हायकूः सूरज- सरस्वती माथुर, शैल अग्रवाल

( हायकू)

“सूरज एक रंग अनेक !”


नभ ने खोली
सूर्य की पोटली तो
धूप निकली

सूर्य वंदना

सूर्य पेड़ से
धूप के पत्ते गिरे
हवा में उड़े

सूर्य वंदना

सूर्य झरना
सहस्त्रधार धूप
धरा पर लुढकी

सूर्य वंदना

सूर्य निकला
स्वर्णिम रथ पर
सागर पार

सूर्य वंदना

पहाड़ों तक
विदाई ले शाम से
सूरज लौटा

सूर्य वंदना

अलसुबह
सूर्य के कंधे चढ़
उषा उतरी

सूर्य वंदना

कांपे कोहरा
जाड़ों की दुपहरी
सूर्य न आया

सूर्य वंदना

धूप रेवड
गडरिया सूरज
हांक ले गया

सूर्य वंदना

किरणे बुने
सूरज चरखे पर
पूनी सी धूप

सूर्य वंदना

पंखुरी उडी
सूर्य हवा चली तो
ओस फूल की

सूर्य वंदना

धूप का लगा
उबटन- सूरज ने
रूप निखारा

सूर्य वंदना

बूढा सूरज
सांझ की लाठी थाम
घाटी उतरा

डॉ सरस्वती माथुर

सूर्य देवता
अंधेरे को बुहारें
उजरा रूप


रंग औ रूप
जीवन स्पंदन
इन्ही के बल

समदर्शी हैं ज्योति से मंडित
निष्काम कर्म

प्राण जग के
चहचह विहग
रवि को देख

आस सूरज
दुनिया एकटक
सूरजमुखी

-शैल अग्रवाल

अल्ल सबेरे
पाहुन मनभावन
जग के द्वारे

रथ में भर
उपहार रोशनी का
लाए सूरज।

सूर्य वंदना

अवगुंठित थीं
शरमीली कलियाँ
ओस को ओढ़े

मन इनके
रूप गंध से भर जाए सूरज

सूर्य वंदना

हंसती उषा
खिलखिलाती हवा
कौतुक देखें

सूर्य वंदना

गीत मधुर
पंछी-पंछी संग ले
गाए सूरज।

सूर्य वंदना

जगमग ये
नभ पर दमके
अंधेरा हारे

सूर्य वंदना

सबके लिए
बराबर रौशनी
लाए सूरज।

सूर्य वंदना

सांझ सुन्दरी
चूनर तारोंवाली
ओढ़ के आई

सूर्य वंदना

चांद सलोना
गोदी में दे हर्षित जाए सूरज।

-शैल अग्रवाल

error: Content is protected !!