कविता धरोहरः सर्वेश्वरदयाल सक्सेना, प्रसाद, सुमन/ लेखनी जून/ जुलाई 2015

 

एक सूनी नाव

ganga-3 july8

एक सूनी नाव

तट पर लौट आई।

रोशनी राख-सी

जल में घुली, बह गई,

बन्द अधरों से कथा

सिमटी नदी कह गई,

रेत प्यासी

नयन भर लाई।

भींगते अवसाद से

हवा श्लथ हो गईं

हथेली की रेख काँपी

लहर-सी खो गई

मौन छाया कहीं उतराई।

स्वर नहीं,

चित्र भी बहकर

गए लग कहीं,

स्याह पड़ते हुए जल में

रात खोयी-सी

उभर आई।

एक सूनी नाव

तट पर लौट आई।

-सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

 

 

 

 

ले चल वहाँ भुलावा देकर

ganga-3 july8

ले चल वहाँ भुलावा देकर,

मेरे नाविक! धीरे धीरे।

 

जिस निर्जन मे सागर लहरी।

अम्बर के कानों में गहरी

निश्‍चल प्रेम-कथा कहती हो,

तज कोलाहल की अवनी रे।

 

जहाँ साँझ-सी जीवन छाया,

ढोले अपनी कोमल काया,

नील नयन से ढुलकाती हो

ताराओं की पाँत घनी रे ।

 

जिस गम्भीर मधुर छाया में

विश्‍व चित्र-पट चल माया में

विभुता विभु-सी पड़े दिखाई,

दुख सुख वाली सत्य बनी रे।

 

श्रम विश्राम क्षितिज वेला से

जहाँ सृजन करते मेला से

अमर जागरण उषा नयन से

बिखराती हो ज्योति घनी से!

-जयशंकर प्रसाद

 

 

 

 

तूफानों की ओर

ganga-3 july8

तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार

आज सिन्धु ने विष उगला है
लहरों का यौवन मचला है
आज ह्रदय में और सिन्धु में
साथ उठा है ज्वार

तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार

लहरों के स्वर में कुछ बोलो
इस अंधड में साहस तोलो
कभी-कभी मिलता जीवन में
तूफानों का प्यार

तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार

यह असीम, निज सीमा जाने
सागर भी तो यह पहचाने
मिट्टी के पुतले मानव ने
कभी ना मानी हार

तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार

सागर की अपनी क्षमता है
पर माँझी भी कब थकता है
जब तक साँसों में स्पन्दन है
उसका हाथ नहीं रुकता है
इसके ही बल पर कर डाले
सातों सागर पार

तूफानों की ओर घुमा दो नाविक निज पतवार ।

-शिवमंगल सिंह सुमन

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*