँसाने की कोशिश की । वह तो दलित पार्टी वाले नेताजी ने जुगाड़ लगा कर बौड़म को जेल जाने से बचाया और पुलिस वालों को कुछ दे-दिला कर मामला रफ़ा-दफ़ा करवाया । मुझे जब सारी बात पता चली तो मैंने फिर उसे समझाया कि भाई तू पढ़ाई-लिखाई पर ध्यान दे । अपना जीवन बना । यह सब तो चलता रहता है । पर मेरी बातों का बौड़म पर कोई असर ही नहीं हुआ ।
धीरे-धीरे लोगों की बौड़म के बारे में यह धारणा बन गई कि वह किसी भी तरह अपना काम निकालने के आज के युग में एक ‘ मिसफ़िट ‘ था । अपना काम करवाने के लिए वह न किसी की चमचागिरी करता था , न किसी को तोहफ़े देता
था । बेईमानी और भ्रष्टाचार से उसका ईंट-कुत्ते का वैर था । एक साल बौड़म ने स्कूल में छात्रों के दाख़िले को ले कर कुछ अध्यापकों और कर्मचारियों द्वारा चलाई गई भ्रष्ट मिली-भगत का भंडा-फोड़ कर दिया । इस पर उन लोगों ने उसे स्कूल परिसर के बाहर गुंडों से पिटवा दिया । उसका दायाँ बाज़ू टूट गया था । उस दौरान भी मैंने उसकी सहायता की । उसे समझाने-बुझाने का प्रयास किया । पर हालात जस के तस रहे । वह नहीं बदला ।
ऐसा नहीं था कि बौड़म के कारनामों से मुझे ख़ुशी नहीं होती थी । जब भी वह किसी बेईमान या भ्रष्टाचारी का भंडा फोड़ता था , मैं मन-ही-मन बेहद खुश होता था । लेकिन वह मेरा मित्र भी था । उसे हर बार पिटता हुआ देखना मेरे लिए असह्य हो जाता था । मैं चाहता था कि उसका कोई अहित न हो ।

धीरे-धीरे किसी मालगाड़ी के एक के बाद एक लगातार आते डिब्बों की तरह बौड़म के जीवन में अनेक ऐसी घटनाएँ हुईं जिन्होंने उसे शारीरिक और मानसिक रूप से आहत किया । राजनीति में सच्चाई और ईमानदारी का भला क्या काम था । अब बौड़म बारहवीं कक्षा में पढ़ रहा था । बौड़म के अभिभावक दलित नेता ने चाहा कि बारहवीं करने के बाद बौड़म राजनीति के दाँव-पेंच सीख कर पार्टी की मदद करे । किंतु बौड़म न तो झूठ बोल सकता था , न हेरा-फेरी कर सकता था । वह न तो गुंडागर्दी कर सकता था न जात-पात के नाम पर नेताजी की पार्टी को वोट दिलवा सकता था । उसके आदर्शों के सहारे चुनाव नहीं जीते जा सकते थे । उसे अपने और पार्टी के किसी काम का न पा कर दलित नेता ने अपने हाथ पीछे खींच लिए । बौड़म की आर्थिक मदद बंद कर दी गई । तब बौड़म ने छोटे बच्चों को ट्यूशन पढ़ा कर अपना गुज़ारा किया । इस दौरान मैंने भी उसकी थोड़ी-बहुत आर्थिक मदद की ।
बौड़म की हरकतों से उसका पिता काँसी बहुत आहत हुआ । उसे उम्मीद थी कि बौड़म दलित नेता के साथ रह कर बड़ा आदमी बन जाएगा । पर होनी को कुछ और मंज़ूर था । उसी साल निमोनिया की गिरफ़्त में आ कर काँसी चल बसा । अगले साल हैज़ा उसकी माँ पुतली को लील गया । बौड़म चाह कर भी कुछ न कर सका । एक रात मेरे कमरे में आ कर वह बहुत रोया था । उसका चेहरा किसी उजड़े हुए खेत-सा लग रहा था । जैसे झुलसी हुई घास वाले किसी भूरे मैदान-सा हो गया था उसका जीवन । उसकी आँखों में एक सुनसान था । अपने भीतर के सन्नाटे में वह जैसे अकेला बज रहा था । मैंने उसे सलाह दी कि वह अपने पूर्व-अभिभावक दलित नेता की बात मानकर उसकी शरण में चला जाए । मैं चाहता था कि उसके जीवन में मुसीबतें कम हो जाएँ । लेकिन बौड़म अभी और पढ़ना चाहता था । पढ़ने-लिखने में वह मेधावी था ही । सभी मुश्किलों के बावजूद उसे कॉलेज में पढ़ने के लिए स्कॉलरशिप मिल गई । फिर आगे इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए मैं महानगर चला आया । लेकिन बौड़म से मेरा नाता बना रहा । हम दोनो एक-दूसरे को चिट्ठियाँ लिखते थे । कभी-कभार फ़ोन पर बातचीत भी हो जाती थी ।
