कविता धरोहरःरूमी

 

 रूमीः अंतस्संगीतः अंग्रेजी से अनुवाद देवी नागरानी

180px-Persian_Molaaana_jpg

 

 

 

 

रूमी सूफ़ी दरवेश को पढ़ना एक अलग संसार में विचरना है, अपने आप से जुड़ने का पथ है. उनकी ३००० कावितायें “शम्स दीवान” से पाठकों को अध्यात्मक राह पर ठौर देती है और इस शोर के दौरान एक ख़ामोश संदेश भी देती है जो अंदर में तन्मयता प्रदान कर पाने में पहल करती है।

 

 

1.

ardhangini-1kerosene_jpg

मैं कौन हूँ?

जो मैं ‘मैं’ नहीं,

तो कौन हूँ मैं?

गर मैं वो नहीं जो बात करता हूँ,

तो कौन हूँ मैं?

गर ये ‘मैं’ सिर्फ़ वस्त्र हूँ,

तो कौन है

जिसका मैं आवरण हूँ?

 

 

2.

ardhangini-1kerosene_jpg

तुम मेरे हृदय की रोशिनी हो

और मेरे रूह का सुकून

पर! तुम उलझन पैदा करते हो

क्यों मुझसे पूछते हो

” क्या तुमने दोस्त को देखा है?”

जब तुम्हें अच्छी तरह मालूम है

कि दोस्त देखा नहीं जा सकता. 45

 

 

3.

ardhangini-1kerosene_jpg

तुम दुनिया की दौलत खोज रहे हो

पर सच्ची दौलत तो तुम हो.

अगर तुम्हें रोटी लुभाती है

तुम्हें सिर्फ़ रोटी मिलेगी

जो तुम चाहोगे

वही बन जाओगे. ७२

 

 

4.

ardhangini-1kerosene_jpg

मैं कवि नहीं हूँ

मैं कविता से

अपनी रोज़ी रोटी नहीं कमाता

मुझे अपने ज्ञान पर

शेखी बघारने की ज़रूरत नहीं

कविता तो प्यार का पैमाना है

जो मैं सिर्फ़अपने प्रियतम के

हाथ से स्वीकारता हूँ! १००

 

 

5.

ardhangini-1kerosene_jpg

हर शब्द के साथ

तुम मेरा दिल तोड़ते हो

मेरे चेहरे पर खून से लिखी हुई

मेरी दास्ताँ देख रहे हो!

क्यों मुझे अनदेखा करते हो

क्या तुम्हारा दिल पत्थर का है? १९

 

 

 

6.

ardhangini-1kerosene_jpg

प्रेम

पहले-पहले जब

प्रेम ने मेरे हृदय पर क़ब्ज़ा किया, तब

मेरे रोने की आवाज़ से

पड़ोसी रातभर जागते,

अब

मेरा प्रेम गहरा हुआ है

मेरा रोना थम गया है

जब आग भड़कती है

तो धुआँ ग़ायब हो जाता है. 81

 

 

 

7.

ardhangini-1kerosene_jpg

खामोशी

क्यों तुम खामुशी से इतना डरते हो?

खामुशी हर चीज़ की जड़ है

अगर

तुम उसके ख़ालीपन में घूमोगे

सौ आवाज़ें तुम्हे गरजते संदेश देंगी

जो तुम सुनना चाह रहे हो. 131

 

 

 

8.

ardhangini-1kerosene_jpg

 

मैं बिना शब्दों के

तुमसे बात करूँगा

सबसे छुपा रहकर

और कोई नहीं,

तुम सिर्फ़ मेरी कहानी सुनोगे

अगर मैं उस भीड़ के बीच में भी कहूँगा.112

 

 

 

9.

ardhangini-1kerosene_jpg

तन्हा न रहोगे

जो तुम प्रियतम को दोस्त बना लोगे

तुम कभी तन्हा न रहोगे

जो तुम लचीला होना सीख लोगे

तुम कभी मायूस न रहोगे

चाँद चमकता है, क्योंकि

वह रात से नहीं भागता

गुलाब महकता है, क्योंकि

उसने काँटों को गले लगाया है 134

 

 

 

10

ardhangini-1kerosene_jpg

लौट कर सो न जाना

शफ़क से पहले की ताज़गी

हर राज़ को समेटे है

वापस लौट कर सो न जाना

ये प्रार्थना का समाँ है

ये माँगने का समाँ है

यही हक़ीकत में तुम्हें चाहिए

वापस लौट कर सो न जाना

जिस ने रचना बनाई है

उसका दरवाज़ा हमेशा खुला रहता है

वापस लौट कर सो न जाना 35

 

 

 

11.

ardhangini-1kerosene_jpg

मैं एक शिल्पकार हूँ

रोज़ नये स्वरूप बनाता हूँ

पर जब मैं तुम्हें देखता हूँ

वे सब पिघल जाते हैं.

मैं एक चित्रकार हूँ

मैं अक्स बनाकर-

उनमें जान फूंकता हूँ

पर मैं जब तुम्हें देखता हूँ

वे सब अदृश्य हो जाते हैं.

ऐ दोस्त! तुम कौन हो

वफ़ादार प्रेमी या फरेबी दुश्मन

तुम वो सब बर्बाद करते हो

जो मैं बनाता हूँ

मेरी रूह तुमसे अंकुरित हुई है

और

उसमें तुम्हारी खुश्बू की महक है

पर तुम्हारे बिन

मेरा हृदय चूर-चूर है

दया करो लौट आओ

या

मुझे यह तन्हा वीराना छोड़ने दो! 15

 

 

 

12.

ardhangini-1kerosene_jpg

अगर तुम खुश्बू को साँसों में नहीं भरते

तो इश्क के गुलज़ार में मत जाओ

अगर तुम अपने आवरण नहीं उतार सकते

तो सच के सरोवर में मत उतरो

जहाँ भी हो वहीं रूको

हमारी राह मत आओ.

ह्रदय से होटों तक एक तार है

जहाँ ज़िन्दगी का तार बुना जाता है

शब्द तार को तोड़ देते हैं

पर

खामुशी में राज़ बोलते हैं. ९६

 

अगर तुम सही काम करना चाहते हो

अपना समस्त ह्रदयउसे दे दो

सिर्फबातकरने सेकुछ नहीं होता

पानी की एकबूँद घर के अंदर

बाहर कीबहती नदी सेबेहतर है. १०७

 

 

 

 

13.

ardhangini-1kerosene_jpg

मोती पाने के लिए

गहरे समुद्र में गोता लगाओ

मोती पाने के लिए

ज़िन्दगी के पानी में प्यासे उतर जाओ. १८०

 

 

 

अनुवाद: देवीनागरानी

पता: ९-डी॰ कॉर्नरव्यूसोसाइटी, १५/३३रोड, बांद्रा , मुंबई ४०००५० फ़ोन: 9987938358

 

 

 

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*