लेखनी/Lekhni-जनवरी / फरवरी16

                         सोच और संस्कारों की सांझी धरोहर
                               Bridging The Gap

Decjan 15

” चाँद पर घर और मंगल पर पानी

हवा में की हमने हजार बातें

और तरसती रही यह धरती

कही गोली कहीं गंडासे खाती ”

-शैल अग्रवाल

अंक 100 / वर्ष 9

इस अंक में:

कविता धरोहरः सूर्यकांत त्रिपाठी निराला । गीत और ग़ज़लः निदा फाजली। माह विशेषः शरणार्थीः शन्नो अग्रवाल, विमलेश त्रिपाठी, शैल अग्रवाल,शुभ्रता मिश्रा। कविता आज और अभीः किसकी धरतीः शैल अग्रवाल, राजेश्वर वशिष्ठ, ओम निश्चल, मायामृग, रामसिंह यादव ।

अपनी बात। मंथनः शैल अग्रवाल। कहानी धरोहरः त्रासः भीष्म साहनी। कहानी समकालीनः और जल गया उसका सर्वस्वः उषा राजे सक्सेना । कहानी समकालीनः बीजः शैल अग्रवाल। दो लघु कथाएँ: आलोक सातपुते। धारावाहिकः मिट्टी (अंतिम किश्त): शैल अग्रवाल । विमर्षः सुशील शर्मा । हास्य और व्यंग्यः गरीबी की कबहुँ बढ़े ना चोटीः अविनाश वाचस्पति। चांद परियाँ और तितलीः बसंत पंचमी और सरस्वती-शैल अग्रवाल, सरस्वती वंदनाः अ. कीर्तिवर्धन ।

In the English section

Favourite Forevour: Percy Blyth Shelley. Poetry Here & Now:

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*