यादगार गीत और ग़ज़लः फ़िराक गोरखपुरी, सूरदास/ लेखनी मार्च-अप्रैल 16

हमको तुमको…
moonlit

हमको तुमको फेर समय का ले आई ये हयात कहाँ ?
हम भी वही हैं तुम भी वही हो लेकिन अब वो बात कहाँ ?

कितनी उठती हुई जवानी खिलने से पहले मुरझाएँ.
मन उदास तन सूखे-सूखे इन रुखों में पात कहाँ ?

ये संयोग-वियोग की दुनिया कल हमको बिछुड़ा देगी.
देख लूँ तुमको आँख भर के आएगी अब ये रात कहाँ ?

मोती के दो थाल सजाए आज हमारी आँखों ने.
तुम जाने किस देस सिधारे भेंजें ये सौगात कहाँ ?

तेरा देखना सोच रहा हूँ दिल पर खा के गहरे घाव.
इतने दिनों छुपा रक्खी थी आँखों ने ये घात कहाँ ?

ऐ दिल कैसे चोट लगी जो आँखों से तारे टूटे.
कहाँ टपाटप गिरते आँसू और मर्द की जात कहाँ ?

यूँ तो बाजी जीत चुका था एक चाल थी चलने की.
उफ़ वो अचानक राह पड़ जाना इश्क़ ने खाई मात कहाँ ?

झिलमिल-झिलमिल तारों ने भी पायल की झंकार सुनी थी.
चली गई कल छमछम करती पिया मिलन की रात कहाँ ?

-फ़िराक गोरखपुरी

नाच्यो बहुत गोपाल
Marchapril-16

नाच्यो बहुत गोपाल अब मैं
नाच्यो बहुत गोपाल ,
काम क्रोध को पिहर चोलना
कंठ विषय की माल,
अब मैं नाच्यो बहुत गोपाल
तृष्णा नाद करत घट भीतर
नाना विधि दे ताल,
भरम भयो मन भयो पखावज
चलत कुसंगत चाल,
अब मैं नाच्यो बहुत गोपाल
सूरदास की सबे अविद्या
दूर करो नन्दलाल,
अब मैं नाच्यो बहुत गोपाल।
-सूरदास