कई साल बीत गए । मुझे आइ.आइ.टी. दिल्ली में नौकरी मिल गई ।
अपनी पढ़ाई पूरी करके बौड़म भी दिल्ली आ गया था , और किसी सरकारी मंत्रालय में नौकरी करने लगा था । उन दिनों वह गाँधीजी के आदर्शों का हिमायती बन गया
था । पता चला कि जहाँ वह नौकरी करता था , वहाँ भी भ्रष्ट और बेईमान सहकर्मियों के बीच वह खुश नहीं था । एक बार गर्मी की छुट्टियों में मैं माँ-बाबूजी से मिलने गाँव गया । मेरी शादी की बात चल रही थी । इत्तिफ़ाक़ से उन्हीं दिनों बौड़म भी गाँव आया हुआ था । काफ़ी बरसों के बाद मेरी वहीं उससे मुलाक़ात हुई । उन दिनों वह धुआँधार सिगरेट पीने लगा था । उसने बताया कि कॉलेज के दिनों में उसे किसी ऊँची जाति की लड़की से प्यार हो गया था । उसने उस लड़की को प्रोपोज़ भी किया था , पर जातियों का बार्ब्ड-वायर-फ़ेंस बीच में आ गया । लड़की के घरवालों ने गुंडों से बौड़म की बेरहमी से पिटाई करवाई और लड़की की शादी अपनी ही जाति में किसी से कर दी ।
मुझसे मिल कर बौड़म हिलक-हिलक कर रोया था । उसकी सुर्ख़ आँखों में सच्चाई और ईमानदारी के गरम आँसू थे । वह मुझे अपनी नौकरी की बातें बताता रहा । लोगों की बेईमानी और उनके भ्रष्टाचार के क़िस्से सुनाता रहा । बौड़म नहीं बदला था । वह अब भी उतना ही ईमानदार , उतना ही सत्यवादी और उतना ही नियम-क़ायदों को मानने वाला व्यक्ति था । लेकिन उसके आस-पास का भारत किसी और ही रंग में रंगा हुआ था । यह बेईमानी , मक्कारी , जालसाज़ी और अवसरवादिता का युग था । रिश्ते बेमानी होते जा रहे थे । इस युग का भगवान रुपया और कुर्सी थे । ऐसे युग में बौड़म खुद को अजनबी पाता था । उसकी बातों में मौजूद उसका दुख इतना रोशन था जैसे टूटे हुए काँच के टुकड़े पर धूप चमक रही हो । लगता था जैसे उसके भीतर के झरने और फ़व्वारे , सब सूखते चले गए थे । उसके अंतस के पेड़ की सारी चिड़ियाँ , सारी गिलहरियाँ जैसे मर गई थीं । सारी हरी फुनगियाँ जैसे सूख कर झर गई थीं ।
बौड़म मेरी शादी में नहीं आया । वह ज़रूर अपने भीतर-बाहर फँसा छटपटा रहा होगा । कई साल बीत गए । इस बीच मुझे दूसरे लोगों से पता चला कि बौड़म इस बेरहम ज़माने की चक्की में पिस रहा था । उसने सरकारी नौकरी छोड़ दी थी । वह अब किसी अख़बार में काम करने लगा था । लेकिन हर ओर एक जैसे लोग ही थे । वे खुद कुछ कह रहे होते किंतु उनकी आँखें कुछ और ही बयाँ कर रही होतीं । उनके चरित्र में वैध-अवैध किसी भी तरीके से दुनियावी रूप में सफल होने की उत्कट भूख छिपी होती । सफल होने के लिए लोग मित्रों की पीठ में छुरा मार रहे थे , गधे को बाप और बाप को गधा बता रहे थे । ऐसे अवसरवादी , छलिया युग में बौड़म निश्चित रूप से एक मिसफ़िट था ।
