माह की कवियत्रीः पुष्पिता अवस्थी

कविता-आकांक्षा ।।
N0186 Colour lines
कविताएं
चेतना के एकांत प्रवास में
गलबहियां डाल
बतियाती हैं
आदमी के डरावने सच
मोहक फरेब
सुंदर संत्रास।
कविताएं
हृदय की सुकोमल हथेली में
खींच, जोड़ देती हैं
चिंता की कुछ गहरी रेखाएं
चाकू से बनी हो जैसे।
कविताओं को
पढते हुए
कवि की हथेली
नहीं बचती वैसी
जैसी कविता लिखने से पहले थी।
कविताएं बदल देती हैं—
कवि की आंखें
देखने का नजरिया
दुनिया को,
खुद को,
समय को।
 चुपचाप अंधेरा पीने के लिए ।।
N0186 Colour lines
तुम्हारी
आवाज के वक्ष से
लगकर रोई है
मेरी सिसकियों की आवाज
अक्सर
विदा लेते समय
अपनी सुबकियाँ
छोड़ आते हैं होंठ
तुम्हारे भीतर
तुम्हारी
हथेली के स्पर्श में
महसूस होता है
दिलासा और विश्वास का
मीठा और गहरा
नया अर्थ
मन गढ़ता है
मौन के लिए
नए शब्द
जिसे
समय-समय पर
सुनती है
मेरे सूने मन की
मुलायम गुहार
अपने थके कन्धों पर
महसूस करती हूँ
तुम्हारे कन्धे
जिस पर
चिड़िया की तरह
अपने सपनों के तिनके
और आँसू की नदी
छोड़ आती हूँ चलते समय
हर बार
(कैसे बहने से बचाओगे
मेरे सपने
मेरे ही आँसुओं की नदी से)
तुम्हारी दोनों
आँखों में
एक साथ है
सुबह का तारा
और सान्ध्य तारा
जिसे
मेरी आँखों की स्तब्ध अंजुलि में
सौंपकर
मुझे विदा करते हो तुम
अकेले
चुपचाप अँधेरा पीने के लिए ।
आत्‍मा की अँजुलि में ।।
N0186 Colour lines
आत्मा की
अंजुलि में
तुम्हारी स्मृतियों की
परछाईं है
जो घुलती है
आत्मा की आँखों में
और आँसू बनकर
ठहर जाती है
कभी आँखों के बाहर
कभी आँखों के भीतर
तुम्हारी आत्मा के
अधरों में धरा है प्रणयामृत
शब्द बनकर
कभी होंठों के बाहर
कभी होंठों के भीतर
तुम्हें लखते हुए
आँखें खींचती हैं तुम्हें
सघनतम प्राण-ऊर्जा से
आँखों के भीतर
कि तुम्हारी अनुपस्थिति के क्षण को
जी सके एकाकी आत्मा
जैसे चाँद सारी रात
उजलता हुआ भटकता है
बस भटकता है सारी रात
दिन के उजाले में
खोकर भी खोजता है
तुम्हें और तुम्हारा बजूद
चाँद के साथ
तारों-सितारों की
घनी बस्ती है
सप्तर्षि से लेकर
ध्रुव तारा तक
आकाश-गंगा
और मंगल-ग्रह तक
पर चाँद के लिए
कोई प्रणय गंगा नहीं
कोई सहचर-सरिता नहीं
चाँद ऐसे में
जनता है अपने ही अस्तित्व में
अपनी ज्योत्स्ना
अपने लिए अपनी चाँदनी
चाँद उसमें खोता है
और चाँदनी उसमें
कहीं ऐसे ही
तुम मुझमें
और
मैं तुममें तो नहीं ।
अनुपस्‍थिति के घर में ।।
N0186 Colour lines
तुम्हारी उपस्थिति का सुख
तुम्हारी अनुपस्थिति में
बनता है मेरे भीतर
सूनेपन का
एकांत अकेलापन
अपने प्रवास के कारण
अतिथि नहीं रहता है
डर
दिशाओं का अँधेरा
समेटकर
गठरी बनाकर
सिरहाने रखकर
सुस्ताता है
लोकव्यथा के शब्द बुदबुदाता
सन्नाटे का
भयानक शोर
हदस की धुंध
बनकर घुस आता है
आँखों में
अनुपस्थिति का
सिर्फ कसैला कोहरा होता है
जिसमें डर का
घर नहीं दिखता है
पर डर का घर होता है
जिसमें घुटन बसती है
तुम्हारी अनुपस्थिति में
मन की पृथ्वी पर
कोई सृष्टि नहीं होती है
दृष्टि में सिर्फ
पक्षियों की फड़फड़ाहट
नदी का दुःख
पेड़ का मौन
सागर की बेचैनी
तूफान की आग
ऋतुएँ के मन की
बंजर होने की खबर
सिर्फ फैली-उड़ती दिखती हैं
तुम्हारे जाने के बाद
सुख में तब्दील
हवा की हथेलियों के
झोंके की अंजुलि में
भरकर
पहुँच जाना चाहती हूँ
तुम्हारी साँसों में
एक ऋतु के रूप में
आकार लेकर
एक ऋतु की तरह फैल जाना चाहती हूँ
तुम्हारे भीतर
अपना पुनर्जन्म पाकर
फिर से
जीना चाहती हूँ तुममें
जैसे पृथ्वी पर ऋतु
पुनः पुनः
प्रतिवर्ष ।
जहॉं न पाखी पहुंचते हैं न पंख ।।
N0186 Colour lines
तुम्हारे साथ
प्रणय की परिक्रमा
कि जैसे पृथ्वी की प्रदक्षिणा
सूर्य के चतुर्दिक
तुम्हारे साथ
सौर-मंडल के सारे नक्षत्र
दृष्टि और स्पर्श की परिधि में सिमटे
दीप्ति-आलिंगन में हम दोनों को
समेटते हुए जैसे चमकते
तुम्हारे साथ
नक्षत्रों की मुस्कुराहट की चमक का रहस्य
तुम्हारी साँसों में
प्रणय-शब्द सा अर्थ-सुख
अमूर्त पर मूर्त
प्रणय-शिल्पी की अनुभूतियों की प्रतिमूर्ति-मूर्तित
सजग और सजल
तुम्हारे साथ
घूम आती हूँ कभी
मछली-सी
सागर की अतल गहराइयों को जीती-छूती
उड़ आती हूँ कभी
पक्षी-सी
अनाम ऊँचाइयों के सहृदय रंगीन आकाश में
तुम्हारे साथ
प्रणय की परिक्रमा
हाथ थाम ले जाती है मुझे वहाँ
जहाँ न पाखी पहुँचते हैं, न पंख
न मछली पहुँचती है, न जल
न शब्द पहुँचते हैं, न अर्थ
न शोर पहुँचता है, न मौन
तुम्हारे साथ से
प्रणय-सौरमंडल
सरस इंद्रधनुषी नक्षत्र-लोक
जिसे
तुम्हारे नाम से जानती हूँ मैं
जिसकी ऊर्जा

