बुडापेस्टः शैल अग्रवाल

हंगरी की राजधानी और डेनबू नदी के किनारे बसा बुडापेस्ट दो हिस्सों में बंटा हुआ हैः पहाड़ी वाला बुडा और व्यापारिक हब पेस्ट, 1778 के आसपास जिन्हें एक खूबसूरत पुल से जोड़कर बुडापेस्ट बना दिया गया था। पुल के दोनों तरफ खड़े चार भव्य शेर दोनों हिस्सों की रक्षा करते हैं। किसी परियों की कहानी वाली किताब-सा आकर्षक यह शहर आधुनिक तो है, पर आजभी पूरी तरह से अपने सभी मध्यकालीन दुर्ग और राजमहलों को संजोए-समेटे है। ध्यान से आँख बंद करके देखो तो इसके सुन्दर झरोखों में आज भी परियों की राजकुमारी बैठी दिख जाएगी और अंधेरे कोनों में ड्रैक्यूला और वैम्पायर्स।

दूसरे विश्वयुद्ध में पूरी तरह से ध्वस्त यह शहर आज सिर्फ पचास साल में अपनी पूरी गरिमा के साथ फिरसे कैसे खड़ा हो गया , देखकर आश्चर्य होता है। निश्चय ही यह यहां के लोगों की जिजीविषा और स्वाभिमान ही है -कड़ी मेहनत मेहनत और खुद में विश्वास है, जिसकी वजह से यह संभव हो पाया। शायद यह इस दुनिया का अकेला शहर है जिसकी चर्च में वहाँ के संरक्षक सेंट, सेंट स्टीवेन का कटा हुआ हाथ आज भी सुरक्षित और प्रदर्शित है ( आपसे कहा था न कि परियों और ड्रैकुला दोनों का शहर है यह—यानी कि कोमल और वीभत्स दोनों साथ-साथ और बगल-बगल में)। यहाँ का पार्लियामेंट हाउस अपनी सुरुचि, वैभव और कला से चमत्कृत करता है। आर्ट म्यूजियम में स्पैनिश और इटैलियन आर्टिस्टों का सबसे बड़ा और बहुमूल्य संकलन है। तस्बीरें ऐसी कि देखते-देखते बात करने लग जाएँ। तस्बीरें ऐसी कि देखते-देखते बात करने लग जाएँ। मांसलता के रंग इतने सजीव कि चुटकी काटने को मन करता है। इन तस्बीरों में खड़े मासूम बच्चों को खिलौनों और मिठाइयों की तरफ ललचाई नजर से देखते देख, मन उन्हें सबकुछ दे देना चाहता है। फूलों से खुशबू आने लगती है और कपड़ों की तहें और सिलवटों की कोमलता स्वयं अपने बदन पर महसूस होने लगती है। तैलीय पद्धति के चित्रों में आज भी दुनिया इन कलाकारों से बहुत कुछ सीख सकती है। रैम्ब्रांट की ‘जोसेफ्स ड्रीम’ नाम की तस्बीर में तो मन ऐसा रमा कि पतिदेव को मुझे बाँह खींचकर जगाना पड़ा। गोया, मुलर, आमरीनी सब एक-से-एक बढ़कर। कितने ऐसे जिन का शायद हमने नाम भी न सुना हो पर अपने काम में उतने ही माहिर और अभिव्यक्ति में दक्ष।

अगले दिन फिशर कासल की कई घुमावदार सीढ़ियों से चढ़कर जब ऊपर पहुंची तो फिर से वही एक रोमांटिक जिप्सी गांव जैसा ही माहौल था। कहीं कोई तस्बीरें बना रहा था , तो कहीं औरतें बहुत बारीक और खूबसूरत लेस से बनी चीजें बेच रही थीं। यहां तक कि बचपन में बारबार देखे और खेले, उस दाने चुगते तीन मुर्गे वाले लकड़ी के सुन्दर और रंग-बिरंगे खिलौने को देखकर लगा कि कहीं अपने जाने-पहचाने देश में ही तो नहीं! विश्वास हो चला कि यह लोग भी जरूर पहले कभी, शायद आठवीं शताब्दी में एशिया के उन्ही हिस्सों से आए थे जहां से हम आप हैं। हमारे पूर्वज एक हैं। कासल के उत्तरी हिस्से से आती, हवा में गूंजती, वह वॉयलिन पर बजती मधुर धुन की स्वर-लहरी एक अदृश्य डोर-सी अपनी तरफ खींचे जा रही थी। अकेली चुपचाप बैठी में घूमना-फिरना सब भूल, एक के बाद एक वे सुरीली धुनें सुनती और पिघलती चली गयी। वह भी अपनी धुन में मस्त बजाता रहा, बिना इसकी परवाह किए कि कोई सुन भी रहा है या नहीं।

सारी थकान और भूख रफूचक्कर थे और मचलती थिरकती धुनें बारबार राजकपूर की फिल्में और दिवगंत शंकर जयकिशन की यादें दिलाती चली गयीं। पता नहीं किसका किस पर असर था, पर मन एक नयी आत्मीयता से भर चुका था। मेरी तल्लीनता देख उसने खुद मुस्कुराकर बताया कि ‘ हमारा संगीत बहुत कुछ तुम्हारे भारतीय संगीत की तरह ही है।’ और मैं अब हर हंगेरियन को ध्यान से देखने लगी। शायद यह भी कभी हमारी तरह ही थे। इनके सोचने का तरीका तो जरूर हमारी तरह ही था। वही दुख से जुड़े रहने की एक मजबूर सी आदत। वही संघर्षरत जीवन- वही झूठी शान में डूबे रहना- वरना गाइड चर्च घुमाते हुए कुछ यूँ न कहती कि पेगन धर्म के पिछड़ेपन से निकलने में हमें भी कई सौ साल लग गये थे। शायद यह भी अब यूरोपियन कम्यूनिटी में जुड़ने का बड़ी बेसब्री से इन्तजार कर रहे हैं। पाश्चात्य के भौतिक विकास से यह भी तुरंत ही जुड़ जाना चाहते हैं। पुर्तगाल और ग्रीस की आर्थिक समृद्धि की मिसाल हर पल इनकी आँखों के सामने है। पर आगे बढ़ने की धुन में उम्मीद है यह अपनी संस्कृति और कला नहीं भूलेंगे क्योंकि मुझे बहुत सारा जो इनके देश में सुन्दर और आकर्षक लगा, पुराना और अतीत से जुड़ा हुआ ही था।

इन्होंने आज भी अपना अच्छा-बुरा सब संजो रखा है। कुछ एक खुले घाव-से अपने अपमान और हार के निशान भी छोड़ रखे हैं, जिससे कि सुखमय वर्तमान संघर्षमय अतीत का आभारी रह पाए। सजी संवरी इमारतों के बीच आज भी एक इमारत यूं ही गोलियों से बिंधी और टूटी-फूटी खड़ी दिखाई दी। उसकी किसी ने मरम्मत नहीं की। किसी ने सजाया संवारा नहीं, जिससे कि याद रखा जा सके कि इनके साथ क्या-क्या बीती थी। शायद हमारी तरह इन पौलीएशियन लोगोंके लिए भी इनका अतीत और इतिहास अपनी सारी जिल्लत और दर्द के साथ भी एक गौरव का ही विषय है। क्योंकि काले और घुप अँधेरों से निकलकर यह भी हमारी तरह ही एक समृद्ध और सुखी सदी और भविष्य का सपना देखने वाले ही लोग हैं।—
शैल अग्रवाल