इस बीच दो-दो वेतन आयोगों की सिफ़ारिशें लागू होने के बाद मैंने नोएडा में एक फ़ोर बेडरूम फ़्लैट ख़रीद लिया था । मेरे बच्चे कॉन्वेंट स्कूल में पढ़ रहे थे । मेरी पत्नी हमारे रेज़ीडेंशियल सोसायटी की अध्यक्षा थी । ईश्वर की कृपा से मैंने एक एस.यू.वी. टोयोटा फ़ॉर्च्यूनर ख़रीद ली थी । नहीं , नहीं , यदि आप इससे यह अंदाज़ा लगाएँगे कि मेरे पास ब्लैक का पैसा था , तो यह ग़लत होगा । दरअसल हम जैसे मिड्ल-क्लास लोग अब थोड़ा-सा डाउन पेमेंट करके इंस्टाल्मेंट्स पर कुछ भी ख़रीद कर घर ला सकते थे । चार दिन की ज़िंदगी में सुविधाओं के लाभ उठा सकते थे ।
कई बरस बीत गए । मैं अपने जीवन में गुम था । अचानक एक दिन मेरे एक जानकार ने बताया कि बौड़म को कोई मानसिक बीमारी हो गई थी , जिसका वह इलाज करवा रहा था । अपनी पुरानी डायरी से मैंने बौड़म का नम्बर ढूँढ़ कर उसे फ़ोन लगाया । किंतु दूसरी ओर से बार-बार वही आवाज़ आई — यह नम्बर अब मौजूद नहीं है । जान-पहचान वालों से बहुत खोज-बीन करने के बाद मुझे उसका नया नम्बर मिल पाया । फ़ोन करने पर दूसरी ओर से एक मद्धिम आवाज़ आई । जैसे तेज़ आँधी में कोई दीये की लौ बुझने-बुझने को हो । जैसे वह बौड़म की आवाज़ न हो , कई प्रकाश-वर्ष दूर के किसी आकाशगंगा से आता कोई विरल संकेत हो । उसने कहा कि वह बीमार था । वह फ़ोन पर ज़्यादा बात नहीं कर पा रहा था । उसकी बातें असम्बद्ध लग रही थीं । मेरे कई बार पूछने पर उसने अंत में अपने रहने की जगह का पता बताया ।
अगले रविवार को मैं बौड़म के रहने की जगह का पता ढूँढ़ते हुए उसके पास पहुँचा । वह महानगर के सस्ते , बदबू भरे इलाक़े अर्जुन विहार में किराए के एक कमरे में रहता था । तंग गलियों और खुली नालियों वाले इस इलाक़े में सम्भ्रांत लोग नहीं रहते थे । यह समाज के निचले तबके के लोगों के रहने की जगह थी । बौड़म को देखते ही मैं समझ गया कि उसकी हालत ठीक नहीं थी । उसका चेहरा इतना डरावना और अपरिचित लग रहा था कि आईना भी डर जाए । मुझे दुख हुआ । वह मेरे ही गाँव का था । मैं आज भी उसे अपना मित्र मानता था । पता चला कि अख़बार की नौकरी में भी वह अपने उसूलों पर अडिग रहा था । इसके कारण अख़बार के प्रबंधकों से उसकी खटपट रहती थी । यह भी पता चला कि वह महानगर के कुछ भ्रष्टाचारी नेताओं के खिलाफ़ सबूत जुटाने में लगा था ताकि उनके विरुद्ध कार्रवाई हो । लेकिन अख़बार के प्रबंधकों और इन भ्रष्टाचारी नेताओं के बीच मिली-भगत थी । उनके दबाव में बौड़म को नौकरी से निकाल दिया गया । फिर मानसिक तनाव की वजह से वह अवसाद-ग्रस्त हो गया । बौड़म ने मुझे बताया कि वह सरकारी अस्पताल के ओ. पी.डी. में अपना कामचलाऊ इलाज करा रहा था । लेकिन स्पष्ट था कि इस इलाज से उसे कोई विशेष फ़ायदा नहीं हो रहा था । वह जैसे एक ज़िंदा लाश में बदल गया था ।
मेरे बहुत समझाने के बाद ही बौड़म किसी साइकैट्रिस्ट के पास चलने के लिए तैयार हुआ । कुछ महीने हर इतवार मैं उसे ले कर नामी मनोरोग-चिकित्सक डॉ. भाटिया के पास जाता रहा । उन्होंने बौड़म की बीमारी के लक्षणों को सुनकर बताया कि उसे ‘ एक्यूट शिज़ोफ़्रीनिया ‘ हो गया है । ख़ैर , कुछ हफ़्तों के इलाज के बाद उसकी हालत में काफ़ी सुधार आया । उसे एक दूसरे अख़बार में नौकरी मिल गई । इस बीच मेरे बेटे की शादी तय हो गई थी । एक-डेढ़ महीने बाद की तिथि निकली
थी । मैं शादी की तैयारी में व्यस्त हो गया । मैंने फ़ोन पर बौड़म को बेटे के विवाह में आने का निमंत्रण भी दिया । किंतु न जाने क्यों वह बेटे की शादी में नहीं आ पाया ।