तुम्हारे ऊष्म स्पर्श से पहचानती हूँ मैं ।

 आत्‍मा के समुद्र की व्‍याकुल आहटें ।।
N0186 Colour lines
मन मछली को
देह नदी से निकालकर
डुबा देना चाहती है वह
आत्मा के समुद्र में
क्योंकि
रेत नदी है   देह
सूखी और प्यासी
मन के उजाले को
देह के अन्ध-अँधेरे कोटर से निकाल
सूर्य-रश्मि बन
लौट जाना चाहती है वह
सूर्य-उर में
अन्तहीन अँधेरी सुरंग है देह
पथहीन
मन की धड़कनों की
ध्वनियों में
रचना चाहती है
तुम्हारे नाम के पर्यायवाची शब्द
उन शब्दों में रमाकर
अपनी धड़कनों को
भूल जाना चाहती है ‘स्व’ को
और महसूस करना चाहती है
ऋचा की पवित्र अनुगूँज की तरह तुम्हें
मिथ्या-शब्दों के छल से दग्ध आत्मा को
निकाल लेना चाहती है
तुम्हारे नाम से
तुम्हारी साँसों से
अपनी संतप्त धड़कनों के बाहर
मन की साँसों से
ऋतुओं के प्राण को
खिला देना चाहती है
देह-पृथ्वी के अनन्य कोनों में
तुम्हारी कोमलता की हथेली में
लिख देना चाहती है वह
अपने अधरों से
कुछ प्रणय-सूक्त
तुम्हारे नाम की
पवन-धारा में
नहा आई साँसों को
लगा देना चाहती है
प्रणय-देह-शंख में
जीवन-जय-घोष के लिए
मन-देह को
प्रणय-शब्द-देह में
घिस-घुला देना चाहती है
चन्दन की तरह
वह
चुपचाप
स्वर्ण शहद में तब्दील हो जाना चाहती है
सुख के शहद को जानने के लिए ।
समय की असलियत ।।
N0186 Colour lines
समय
चिड़ियों की तरह
उड़ता है–
हम सबके ऊपर और सामने
समय
बनाता है—घोंसले
घर
शहर
देश
सेता है—सर्वस्‍व
चिड़ियों की तरह
समय
चिड़ियों सरीखा
उड़ता और मँडराता है–
महाराजाओं की मूर्तियों की शीश पर
बैठता है अपनी उजली स्‍याह बीट के लिए
समय की सच्‍चाई का प्रतीक
समय तथाकथित खंडहरों
किलों
संग्रहालयों
और ऐतिहासिक मूर्तियों पर
जमाता है—काई
उड़ाता है धूल गर्द
और बनाता है –दरारें
समय
धीरे धीरे
सब कुछ मिटाता है
बचाने की लाख कोशिशों के बावजूद।
अधरों पर झरी हुई हँसी की स्मृति में ।।
N0186 Colour lines
तुम्हारी आँखों के सामने
मेरा उदास अँधेरा होगा
काई ढके मौत के काले तालाब से
निकला हुआ
ठिठकी हुई
ओस में
मेरे आँसू की
सिसकियों को घुलते हुए
देखती होंगी तुम्हारी आँखें
हरी दूब पर
झर रही
सुबह की धूप में
तुम्हारे होने की खुशी में
झरी हुई मेरी हँसी की स्मृति में
चुनते होंगे सूर्य-रश्मि
झरे हुए हरश्रृंगार के फूल की तरह
जैसे मैं अकेले में
तने पीपल के पेड़ की
एक शाख पर लटके
मधुमक्खी के मौन शहदीले छत्ते को
देख तुम्हारी स्मृतियों में से
कुछ बूँद शहद की
गिर-टपकी होंगी
तुम्हारे सूखे अधरों पर
जो याद में
प्रायः हलक तक को
सुखा देती हैं
तुम्हारी हथेलियों की चाह की
कोमल विकलता में
कितना भरोसा देता है चाँद
गहरी आधी रात में
अकेलेपन की ठिठुरन में
जब सारी उम्मीदें
बनावटी कागज का घर लगती हैं ।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*