बेटे की शादी हुए अभी दस-पंद्रह दिन ही हुए होंगे जब एक सुबह मुझे किसी जानकार का फ़ोन आया । उसने बताया कि बौड़म पर क़ातिलाना हमला हुआ था और उसकी हालत बहुत ख़राब थी । वह सरकारी अस्पताल के आइ. सी. यू. में भर्ती था । मैं चिंतित हो उठा । अस्पताल का पता खोजकर मैं वहाँ पहुँचा । बौड़म के पेट और छाती में चाकू से कई वार किए गए थे । उसकी हालत नाज़ुक थी । अपने नए अख़बार में उसने महानगर के कई भ्रष्ट नेताओं के घपलों की पोल खोल दी थी । शक था कि उन्हीं लोगों ने बौड़म की हत्या की सुपारी किन्हीं हत्यारों को दी थी । उसकी हालत देख कर मेरी आँखों में आँसू आ गए । सारी रात मैं आइ. सी. यू. के बाहर बैठा बौड़म के जीवन के लिए प्रार्थना करता रहा । किंतु शायद कलयुग में प्रार्थनाएँ भी बेअसर होती हैं । आख़िर जीवन की बिसात पर समय के मोहरों ने उसे मात दे दी ।
अगली सुबह सूर्योदय के समय बौड़म दास ने अपने प्राण त्याग दिये । जब उसने अंतिम साँस ली तब मैं उसके पास ही था । उसकी अंत्येष्टि में बहुत कम लोग आए । दरअसल इस दुनिया के राडार पर एक ब्लिप भी नहीं था बौड़म दास । मुझे लगा जैसे इस दुनिया की ओछी हरकतों से तंग आ कर वह दुनिया की ओर पीठ करके एक लम्बी नींद सो गया था ।
बौड़म के चरित्र में चट्टान-सा था सत्य । सारा जीवन वह अंश-अंश ढहता रहा । तीखे कोनों से टकरा कर छिलता रहा । किंतु उसने हार नहीं मानी । अपने उसूलों से समझौता नहीं किया । ईमानदारी की दाल-रोटी से बने हाड़-मांस के सहारे वह बेईमानी के काजू , बादाम और चिल्गोज़ों वाले समाज से अनवरत लड़ता रहा । उसके हम दो-चार मित्र उसके उदात्त मूल्यों और उसके जीवन-संघर्ष के साक्षी थे । हम मित्रों ने बौड़म की अंत्येष्टि के बाद उसकी अस्थियों को गाँव की भैरवी नदी में प्रवाहित कर दिया । उसी नदी में जिसके किनारे गाँव के बच्चों के साथ वह ‘ छिछली ‘ खेलता हुआ बड़ा हुआ था ।
नदी किनारे बैठे-बैठे मुझे बौड़म की याद बड़ी शिद्दत से आई । मेरी आँखें भर आईं । मेरे भीतर उसके लिए कविता-जैसा कुछ उमड़ा-घुमड़ा । आप इसे बौड़म के प्रति मेरी विनम्र श्रद्धांजलि समझें :
” किसी स्कूल के पाठ्य-पुस्तक में / नहीं पढ़ाई जाती है / जीवनी बौड़म दास की / किसी नगर के चौराहे पर / नहीं लगाई गई है / प्रतिमा बौड़म दास की / वह ‘ शाखा ‘ में नहीं जाता था / इसलिए प्रधानमंत्री उसे नहीं जानते हैं / वह ‘ वाद ‘ के खूँटे से नहीं बँधा था / इसलिए किसी भी पंथ के समर्थक / उसे नहीं जानते हैं / उसने कभी किसी का हक़ नहीं मारा / कभी किसी की जड़ नहीं काटी / कभी किसी की चमचागिरी नहीं की / कभी न रिश्वत ली , न दी / इस युग में प्रगति की राह में / ये गम्भीर ख़ामियाँ थीं / उसके पास एक चश्मा / और एक लाठी थी / वह बकरी के दूध को / स्वास्थ्य के लिए / सर्वोत्तम बताता था / और अकसर इलाक़े में / इधर-उधर पड़ा / कूड़ा-कचरा बीन कर / कूड़ेदान में फेंकते हुए / देखा जाता था … / जानकारों के अनुसार / अकसर राजघाट पर / गाँधीजी की समाधि पर जा कर / घंटों रोया करता था बौड़म दास / क्या आप बता सकते हैं कि / ऐसा क्यों करता था बौड़म
दास ? ”

————०————
# कॉपीराइट : लेखक
————०————

प्रेषक : सुशांत सुप्रिय
A-5001 ,
गौड़ ग्रीन सिटी ,
वैभव खंड ,
इंदिरापुरम् ,
ग़ाज़ियाबाद – 201014
( उ.प्र. )
मो : 8512070086
ई-मेल : sushant1968@gmail.com

————0————